दीवाली त्यौहार तमाम यादों के साथ जुड़ा त्यौहार है कंगना रनौत

1 min


कंगना रनौत:–दीपावली त्यौहार, जीवन की तमाम यादों के साथ जुड़ा एक ऐसा त्यौहार है जिस की आहट से ही दिल खुशी से झूमने लगता है। यह त्योहार बचपन में मासूम मन से मनाई गई दिवाली होती थी जिसमें सिर्फ और सिर्फ एंजॉय करने की भावना होती थी। वह त्यौहार के दिन आज भी याद है। मैं दीपावली अपने परिवार के साथ मनाती हूं लेकिन अगर जरुरी काम आ जाए तो मिस करना पड़ता है। वैसे तो मैं बिन्ज इटिंग (बिना सोचे समझे हर टेस्टी खाना गटकना) नहीं करती, लेकिन दीपावली का उत्सव वो मौका है जब सारे रेस्ट्रिक्शन ताक पर  रखकर तरह तरह की डेलिकेसीज़ एन्जॉय की जाती है और मैं ऐसा ही करती हूँ। दिवाली के उत्सव पर ट्रेडिशनल पोशाक में हाथों में झिलमिलाते दीए थामे, द्वार की रंगोली के चारों ओर दियों की कतारें सजाना कितना अच्छा लगता है। इस अवसर पर मै अपने परिवार के साथ और इंडस्ट्री के मित्रों की दिवाली पार्टी में शामिल होकर एन्जॉय करती हूँ। मुझे पटाखों का शौक नहीं, बल्कि मै आप सबसे गुजारिश करती हूँ कि खतरनाक पटाखें फोड़कर अपने वातावरण को दूषित ना करें, इससे आपको भी खतरा है और परिवेश को भी। हैप्पी दिवाली आप सबको। फुल एन्जॉय कीजिये पर ध्यान से। पाठकों को पता होगा कि कंगना की बहन का नाम रंगोली है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये