राम माधवानी ने अपने मल्टीप्लेयर ऑनलाइन बैटल अरिना (Moba) गेम का शीर्षक रखा-‘‘गुरुधर्माः वीरों का युग’’

1 min


राम माधवानी ने विज्ञापन और हिंदी फिल्मों की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। अपनी राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म “नीरजा” के बाद भी उन्हने अनेक स्तरों पर प्रशंसा बटोरना जारी रखा, जिसमें आर.एम.एफ बैनर के तहत आर्या (सीजन एक) नामक एक वेब सीरीज और एक हिंदी फीचर फिल्म “धमाका” शामिल है। अपने रचनात्मक क्षितिज का विस्तार करने के लिए आगे बढ़ते हुए, राम अब ‘इक्विनॉक्स वर्चुअल‘ के साथ गेमिंग की दुनिया में कदम रख रहे हैं।

फिल्म”नीरजा”व अन्य फिल्मों का सह निर्माण कर चुकी अमिता माधवानी इन दिनों ‘आर्या ’वेब सीरीज के दूसरे सीजन की षूटिंग कर रही हैं। अमिता आरएमएफ के तहत धमाका और सोनी पिक्चर्स के साथ डाइव ऐसे दो फिल्मों में सक्रिय है। इतनी कामयाबी के साथ आगे बढ़ाते हुए अब वह भी गेमिंग उद्योग में अपनी पहचान बनाने जा रही है।

गुरुधर्मा Moba। प्रकार में एक विशिष्ट भारतीय खेल है,जिसे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर हिंदी, तमिल, तेलुगु और अंग्रेजी में उपलब्ध किया जाएगा। ‘गुरुधर्मा‘ भारतीय पौराणिक कथाओं में वीर महिला और पुरुष योद्धाओं पर आधारित है। रोमांचक चुनौतियों और पुरस्कारों की एक विस्तृत श्रृंखला प्राप्त करते हुए खिलाड़ी प्राचीन एवं बहादुर योद्धाओं के समान शक्तिशाली महसूस करेंगे। इस खेल की कहानी हमें उस रहस्यमय और खगोलीय व स्वर्गीय विश्व का अनुभव कराएगी जिससे हम सभी कही न कही जरूर परिचित हैं। योद्धाओं और राक्षसों जैसे विविध पत्रों से भरपूर यह खेल हमें अद्वितीय शक्तियां, युद्ध और रक्षा का अनुभव देगा। ब्रम्हांड का यह खेल और इसकी कथा हमे हमारी खुद की कहानियों से बहुत कुछ सीखने का मौका देगी और इस संसार का अन्वेषण करने में जरूर हमारी सहायता करेगा।

राम माधवानी कहते हैं- एक रचनात्मक और कहानी कहने के दृष्टिकोण से गुरुधर्म यह खेल ‘मल्टीप्लेयर ऑनलाइन बॅटल अरिना’ प्रकार का विश्व में पहला कदम है। आगे चलते जैसे वर्चुअल गेमिंग का विकास होगा और नए खेल लॉन्च होंगे तो ‘मल्टीप्लेयर ऑनलाइन बॅटल अरिना’का यह विश्व अपने आप ही कई गुना विस्तारित होगा।

अमिता माधवानी कहती हैं- सीखना निरंतर है और ज्ञान प्राप्त करना दिव्य है- गुरुधर्मा का निर्माण करना और योद्धाओं और राक्षसों के अपने अलग विश्व को आम जनता के लिए लाना हमारी पौराणिक कथाओं से जुड़ी विद्या सभी आयु समूहों तक पहुंचाना यह हमारा लक्ष्य है!

अपनी रचनात्मक और तकनीकी विशेषज्ञता के साथ ‘गुरुधर्मा’ को ऊँचे स्तर पर ले जाने का कार्य करने वाले प्रसिद्ध निर्माता, ख्वाफर वखारिया कहते हैं- गुरुधर्मा की दुनिया की कल्पना करना और एक हकीकत में उतरना हमारे लिए एक रोमांचक व साहसिक कार्य है। यह प्राचीन ज्ञान और अवधारणाओं का अभ्यास करने का एक मजेदार और आकर्षक तरीका है। हम इससे सीखते हैं-और ज्ञान बढ़ाते हैं।‘

SHARE

Mayapuri