यारों के यार सलमान खान ने बताए दोस्ती के असली मायने

1 min


बॉलीवुड के भाईजान जो न सिर्फ अपने बड़े दिल और बेधड़क दबंग नज़रिये के लिए जाने जाते हैं बल्कि सब ये भी जानते हैं की वो दोस्ती निभाने में सबसे आगे हैं। ऐसे में अगर वो दोस्ती के बारे में कुछ नसीहत दे तो बात सुनने की होगी और ऐसा ही कुछ हुआ अभी हाल ही में जब खालिद मोहम्मद द्वारा लिखी वेटरन एक्ट्रेस आशा पारेख की ऑटोबायोग्राफी के लांचिंग पर पहुंचे सुपरस्टार सलमाल खान ने न सिर्फ आशा जी की ऑटोबायोग्राफी को लांच किया बल्कि सबको असली दोस्ती के मायने भी बताए।

पहले तो सलमान ने कहा कि मैं आशा जी का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे इस काबिल समझा कि इस किताब से जोड़ा। मैं आशा आंटी को काफी अरसे से जानता हूं। आशा आंटी, हेलन आंटी माइ मदर, वहीदा आंटी शम्मी आंटी, साधना आंटी, मेरे डैड, नंदा आंटी, ये सभी गहरे दोस्त हैं और उनकी दोस्ती आज भी बरकरार है। ये सभी अपने करियर के शुरुआती दौर से दोस्त हैं। हमारी जेनरेशन में वह प्यार और अपनापन नहीं देखने को मिलता। हम सभी भाई बचपन से इन सभी को वैसे ही देख रहे हैं, जैसे कि आज हैं। दोस्ती इसे ही कहते हैं। खास कर आज की गर्ल जेनरेशन को इंस्पीरेशन लेना चाहिए। सुचमुच आज कल ऐसी दोस्ती बहुत कम देखने को मिलती है काश लोग सलमान के स्टाइल के साथ-साथ उनकी इस नसीहत को भी कॉपी करें।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये