होटल वाले से मेरा झगड़ा हो चुका है – राजेन्द्र सिंह बेदी

1 min


abcd

 

मायापुरी अंक 16.1975

मशहूर लेखक, निर्देशक राजेन्द्र सिंह बेदी हंसाने में बड़े मशहूर हैं। जब तक आप उनके साथ रहेंगे वह आप को हंसाते रहेगे। उस दिन जब उन्हें डाची फिल्म के ऑफिस में मिला तो बोला “चाय के सिवाय जो पीना हो, बताओ। “चाय क्यों नही ? मैंने पूछा।

“इसिलए कि कुछ देर पहले होटल वाले से मेरा झगड़ा हो चुका है चाय के ऊपर।

मेरे पूछने पर बेदी साहब ने बताया। कुछ समय पहले एक दोस्त उन्हें मिलने आये तो बेदी साहब ने चपरासी भेज कर सामने वाले होटल से दो कप चाय मंगवाई। चाय आने पर उन्होनें देखा कि एक कप में मक्खी पड़ी है तो वे गर्म हो गए। उन्होनें वह कप चपरासी के हाथ वापिस भेजते हुए कहा कि होटल वाले को खूब डांटो और कहना कि उसके गन्दे होटल से वह दोबारा चाय नही मंगवायेंगे।

थोड़ी देर बाद बेदी साहब क्य देखते हैं कि होटल का मालिक वही चाय का कप लिए बड़बड़ाता हुआ चला आ रहा है, “क्या बात करते हैं सरदार जी, आप हमारे होटल को यूं ही बदनाम करते हैं। यह आपके लिए अच्छा नही है। मैं कसम खाकर कह सकता हूं यह तो हमारे होटल की मक्खी ही नही है।

बेदी साहब से मिलकर जब मैं बाहर आया तो मुझे ध्यान आया कि उनके बेटे नरेन्द्र बेदी ने भी बेदी साहब को डाची फिल्म से ऐसे अलग कर दिया है जैसे दूध में से मक्खी!


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये