सईद जाफरी ने हिंदी फिल्मों के साथ ही ब्रिटिश फिल्मों और धारावाहिकों में भी किया शानदार अभिनय

1 min


अपनी रौबदार आवाज़ और जुदा अंदाज़ के लिए मशहूर अभिनेता सईद जाफरी का आज जन्मदिन है। अब वो इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन उनका अभिनय आज भी लोगों के दिलों पर छाया हुआ है। सईद जाफरी का जन्म 8 जनवरी 1929 को पंजाब के मालरकोटला में हुआ था। सईद जाफरी की शिक्षा इलाहाबाद और लखनऊ में हुई। अपने कैरियर के शुरुआती दिनों में वह अमेरिका में रेडियो से जुड़े और फिर नाटकों में हिस्सा लेने लगे। बाद में सईद को अमेरिका और इंगलैंड के धारावाहिकों में अपने अभिनय का लोहा मनवाने का मौका मिला। आइए आज उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको बताते हैं उनके जीवन से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें…

– सईद जाफरी ने अपने अभिनय की शुरूआत दिल्ली में एक थियेटर से की। इस थियेटर का नाम यूनिटी थियेटर था। यहां उन्होंने अपने नाटकों का सफल मंचन किया। दिल्ली में काम करने के बाद वे लंदन के लिए निकल पड़े। लंदन में उन्होंने अपना पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स पूरा किया।

– इसके बाद उन्हें कई जाने -माने कलाकारों के साथ काम करने का मौका मिला। उन्होंने भारत में ‘शतरंज के खिलाड़ी’, ‘गांधी’, ‘मासूम’, ‘मंडी’, ‘त्रिमूर्ति’, ‘दिल’ में सराहनीय अभिनय किया। ‘दिल’ में उनकी भूमिका बहुत अच्छी रही। सईद ने अपने फ़िल्मी करियर में पिता से लेकर दादा, खलनायक और चरित्र अभिनेता सहित सभी तरह के किरदार निभाए ।

– हर किरदार में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया। 90 के दशक में एक शानदार सह-कलाकार के तौर पर सईद जाफरी निर्माता-निर्देशकों पहली पसंद थे। भारतीय फिल्मों में काम करने से पहले सईद ने ब्रिटिश फिल्मों में भी अभिनय किया। सईद जाफरी विदेशी धारावाहिक ‘तंदुरी नाइट्स’ और ‘ज्वेल इन द क्राउन’ जैसे कई टीवी शोज में अभिनय के लिए भी चर्चा में रहे।

– सईद जाफरी की शादी 19 साल की उम्र में 17 साल की मेहरुनिसा से हुई थी, लेकिन सईद अपनी पत्नी के घरेलूपन और सादगी से खिन्न रहते थे। वे अपनी पत्नी को ऐसी मॉर्डन महिला के रूप में देखना चाहते थे जो एक हद तक अंग्रेजी कल्चर में रची बसी हो। आखिरकार मेहरुनिसा से उनका तलाक हो गया।

– बाद में मेहरूनिसा मधुर जाफरी के नाम से मशहूर हुईं। जाफरी की तीन बेटियां हुईं। मीरा, ज़िया और सकीना। सकीना खुद एक अभिनेत्री हैं। 1982 में आई फिल्म ‘मसाला’ में सकीना ने सईद जाफरी के साथ अभिनय भी किया। मेहरूनिसा के बाद सईद ने दो शादियां और भी कीं।

– 70 से ज्यादा हिंदी फिल्में कर चुके सईद जाफरी को 90 के दशक में बॉलीवुड में अंकल या ससुर टाइप के ही रोल मिलने लगे, जो उन्हें ज्यादा पसंद नहीं आते थे। तब उन्होंने मुंबई को अलविदा कहा और लंदन जाकर रहने लगे। आखिरी समय तक सईद लंदन में रहते रहे, जहां 15 नवंबर 2015 को उनका निधन हो गया।

SHARE

Mayapuri