नीतू सिंह बढ़ा रही अपने परिचय का दायरा

1 min


neetu-singh-102

 

मायापुरी अंक 14.1974

कुछ अरसे पहले नीतू सिंह सुबह उठने से लेकर रात सोते वक्त तक अपनी मां की छत्रछाया में रहती थी। बगैर उनके इशारे वह किसी से भी खुलकर बात तक नही कर पाती थी। इंटरव्यू भी मां के सामने देती थी और हर सवाल का जवाब देने पर मां की ओर देख लेती थी कि उसने ठीक से उत्तर दिया भी या नही, पर अब कुछ ही दिनों से वह ऐसा व्यवहार करने लगी है गोया अब उसे अपनी मां की परवाह नही है। सुनते है चिंटू या डब्बू के साथ शूटिंग होते समय वह ज्यादा खुल कर बातें करती है और शूटिंग खत्म होते ही हीरो की मोटर में बैठ कर चली जाती है यह भी चर्चा है कि वह अब अपने प्रिय लोगों को सीधा फोन करने लगी है। एक धनी मारवाड़ी युवा सेठ जो एक प्रकाशन संस्था के मेनेजिंग डायरेक्टर है नीतू सिंह पर फिदा है जिनके साथ अब उसकी गहरी दोस्ती हो गयी बताते है। अब तक आशा के अनुकुल रातों रात सुपर स्टार न बनने से नीतू सिंह काफी निराश है और शायद इसी कारण वह अपने परिचय का दायरा तेजी से बढ़ा रही है ताकि आगे चल कर उसके उद्देश्य की पूर्ति में किसी तरह की बाधा न हो।

SHARE

Mayapuri