‘मैं सिड के ज्यादा करीब हूं’‘- शालीन भनोट’

1 min


शालीन का जबलपुर से मबुई बेसिकली बिजनिस के लिये आना जाना लगा रहता था । इसके अलावा उसकी सिद्धीविनायक मंदिर में भी काफी आस्था थी । जबलपुर में उनकी प्रिंटिंग प्रैस है । एक बार वो सिद्धीविनयक मंदिर आया तो उसे एम टीवी के शो रोडीज के बारे में सुना जिसमें इनाम के तौर पर बाइक मिलने वाली थी इसलिये बाइक के लालच में उसने वो शो किया, जहां वो जीत गया ।इसके बाद उसने सन शाइन फेस आॅफ मुबंई 2005 में हिस्सा लिया और उसे पास किया। उसे पास करने का इनाम था एकता कपूर के सीरियल में एक दिन का काम । लेकिन मैं बाद शालीन उस सीरियल के लिये लगातार आठ महीने तक आता रहा । उसका कहना है  कि फिर मुझे लगा कि अब एक्टिंग के लिये सीरियस हो जाना चाहिये । इसलिये मैंने निमित्त किशोर कपूर के यहां से एक्टिंग का कोर्स किया । फिर मुझे‘ कितनी है मस्त जिन्दगी’ नामक शो करने को मिला।

shalin
शालीन का मानना है कि बेशक किस्मत भी होती है लेकिन अगर किस्मत से ही सब कुछ मिलता तो कोई भी मेहनत ही नहीे करता । शोज करते हुये शालीन को निर्माता फाईज अनवार की फिल्म’ लव के फंडे’ मिली । जिसके डायरेक्टर है इन्द्र देव योगी । ये एक मासिस काॅमेडी है । किरदार का नाम है आर्यन जो मेरी निजी जिन्दगी से कतई अलग है । मेरे अपोजिट है तीन हीरोइनें है पूजा बनर्जी, प्रियंका खत्री तथा निशा गुलाठी ।फिल्म की शूटिंग गोवा और कशमीर में हुई । इसके बाद दूसरी फिल्म हैं ‘चल झूठे’ जिसके डायरेक्टर है विश्वनाथ। हीरोइन सप्राईज है फिल्म की यूएसपी है इसका शानदार म्युजिक । जहां तक रोल की बात की जाये तो इसमें सिड एक ऐसा लड़का है जो कभी किसी का दिल नहीं दुखाना चाहता । इसलिये वो हमेशा दूसरों के लिये झूठ का सहारा लेता रहता है । फिल्म का मैसेज ये है कि छोटे छोटे झूठ कभी कभी बड़ा पंगा खड़ा कर देते हैं ।इसके अलावा फिल्म में दोस्ती, प्यार और पिता पुत्र के विश्वास के बारे में बहुत ही अच्छी तरह से बताया गया है ।
जंहा तक मेरी बात है तो मैं आर्यन के नहीं सिड के ज्यादा करीब हूं ।

SHARE

Mayapuri