पब्लिसिटी का अन्दाज पसंद नही ना़जनीन

1 min


nazneen-5
नाज़नीन से ‘हैवान’ की शूटिंग के दौरान मुलाकात हुई। हमने उससे कहा। ‘फौजी’ और ‘समन्दर’ के रशेज देखने के बाद ऐसा लगता है आप भी अब ग्लैमर की दौड़ में शामिल हो गई हैं।
मुझे मजबूरन शामिल होना पड़ा है क्योंकि इसके बिना कोई ध्यान क्योंकि इसके बिना कोई ध्यान नहीं देता। ‘कोरा कागज’ में लोगों ने मेरे काम को पसंद किया लेकिन बहन के सिवा हीरोइन का ऐसा रोल किसी ने नही किया जिससे में अपने टैलेन्ट दिखा सकती मुझे ‘समंदर’ की ऑफर आई तो स्वीकार कर ली ताकि लोगों को बता सकूं कि मैं यह भी कर सकती हूं। मैंने जो कुछ किया है। अपनी मर्जी से किया है। लेकिन जिस अंदाज से उसकी पब्लिसिटी की गई है मुझे वह अच्छा नही लगा। नाजनीन ने बताया।
आपको सत्येन बोस जैसे निर्देशक ने ब्रेक दिया था। इसके बावजूद आप अच्छे और बड़े बैनर में नहीं ली गई इसकी क्या वजह है? हमने पूछा।
ग्रुपबंदी! नाजंनीन ने कहा। दरअसल यहां जब तक किसी नए कलाकार की पिक्चर हिट न हो, बड़े लोग उसे नहीं पूछते। ऋषिकेश मुखर्जी इतने बड़े निर्देशक हैं किंतु वह भी आज तक नाम वाले सितारे लेकर ही फिल्म बनाते हैं। कलाकार खुद चाहे कितना ही योग्य हो जब तक अच्छा निर्देशक नही मिलेगा, वह अपना लोहा नही मनवा सकता। मैं भी ऋषिदा जैसे निर्देशक के साथ काम करने के इंतजार में हूं अगर दो एक साल तक मुझे अपने मकसद में सफलता नही मिली तो लाइन छोड़ दूंगी नाजनीन ने कहा।
‘समंद्र’ के बाद तो आपको ग्लैमरस भूमिकाएं जरूर मिलेंगी। क्योंकि आजकल निर्माता ऐसी ही हीरोइन चाहते हैं। हमने कहा।
इसकी कोई गारंटी नहीं है। रेहाना सुल्तान ने चेतना में बोल्ड़ एक्टिंग की थी। किंतु आज रेहाना को टाइप्ड कर दिया। दर्शकों में उसकी एक विशेष प्रकार की इमेज बन गई। और वह ऐसी इमेज थी कि दर्शक उससे अधिक से अधिक सैक्स की अभिलाषा करने लगे। और यही चीज रेहाना को नुकसान दे गई। अच्छी अभिनेत्री होने के बावजूद उसे जहां पहुंचना था नही पहुंच पाई। लेकिन मैं फिर भी निराश नही हूं। नाजंनीन ने कहा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये