रीमा सेन

1 min


रीमा सेन ने बॉलीवुड में काफी संघर्ष किया

रीमा सेन का जन्‍म 29 अक्‍टूबर 1981 को कोलकाता में हुआ इन्होंने कोलकाता के सेंट थॉमस स्‍कूल से पढ़ाई की व इनकी शाद्दी 2012 में बिजनेसमैन शिव करन सिंह से हुई और 2013 में 22 फरवरी को रीमा ने अपने बेटे रुद्रवीर को जन्‍म दिया और वो अपनी फैमिली के साथ बहुत खुश हैं ।

रीमा सेन ने अपने कैरियर की शुरुआत मॉडलिंग से की थी व कई एड फिल्‍म और म्‍यूजिक वीडियो का हिस्‍सा बनने के बाद रीमा ने साल 2000 में सुपरहिट तेलुगु फिल्‍म ‘चित्रम’ से अभिनय की दुनिया में कदम रखा । इस फिल्‍म में जानकी के किरदार में उन्‍हें खूब सराहना मिली व फिर उन्होंने 2001 में हिंदी सिनेमा में कदम रखा। उन्‍हें फरदीन खान के अपोजिट फिल्‍म ‘हम हो गए आपके’ में कास्‍ट किया गया लेकिन फिल्‍म फ्लॉप हुई और इसके साथ ही रीमा के करियर पर भी शुरुआती प्रश्‍नचिन्‍ह लग गया लेकिन उन्होंने फिर से कोशिश की और 2002 में रिलीज हुई सनी देओल की फिल्‍म ‘जाल’ द ट्रैप’ से रीमा ने एक बार फिर हिंदी फिल्‍मों में वापसी की, लेकिन इस बार भी बात नहीं बनी  लेकिन बात नहीं बन पाई फिर वो 2003 में आई अक्षय कुमार और सुनील शेट्टी की फिल्‍म ‘आन: मेन एट वर्क’ से रीमा ने एक बार फिर हिंदी फिल्‍मों में वापसी की कोशिश की, लेकिन उन्‍हें निराशा हाथ लगी. साल 2006 में आई फिल्‍म ‘मालामाल वीकली’ में रितेश देशमुख के अपोजिट रीमा के रोल को थोड़ी सराहना जरूर मिली । लेकिन तमिल फिल्मो ने इन्हें हमेशा सहारा दिया जैसे इसी साल तमिल फिल्‍म ‘वल्‍लवन’ में उन्‍हें बेस्‍ट विलेन का अवॉर्ड मिला । लेकिन इन्होंने कभी हर नहीं मानी और प्रयास करती रही और फिर साल 2010 में आई अजय देवगन की फिल्‍म ‘आक्रोश’ में  रीमा सेन ने जमुनिया का किरदार निभाया जिसे काफी पसंद किया गया  लेकिन हिंदी फिल्‍मों में रीमा को सही मायने में 2012 में रिलीज फिल्‍म ‘गैंग्‍स ऑफ वासेपुर’ और इसके सीक्‍वल से पहचान मिली. फिल्‍म में रीमा ने सरदार खान की दूसरी बीवी दुर्गा का किरदार निभाया । इसके अलावा रीमा अभी भी साउथ की फिल्मो में काम कर रही हैं इनकी अपकमिंग फिल्मस हैं तोज़हान और राजकुमारी।

SHARE

Mayapuri