सवालों के घेरें में संजय दत्त

1 min


sanjay-dutt.gif?fit=650%2C450&ssl=1
Sanjay Dutt

बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त जेल से रिहा हो कर सुकून भरी जिंदगी जी रहे है। साथ ही वह भाजपा के एक मंच पर अपनी पहली सार्वजनिक उपस्थिति देकर राजनीतिक में अलग-अलग सवालों को जन्म दे दिया है। संजय दत्त भाजपा अध्यक्ष आशीष शेलार व एक अन्य नेता मोहित खंबोज द्वारा उपनगर मलाड पश्चिम में आयोजित महाराष्ट्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि थे। भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं और आम जनता के साथ तस्वीरें भी खिंचवाई। संजय दत्त के इस कदम ने कांग्रेस के नेताओं-कार्यकर्ताओं को हैरानी में डाल दिया है। संजय दत्त शुरुआत में शिवसेना के साथ थे।

dfj

2009 में संजय ने राज्य महासचिव के तौर पर समाजवादी पार्टी का दामन थामकर पार्टी के लिए लोकसभा चुनाव के दौरान प्रचार किया था। अमर सिंह को पार्टी से निकाले जाने के बाद संजय दत्त ने सत्ता छोड़ दी थी, संजय दत्त को 1992-1993 के मुंबई दंगों के दौरान अवैध हथियार रखने के मामले में पांच साल कैद की सजा हुई थी। पुणे की यरवदा जेल में उन्होंने अपनी कैद काटी। उन्हें कई बार पैरोल मिली जिस पर भाजपा ने सवाल उठाए थे।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये