मेरी और दत्त साहब के उम्र में जमीन आसमान का फर्क है – रीना रॉय

1 min


044-34 reena roy

 

मायापुरी अंक 44,1975

रीना रॉय छायाकर मल्होत्रा के लड़के नरेश और निर्माता निर्देशक राजेन्द्र भाटिया के बेटे बिमल की मिली-जुली ‘अजब तेरी सरकार’ फिल्म की फेमस में शूटिंग कर रही थीं। रीना हेयर ड्रेसर बाहर घूम रही थीं। हम समझ गए अभी शूटिंग में देर है। और दरवाजा खट खटाकर रूम में पहुंच गए। औपचारिक बातों के बाद हमने कहा।

‘उम्र कैद’ में आपको देखकर बड़ी निराशा हुई। एक तरफ तो यह सुना जाता है कि सुनील दत्त आप पर मेहरबान हैं। और दूसरी ओर उनके साथ यह दुर्गति देखकर अफसोस भी होता है। क्या आप सभी फिल्मों में ऐसे और इतने जरा से रोल कर रही हैं?

जो लोग मेरा नाम दत्त साहब के साथ जोड़ते हैं वे शायद भूल जाते हैं कि दत्त साहब की उम्र में और मेरी उम्र में जमीन-आसमान का फर्क है। वह मेहरबान जरूर हैं लेकिन सिर्फ इस हद तक कि मुझें अच्छे रोल मिल सकें। उन्होंने उस समय मुझें हीरोइन बनाने के लिए वचन दिया था। जब मैंने फिल्म अभिनेत्री बनने के सपने पूरी तरह से भी नही देखे थे। और आज वह अपने वायदे पूरे कर रहे हैं। मेरी सब फिल्मों में मेरे विभिन्न रूप है। यह रोल दत्त साहब की वजह से कर लिया था। वरना में ‘जख्मी’ में एक मॉर्डन लड़की बनी हूं। ‘डाकू और जवान’ में उनके विपरीत एक ग्रामीण युवती की भूमिका निभा रही हूं ‘काली चरण’ और ‘बदला और बलिदान’ में रोमांटिक भूमिकायें हैं कितुं कुछ अलग हट कर। दरअसल आजकल हमारे यहां जितनी भी फिल्में बनती हैं वह नायक प्रधान होती हैं। हीरोइनें तो वे नाम मात्र के रोल के लिए ही लेते हैं। इसलिए जहां दर्शकों को निराशा होती है, हमें भी निराशा होती है। क्योंकि बुनियादी तौर पर हर कोई स्टार नही ‘आर्टिस्ट’ बनना चाहता है। मगर रोल ही न मिले तो मैं या और कोई क्या कर सकता है। हां, अच्छा रोल मिला तो मैं दिखा दूंगी कि मैं क्या कर सकती हूं। रीना रॉय ने कहा।

यदि ऐसी बात है तो आपने थोक के भाव इतनी सारी फिल्में ले क्यों रखी हैं? आपको सही फिल्में लेनी चाहिए जिनमें कुछ कर दिखाने का अवसर मिले हमने कहा।

अगर ऐसा करूंगी तो हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाना पड़ेगा। फिर कोई निर्माता मेरे पास नही आएगा। और बदनाम अलग करेंगे कि रीना बहुत भाव खाती हैं। बड़ी घमंडी हो गयी हैं। इसलिए इंडस्ट्री वालों को अपने अस्तित्व का अहसास दिलाने के लिए किसी भी प्रकार व्यस्त रहना बड़ा ज़रूरी है। और यह इसलिए भी ज़रूरी है कि किसी को यह पता नही होता कि कौन-सी फिल्म चलेगी-कौन सी नही चलेगी। रीना रॉय ने बताया।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये