संजू बाबा, कभी दुबई, कभी मुंबई, फिर दुबई- अली पीटर जॉन

1 min


एक शख्स ने सही ही कहा था, जब उसने देखा कि जिस बेटे ने अपनी माँ को अपने ही हाथों दफन किया हो, वह भीतर से हमेशा अशांत और बेचैन ही रहेगा। इस सच्चाई को एम.एफ. हुसैन, देव आनंद, दिलीप कुमार, प्रसिद्ध लेखक खुशवंत सिंह तथा कई अन्य साधारण और असाधारण लोगों ने भी साबित किया है। और अब इस विशेष क्लब में शामिल होने वाले नए व्यक्ति संजय दत्त हैं

संजय या संजू बाबा, जैसा कि उन्हें उद्योग जगत में जाना जाता है, 20 के दशक की शुरुआत में एक ड्रग एडिक्ट और शराबी थे, जब उनकी माँ नरगिस की मृत्यु हुई तो उन्हें अपनी माँ के निधन की जानकारी भी नहीं थी। इस घटना का उनके दिमाग पर गहरा प्रभाव पड़ा और इतना ही नहीं, उनका इतिहास कई दिलचस्प कहानियों से भरा है कि कैसे संजय अनगिनत विवादों से घिरे रहे हैं, जो उन्हें एक जेल से दूसरी जेल, एक अदालत से दूसरी और एक तरह के जीवन से दूसरे में ले गए हैं। उनका जीवन एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने की अंतहीन गाथा रहा है। और अब, जब वे 60 वर्ष के हैं, उनकी बेचैन आत्मा के बारे में एक और कहानी है जो दो अलग-अलग शहरों, मुंबई और दुबई के बीच घूम रही है।

यह महामारी की शुरुआत में था कि उनकी पत्नी मान्यता और उनके जुड़वां बच्चे इकरा और शहरान दुबई में फंसे हुए थे और संजय इम्पीरियल हाइट्स में अपने अपार्टमेंट में अकेले रह गए थे, जहाँ किसी जमाने में सुनील दत्त और नरगिस का बंगला हुआ करता था। इस स्थान की महिमा इसी से थी।

परिवार अगले छह महीनों तक नहीं मिल सका और उन्हें केवल ऑनलाइन या अपने मोबाइल पर किसी भी ऐप के माध्यम से मिलना या बात करना पड़ा।

संजय ने अपनी कुछ शूटिंग में खुद को व्यस्त रखा जो शुरू हो गई थी, लेकिन फिर दूसरी लहर आई। इससे पहले की लहर, मजबूत और खतरनाक हो, इस बार संजय ने पहले ही दुबई जाने और अपने परिवार के साथ समय बिताने की योजना बनाई थी। वह अपने परिवार के लिए बहुत चिंतित रहते थे। जीवन में बहुत कुछ खोने के बाद ये परिवार ही उनका सबकुछ था। वे यह जानते थे कि, दुबई की चिकित्सा सेवाएँ मुंबई से बेहतर है। इसके साथ ही दुबई में उनके कई खास दोस्त थे, जिन्हें वह जानते थे कि वे हर परिस्थिति में उनके साथ खड़े रहेंगे।

अब, पिछले पांच महीनों से, संजय और उनके परिवार ने दुबई को अपना घर बना लिया है, जिसे ग्लोबल वीजा योजना द्वारा आसान बना दिया गया है।

60 साल के संजय अभी भी हिंदी फिल्मों के सबसे लोकप्रिय, शक्तिशाली और वांछित सितारों में से एक हैं। अब उनके पास ‘पृथ्वीराज’, ‘केजीएफ2’ और ‘भुज-द प्राइड ऑफ इंडिया’ जैसी बड़ी फिल्में हैं जो अभी बन रही हैं। ये सभी फिल्में लगभग भारत में शूट की गई हैं। संजय ने काफी चतुराई से इन फिल्मों की शूटिंग की योजना बनाई, जो उन्हें दुबई और मुंबई के बीच बंद कर देगा। उन्होंने यह भी व्यवस्था की है कि उनके बच्चों की पढ़ाई किसी भी तरह से प्रभावित न हो।

अभी यह पता नहीं चला है कि संजय और उनका परिवार कब तक दुबई को अपना आशियाना बनाकर रखेगा, लेकिन जैसे हालात हैं, दत्त परिवार कम से कम अगले छह महीनों के लिए मुंबई से बाहर दुबई में ही रहेगा और उनके निर्माताओं और निर्देशकों को ‘संजू दुबईवाला’ द्वारा बनाई गई योजनाओं के अनुसार अपनी शूटिंग को सुनियोजित करना होगा।

जब मैं यह लेख लिख रहा हूँ, तो इसका मतलब है कि इस बारे में फुसफुसाहट, गपशप और अफवाहें हैं कि संजू को मुंबई से दुबई में अपना आधार स्थानांतरित करने के लिए क्या प्रेरित किया जाएगा। फिलहाल तो सब ठीक लग रहा है, लेकिन महामारी के बाद के समय का क्या? संजय विवादों के देवता के रूप में प्रसिद्ध रहे हैं। किसी को आश्चर्य होता है कि क्या विवाद उसे कभी भी उस तरह का जीवन जीने के लिए छोड़ देंगे जिसका उसने हमेशा सपना देखा है, लेकिन कभी जिया नहीं।

कभी लग रहा था की संजू बाबा अफवाहो से दूर हो जाएंगे। लेकिन अगर अफवाहें ही किसी के पीछे लगी हो तो बेचारा इंसान क्या करे?


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये