विक्रम गोखले की अगली फिल्म में रूपाली सूरी की महत्वपूर्ण भूमिका!

1 min


भारतीय सिनेमा की पहली महिला कलाकार दुर्गाबाई कामत के परनाती,भारतीय सिनेमा की पहली बाल कलाकार कमलाबाई कामत (शादी के बाद कमलाबाई गोखले ) के पोते और मराठी रंगमंच व फिल्म अभिनेता चंद्रकांत गोखले के बेटे तथा निर्माता, निर्देशक,अभिनेता व समाज सेवक विक्रम गोखले अब तक सौ से अधिक फिल्मों व तीस से अधिक सीरियलों के अलावा कई नाटकां में अभिनय कर चुके हैं। उन्हे मराठी फिल्म ‘‘अनुमति’’के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।2010 में मराठी भाषा की फिल्म ‘‘आघात’’से निर्देशन में कदम रखा।विक्रम गोखले ने बतौर निर्माता व निर्देशक मराठी भाषा में एक वेब सीरीज ‘‘दंगल समझून घेउ’’बनाने के बाद अब एक लघु फिल्म का निर्माण किया है,जिसका निर्देशन संजय रावल व छायांकन भावेश रावल किया है। सामाजिक संदेश से युक्त इस हास्य प्रधान लघु फिल्म में विक्रम गोखले के साथ अभिनेत्री रूपाली सूरी ने मुख्य किरदार निभाया है।विक्रम गोखले का मानना है कि हर फीचर व लघु फिल्म में मनोरंजन के साथ सामाजिक संदेश भी होना चाहिए।

इस लघु फिल्म में विक्रम गोखले ने अपनी हम उम्र के किरदार के निभाया है,तो वहीं रूपाली सूरी ने अपनी हम उम्र की युवा महिला किरदार को निभाया है।अचानक विक्रम को अपनी चाबी के खो जाने का अहसास होता है।अब उसका इस संसार में कोई नही है।ऐसे में वह अपने मित्र की बहू के दरवाजे की घंटी बजाता है।जब वह मंदिर से घर लौट रहा था, तब उसने आधे कपड़े पहने थे। मानवीय आधार पर वह उसे कपड़े पहनने के लिए अंदर आने और बैठने के लिए कहती है। यह फिल्म का परिचय है,जो फिर औपचारिक से अनौपचारिक बातचीत में बदल जाता है।

जल्द ही रूपाली को पता चलता है कि उसकी चाबी उसकी अपनी जेब में है,जिसे उसने उस वक्त देखा,जब विक्रम चाय का प्याला लेने के लिए आगे बढ़ा। वह दरवाजे पर बूढ़े आदमी के संभावित इरादों को लेकर दुविधा में है, लेकिन अंततः उसे अपनी बेगुनाही का भरोसा है। जैसे-जैसे फिल्म आगे बढ़ती है, उसे पता चलता है कि उसे एक सच्चा दोस्त मिल गया है, एक ऐसी दोस्ती जहाँ उम्र कोई मायने नहीं रखती!

सीरियल हीरो :भक्ति ही शक्ति है’’में बबली तथा सीरियल ‘‘वाइफ है तो लाइफ है’’में बबिता का किरदार निभाने के अलावा लघु फिल्म‘डैड होल्ड माई हैंड‘ में रत्ना पाठक शाह और नसीरुद्दीन शाह जैसे बहुमुखी अभिनेताओं के साथ अभिनय कर चुकी अभिनेत्री रूपाली सूरी ने दक्षिण की फिल्मों में अभिनय कर चुकी हैं।जबकि हाल ही में उन्होने एक अनाम आस्ट्ेलियन फिल्म में भारतीय नागरिक सुनैना की भूमिका निभायी है,जिसने वहां एक एनआरआई से विवाह किया है।विक्रम गोखले की लघु फिल्म की चर्चा चलने पर रूपाली सूरी कहते हैं- “एक छोटे बच्चे से लेकर एक वरिष्ठ नागरिक तक, कोई भी तब तक दोस्त हो सकता है,जब तक संबंध है। यह एक जैविक संबंध है।”

विक्रम गोखले का मानना है कि हर कलाकार को ‘‘ए टू जेड ऑफ डबिंग‘‘ पता होनी चाहिए और कहते हैं-“पॉज से लेकर वॉयसओवर तक, एक कलाकार को सब कुछ पता होना चाहिए और रूपाली (सूरी) बस यही कर रही है। मुझे उसके बारे में जो पसंद है वह यह है कि वह अभिनय के लिए नहीं बल्कि जुनून के लिए अभिनय कर रही है!”

विक्रम के साथ काम करने के बारे में वह बताती हैं, “उनके साथ काम करना अपने आप में दबाव है। जब वह बोलता है, तो हम जानते हैं कि जब हम उसे सुनते हैं तो वह किस तरह का ध्यान आकर्षित करता है। सबसे बढ़कर, विक्रम सर बहुत सीधे-सादे हैं और अक्सर कहते हैं कि उन्होंने मुझसे भी बहुत कुछ सीखा है!जबकि हकीकत में विक्रम गोखले अपने आप में अभिनय,निर्देशन फिल्म निर्माण के बहुत बड़े इंस्टीट्यूट हैं।मैंने खुद को अभिनय और फिल्म निर्माण के दिग्गजों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया!‘‘

SHARE

Mayapuri