मूवी रिव्यू: इस बार निराश करती है ‘रॉक ऑन 2’

1 min


रेटिंग 00

शूजात सौदागर की फिल्म ‘रॉक ऑन 2’ रिलीज से पहले एक नहीं कई पचड़ों में फंसती दिखाई दे रही है जैसे पीएम मोदी द्धारा अचानक करेंसी कैंसिल होने की वजह दर्शकों का अभाव, दूसरे फिल्म के राइटर अभिषेक कपूर द्धारा दूसरे राईटर का नाम दिये जाने के खिलाफ यचिका दर्ज। सबसे बड़ी वजह रही कि फिल्म दर्शकों की पसंद पर खरी साबित नहीं हो पा रही है।

कहानी

फरहान अख्तर अपने बैंड के खत्म होने के बाद मेघालय में सैटल हो वहां अनाथ बच्चों की देखभाल करने लगता है। बीच बीच में वो मुबंई आता जाता है। यहां वो अपने पुराने साथियों अर्जुन रामपाल, पूरब कोहली तथा शंशाक अरोड़ा के साथ एक नया बैंड बनाता है। शिलांग में श्रद्धा कपूर और उसके भाई की रूचि रॉक म्यूजिक में है लेकिन उनका पंडित पिता कुमुद मिश्रा रॉक म्यूजिक को म्यूजिक ही नहीं मानता। फरहान अपने साथियों के साथ अपने बैंड की शुरूआत शिलांग में करता है। उसके पास श्रद्धा का भाई अक्सर आकर अपने म्यूजिक के बारे में बात करता रहता  है लेकिन जब हर बार फरहान उसे नजरअंदाज करता है तो वो उसे कहता हैं आज तुम मुझे नजरअंदाज तो कर रहे हो लेकिन कल जब मैं नहीं रहूंगा तो बहुत पछताओगे। बाद में जब फरहान उसका डेमो सुनता है तो उसे पता चलता हैं कि वाकई वो एक बढ़िया रॉक सिंगर है लिहाजा वो उसे तलाश करने की कोशिश करता है लेकिन इस बीच श्रद्धा का भाई फ्रस्टेटिड हो आत्म हत्या कर लेता है। एक बार ऐसे ही परेशानियों से घिरा फरहान सोसाईट करने की कोशिश करता हैं तो श्रद्धा उसे बचा लेती हैं और कहती हैं कि इसी तरह मेरा भाई भी इस दुनिया से चला गया। दरअसल फरहान की बीवी प्राची देसाई भी उसके बैंड प्रेम से खफा होकर उसे छोड़कर चली जाती है। बाद में फरहान श्रद्धा को अपने बैंड में शामिल कर लेता है। एक बार एक भ्रष्ट नेता गरीबों के घर जला कर उनकी जमीन पर कब्जा करने की कोशिश करता है तो फरहान उसके खिलाफ हो एक बड़ा कन्सर्ट करता है लेकिन इस प्रोग्राम को उस नेता के लोग खराब करने की कोशिश करते हैं लेकिन पब्लिक उसकी साहयता कर उसे कामयाब बनाने में मदद करती है।rok

निर्देशन

फिल्म की सबसे बड़ी कमजोरी फिल्म में कहानी का न होना है यानि कथा पटकथा कमजोर लेकिन संवाद अच्छे है। इसके अलावा रही सही कसर फरहान  और अभिषेक कपूर के झगड़े ने पूरी कर दी। दरअसल फिल्म की कहानी अभिषेक कपूर की थी लेकिन फरहान ने उसके साथ एक नाम पूबाली का भी जोड़ दिया। यहां अभिषेक ने एतराज उठाते हुये इसके खिलाफ कोर्ट में चाचिका दर्ज करा दी। फिल्म का एक बड़ा हिस्सा अरूणांचल प्रदेश में शूट किया गया हैं जहां सूरज मुश्किल से दिखाई देता है लिहाजा फिल्म का अधिकांश हिस्सा डार्क नेस लिये हुये है। शिलांग की वादियों को बड़ी खूबसूरती से कैमरे में कैद किया गया है फरहान द्धारा शिलांग में एक गये कन्सर्ट में उसके साथियों के अलावा विशाल शेखर तथा उषा उत्थुप आदि भी नजर आती हैं लेकिन वे वहां क्यों हैं समझ से बाहर है। फिल्म के म्यूजिक की बात की जाये तो चार्ट में इसके कुछ गाने पहले ही आ चुके हैं लेकिन उनमें पहली फिल्म के म्यूजिक वाली बात नहीं।ock-on-2

अभिनय

फरहान अख्तर ने बढ़िया काम किया हैं वहीं इस बार अर्जुन राम पाल और उसकी बीवी के रोल में शहाना के लिये कुछ खास करने के लिये नहीं था जबकि पूरब कोहली और कुमुद मिश्रा अच्छा काम कर गये। श्रद्धा कपूर ने गायिका नायिका दोनो रोल खूबी के साथ निभाये हैं।

क्यों देखें

म्यूजिकल फिल्मों के प्रशंसक एक बार फिल्म देख सकते हैं लेकिन करेंसी के अभाव में उनका आगमन कम ही दिखाई देगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये