INTERVIEW!! ‘‘ग्लैमर को लेकर मेरी सोच अलग है’’ – संदीपा धर

1 min


घर के अंदर टीवी के परदे पर फिल्म देखकर एक कश्मीरी मूल की लड़की ने चार वर्ष की उम्र से ही माधुरी दीक्षित बनने का सपना देखना शुरू कर दिया था और आज लगभग छब्बीस वर्ष बाद उसका यह सपना साकार हो चुका है आज उसे लोग अभिनेत्री संदीपा धर के रूप में पहचानते हैं बतौर अभिनेत्री उसकी पहली फिल्म ‘इसी लाइफ में’ 2010 में प्रदर्शित हुई थी उसके बाद 2012 में वह सलमान खान की फिल्म ‘दबंग 2’ में नजर आयी थी फिर 2014 में साजिद नाडियाडवाला की फिल्म ‘हीरोपंती’ में वह नजर आयी थीं। इसके अलावा वह दो तीन साल से इंटरनेशनल म्यूजिकल शो ‘वेस्ट साइड स्टोरी’ करती आ रही हैं अब बतौर नायिका उनकी फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ रिलीज होने वाली है।

अपनी अब तक की यात्रा को किस तरह से देखती हैं ?

मैं मूलतः कश्मीरी पंडित हूं श्रीनगर (कष्मीर) में मेरा जन्म हुआ पर मेरी स्कूली शिक्षा बैंगलोर और कॉलेज की पढ़ाई मुंबई में हुई चार साल की उम्र में मैंने टीवी पर माधुरी दीक्षित की एक फिल्म देखी और उनके करिश्मे से प्रभावित होकर मैंने सोच लिया था कि मुझे अभिनय करना है। मैंने अभिनय की कोई ट्रेनिंग नहीं ली सब कुछ अनुभव से सीखा स्कूल व कॉलेज में थिएटर व नृत्य करती रही हूं। कॉलेज की पढ़ाई पूरी होने के बाद तनिष्क, पेप्सी, संतूर डिओ, हेड एंड शोल्डर, वर्जिन मोबाइल, मोटारोला, टोयाटा इनोवा, डाबर सहित 25 प्रोडक्टों के लिए मॉडलिंग की इसी के साथ ऑडिशन देती रही और फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिल गया।

sandeepadhar759

अभिनय की शुरूआत कब हुई थी ?

लंबे संघर्ष के बाद ही मैं यहाँ तक पहुँची हूं कॉलेज की पढ़ाई पूरी होने के बाद ‘यशराज फिल्म्स’ सहित कई बड़े बैनरों में ऑडिशन व स्क्रीन टेस्ट दिए कुछ फिल्मों के ऑफर मिले, पर मैंने हमेशा वही फिल्म स्वीकार की, जिसकी कहानी व किरदार से मैं संतुष्ट हुई मैं शुरू से ही चूजी रही हूं मेरा यकीन रहा है कि मेरी अपनी किस्मत में जो लिखा है, वह मिलेगा मैंने सबसे पहले ‘राजश्री प्रोडक्शन’ की ‘इसी लाइफ में’ की। उसके बाद ‘दबंग 2’ और ‘हीरोपंती’ की अब बतौर हीरोईन मेरी फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ रिलीज होने वाली है।

तो आप काफी गैप के बाद फिल्में करती हैं ?

इसकी एकमात्र वजह यह है कि मैं पिछले दो तीन वर्षों से भारत में कम और ऑस्ट्रेलिया में ही ज्यादा रहती रही हूँ मैं ‘ऑस्ट्रेलियन डाँस थिएटर’ द्वारा निर्मित एक अंतर्राष्ट्रीय शो ‘वेस्ट साइड स्टोरी’ करती आ रही हूँ। अब तक हम जापान, फिलीपीन, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड सहित 13 देशों में सौ शो कर लिए हैं पर जब बीच बीच में छुट्टियों में भारत आती थी, तब ‘दबंग 2’ या ‘हीरोपंती’ की अब मैं वापस आयी हूँ तो ‘ग्लोबल बाबा’ के अलावा दो अन्य हिंदी फिल्में की हैं।

28-Sandeepa-Dhar

फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ करने की वजहें क्या रहीं ?

फिल्म की कहानी काफी रिलीवेंट है, जिसने मुझे प्रभावित किया दूसरी बात बहुत कम ऐसी पटकथाएं हम महिला कलाकारों को मिलती हैं, जिनमें हमें सही मायनों में परफॉर्म करने का मौका मिलता है। इस फिल्म में मेरा किरदार परफॉर्मेंस ओरिएंटेड है अन्यथा हर फिल्म पुरूष प्रधान होती हैं। महिला कलाकार के हिस्से में दो तीन गाने व दो तीन महत्वहीन दृश्य ही आते हैं।

आपका अपना किरदार क्या है ?

मैंने एक खोजी टीवी पत्रकार भावना शर्मा का किरदार निभाया है जो कि उत्तर प्रदेश के एक छोटे शहर से संबंध रखती है मध्यमवर्गीय परिवार से है बड़ी मुश्किल आर्थिक हालातों में अपना घर चला रही है. वह जिंदगी में बहुत कुछ करना चाहते हुए नहीं कर पाती है, फिर किस तरह वह इस जाल में फंस जाती है और कैसे वह इससे उबरती है वह सब इसमें है। वह कैसे बाबा और उनसे जुड़े लोगों का पर्दाफाश करती है किरदार काफी सशक्त है।

Sandeepa-Dhar-Wiki-Details-Global-Baba-HD-Wallpapers

फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ निर्देशक मनोज सिद्धेश्वर तिवारी को लेकर क्या कहेंगी ?

वह काफी अनुभवी निर्देशक हैं वह पिछले 20 साल से भी अधिक समय से बॉलीवुड से जुड़े हुए हैं। वह कई प्रतिष्ठित निर्देशकों के साथ काम कर चुके हैं उनके निर्देशन में काम करना मेरे लिए सुखद अनुभव रहा।

पर यह भी छोटी फिल्म है?

अब सिनेमा जिस दौर से गुजर रहा है, उसमें छोटी या बड़ी फिल्म मायने नहीं रखती बल्कि फिल्म का कंटेंट और वह किस बात को पेश कर रही हैं, वह महत्वपूर्ण हो जाता है। यही वजह है कि अब ‘आँखो देखी’, ‘लंच बाक्स’ और ‘मसान’ जैसी तथाकथित छोटी फिल्में भी अच्छा बिजनेस कर रही हैं। फिल्म का अच्छा होना जरुरी है, मैं फिल्म का बजट देखकर फिल्म साइन नहीं करती मैं यह नहीं देखती कि फिल्म में मुझ पर कितने गाने हैं फिल्म के कंटेंट व किरदार पर गौर करती हूँ।

फिल्मों में लीड किरदार निभाने के लिए संघर्ष करना होगा ?

जी हाँ! फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ में लीड रोल है ‘वायकॉम 18’ की फिल्म ‘गोलू और पप्पू’ में लीड  रोल है। ‘वायकॉम 18’ के साथ मैंने तीन फिल्मों का अनुबंध किया है एक फिल्म अरबाज खान प्रोडक्शंस की ‘पहचान’ कर रही हूँ। इसके अलावा मैं एक फिल्म ‘सेवन आवर्स टू गो’ कर रही हूं ‘ग्लोबल बाबा’ 11 मार्च और ‘सेवन आवर्स टू गो’ 22 अप्रैल को रिलीज होगी। इन फिल्मों के रिलीज के बाद मेरे करियर को गति मिलना स्वाभाविक है तो कहीं न कहीं मैं पहले फिल्मों की शूटिंग में व्यस्त थी और अब इन फिल्मों के प्रमोशन में व्यस्त हूं इसके चलते मुझे बैठकर यह सोचने का मौका ही नहीं मिला कि करियर को लेकर क्या करना चाहिए। वैसे मैं लक्की हूँ कि मैं अच्छे निर्माता, निर्देशक व सहकलाकारों के साथ काम कर रही हूं।

2015_3$largeimg05_Mar_2015_121951177

फिल्म ‘सेवन आवर्स टू गो’ को लेकर क्या कहेंगी?

‘मिक्की वायरस’ फेम सौरभ वर्मा इस फिल्म के निर्देशक हैं इसमें मेरे अपोजिट शिव पंडित हैं। इसके अलावा वरूण बडोला भी हैं यह फिल्म एक इंवेस्टीगेटिव एक्शन थ्रिलर है इसमें मैं पुलिस इंस्पेक्टर के किरदार में हूं पहली बार मैंने एक्शन किया है अन्यथा अब तक नाच गाना ही कर रही थी यह भी परफार्मेंस ओरिएंटेड और गंभीर किस्म की फिल्म है।

इन दिनों हर फिल्म में जमकर ग्लैमर परोसा जाने लगा है ?

ग्लैमर को लेकर मेरी सोच अलग है मेरी हर फिल्म ग्लैमरस रही है केवल जिस्म की नुमाइश करना ही ग्लैमर नहीं होता यह बहुत ही समसामायिक फिल्म है हम निजी जीवन में जिस तरह के कपड़े पहनते हैं, उसी तरह के कपड़े हम फिल्म में भी पहन रहे हैं।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये