सयाजी शिन्दे की वापसी ‘फ्रेन्ड’ से

1 min


जाने माने कलाकार सयाजी शिन्दे भारत के ऐसे कलाकार हैं जो हिन्दी, मराठी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम और बंगला फिल्मों में एक समान सफलता अर्जित किये हैं। उनकी शुरूआत मराठी नाटकों से हुई थी। राम गोपाल वर्मा की ‘शूल’ से हिन्दी-फिल्मों में शुरूआत लेने के बाद वह काफी फिल्में किये और दक्षिण का रूख पकड़ लिये।

Bommali_Movie_Stills5da8851bc3317688fd36a92ead35e215

दक्षिण की फिल्मों में बेहद कामयाब खलनायक बन चुके सयाजी अपने मित्र राजू पाचघरे  की फिल्म ‘फ्रेन्ड-तेरे जैसा यार कहां’ से एक बार फिर हिन्दी-फिल्म में वापसी लिए हैं। ‘फ्रेन्ड’ हिन्दी के साथ तेलुगु (‘फादर’) में भी बनी है जिसमें सयाजी की भूमिका शहर के सुपारी किलर चमन चिकना की है। इस फिल्म मंे उनकी एक प्रेमिका चिकनी (अलीशा नरोने) भी है। फिल्म के निर्देशक हैं जगदीश और लेखक हैं- अनूप श्रीवास्तव। निर्माता राजू पाचघरे बताते हैं – ‘सयाजी भाई ने यह फिल्म  दोस्ती में किया है वर्ना उनके पास समय कहां था!’ शायद इसलिए फिल्म का नाम रखा गया है ‘फ्रेन्ड-तेरे जैसा यार कहां’… वाकई!

SHARE

Mayapuri