नशे में धुत जब संजय दत्त ने पद्मिनी को दौड़ाया था

1 min


संजय दत्त अपने डबल एडिक्शन, ड्रग्स और अल्कोहल को लेकर गहरी परेशानी में थे, लेकिन फिर भी उन्हें कई फिल्मों के प्रमुख व्यक्ति के रूप में साइन किया जा रहा था। यह ऐसे समय थे जब उन्होंने अपने दिन की शुरुआत स्कॉच की एक पूरी बोतल और उन दिनों के अपने सचिव के साथ की थी, शक्ति सचमुच उन्हें दिन की शूटिंग के लिए ले जाते थे, और कई बार ऐसा भी हुआ जब शक्ति ने उनके दाँत साफ किए और उनका चेहरा तक धोया। वह अक्सर इतनी बुरी स्थिति में रहते थे कि, उन्हें यह तक नहीं पता होता था कि, यह सुबह हो रही है या शाम। उनका जीवन डार्क और खतरनाक हो रहा था। वह उस समय की सभी युवा नायिकाओं के साथ फिल्में कर रहे थे और कुछ के साथ काम कर रहे थे और कई के साथ बेतहाशा व्यवहार कर रहे थे। अली पीटर जॉन

सी रॉक होटल में एक बड़ी पार्टी थी। यह एक फिल्म की शुरूआत थी और इसमें दोनों हस्तियों और गेटक्रैशरों की भीड़ थी। कुछ लोगों को उम्मीद थी कि संजय कभी भी पहुँचगेे, क्योंकि उन्हें लॉन्च होने वाली फिल्म का हीरो बनना था!

उन्होंने पद्िमनी कोल्हापुरे के साथ फिल्में की थीं, जिनमें प्रमुख हैं, ‘विधाता’,‘दो दिलों की है दास्ताँ’ और ‘बेकरार’!

पूरे होटल में हंगामा मच गया। जब संजय अपने दोस्तों के एक ग्रुप के साथ पहुंचे थे और वे सभी बहुत नशे में लग रहे थे!

असली समस्या तब शुरू हुई जब उन्होंने चाकू निकाला और तीन फिल्मों की नायिका पद्मिनी का पीछा किया और वह मदद के लिए दौड़ती रही और चिल्लाती रही, लेकिन कोई भी उनकी मदद के लिए नहीं आया। इस घटना ने एक बुरा माहौल बना दिया और जो हुआ था उसकी रिपोर्ट संजय के पिता तक पहुंची, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने अमेरिका में एक रीहेब सेंटर में उन्हें भेजने का फैसला किया था। वह एक दिन के बाद अमेरिका चले गए और सामान्य होने तक उन्हें कई हफ्तों तक उस रीहेब सेंटर में रहना पड़ा।

उनके जंगली व्यवहार के बारे में कई तरह की कहानियाँ थीं, लेकिन जिसने बहुतों को हिला दिया, वह दृश्य था जिसमें माना जाता है कि उसने अपने पिता पर बंदूक तान दी थी और उन्हें जान से मारने की धमकी दी थी!

ऐसा कोई ताकत थी जो संजय को एक के बाद एक संकट से निकाल रही थी, लेकिन अब एक बूढ़े लेकिन बहुत परिपक्व संजय को देखना अच्छा है जो अपने परिवार, अपनी बहनों, नम्रता और प्रिया के प्रति पूरी तरह से जिम्मेदार है और बहुत अधिक गंभीर तरीके से काम करने के लिए वापस आ गए है और यहां तक कि अपनी उम्र के अनुरूप भूमिकाएं पा रहे है।

तुम्हारे प्यार में हारना मेरी जीत है…

अली पीटर जॉन

ऐसा लग रहा है की मैं एक बार फिर हारने वाला हूँ

प्यार में हारना मेरे लिए कोई नई बात नहीं है

प्यार में मेरी हारने कि कहानियाँ अब किताबों में छपने लगी है

लेकिन मैंने प्यार करना कहा छोड़ा हैं?

प्यार तो मेरा धरम है, दुआ है, ईमान है, मन्नत है, सब कुछ है, जीना भी है मरना भी है

मैंने कहा था मेरा प्यार तुमको अमर कर देगा, तुम अमर हो गई, ए अर्चना

अनु-छवि शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये