Advertisement

Advertisement

पुण्यतिथि: इस ऐक्ट्रेस के प्यार में पागल थे शम्मी कपूर, बाद में की गीता बाली से शादी

0 233

Advertisement

हिंदी सिनेमा ने आज ही के दिन एक ऐसे अभिनेता को खोया था, जिन्होंने बॉलीवुड में डांस करने के चलन की शुरुआत की | शमशेरराज कपूर उर्फ शम्मी कपूर बॉलीवुड के पहले सुपरकूल स्टार थे | उनका जन्म 13 अक्टूबर 1931 को हुआ था | आज ही के दिन यानी 14 अगस्त 2011 को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कहा था | अपने दमदार अभिनय से उन्होंने दर्शकों के दिलों में खास जगह बना ली थी | तो आइये आज उनकी पुण्यतिथि पर आपको बताते हैं शम्मी कपूर के बारे में कुछ रोचक बातें…

राजकुमारों की तरह हुई परवरिश

– शम्मी कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर और मां रामशरणी इस बात से बहुत दुखी थे कि राज कपूर के बाद हुए उनके दो भाई-बहन एक हफ्ते के अंदर ही चल बसे थे और उस समय शम्मी गर्भ में थे ऐसे में उन्हें डर सता रहा था। बता दें, कि वे अपने परिवार के अकेले बच्चे थे जिनकी डिलीवरी अस्पताल में हुई थी। वहीं, उनके पैदा होने के बाद राजकुमारों की तरह उनकी परवरिश की गई।

राजकपूर की वजह से छोड़ा स्कूल

– शम्मी को भाई राज कपूर की वजह से स्कूल छोड़ना पड़ा था। दरअसल, ऐसा हुआ कि पृथ्वी थियेटर्स में शम्मी को शकुंतला नाटक में भरत का रोल मिला था। इस नाटक में राज कपूर का भी बड़ा रोल था लेकिन रिहर्सल करने के लिए राज को स्कूल से छुट्टी नहीं मिल रही थी तो वो अपनी प्रिसिंपल से लड़कर स्कूल छोड़ आए। लेकिन उसी स्कूल में शम्मी भी पढ़ा करते थे ऐसे में उन्हें भी स्कूल छोड़ना पड़ा।

थिएटर में 50 रुपए मिलती थी पगार

– शम्मी कपूर की जिंदगी में एक दौर वो भी आया जब वह कॉलेज छोड़कर घर आ गए थे। शम्मी ने घर में आकर पिता पृथ्वीराज को सॉरी कहा। वहीं, पृथ्वी ने शम्मी का मन पढ़ते हुए कहा कोई नहीं पुत्तर कल से थियेटर ज्वॉइन कर लो। बता दें कि थियेटर में काम करने की उन्हें 50 रुपये पगार मिलती थी।

चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर शुरु की ऐक्टिंग

– शम्मी कपूर ने एक मजदूर की तरह अपने पिता के थियेटर में काम किया था और उनके पिता ने भी कभी उन्हें स्टारकिड वाली लॉन्चिग नहीं दी थी क्योंकि शम्मी का फिल्मी करियर बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट हुआ था और इस दौरान उन्हें महीने के केवल 150 रुपये ही मिलते थे।

बतौर लीड ऐक्टर ‘जीवन ज्योति’ थी पहली फिल्म

– उन्होंने बतौर मुख्य अभिनेता फ़िल्म ‘जीवन ज्योति’ से बॉलीवुड में कदम रखा| उनका अंदाज़ तब के तमाम अभिनेताओं से अलग था हंसमुख, ज़िंदादिल और मस्तीभरा था। शम्मी ने साल 1988 में कंप्यूटर के बारे में जाना और वह भारत में उन चंद लोगों में से एक थे जिन्होंने इंटरनेट का इस्तेमाल पहले किया।

नूतन थीं चाइल्डहुड गर्लफ्रेंड

– शम्मी की कई गर्लफ्रेंड्स थी और इस बारे में उनके घरवाले भी अच्छी तरह जानते थे। एक समय था जब उन्होंने विदेश की एक बैली डांसर को डेट किया करते थे लेकिन थोड़े समय बाद ही दोनों का ब्रेकअप हो गया। एक्ट्रेस नूतन उनकी चाइल्डहुड गर्लफ्रेंड थीं। दोनों ने फिल्म लैला मजनू 1953 में एक साथ काम किया था। शम्मी 6 और नूतन 3 साल की थी तब से ये दोनों दोस्त थें।

मुमताज के प्यार में पागल थे शम्मी कपूर

– शम्मी कपूर मुमताज को शादी के लिए प्रपोज़ कर चुके थे| मुमताज भी उन्हें पसंद करती थी, लेकिन कपूर खानदान नहीं चाहता था कि उनकी बहू फिल्मों में काम करे| शम्मी चाहते थे कि वे अपना फ़िल्मी करियर छोड़कर उनसे शादी कर लें, लेकिन मुमताज़ ने इनकार कर दिया|

पहाड़ी गाने थे ज्यादा पसंद

– शम्मी को हिंदी गानों के मुकाबले पहाड़ी गाने ज्यादा पसंद थे इसलिए वह खाली समय में पहाड़ी गाने ही गुनगुनाया करते थे। फिल्म राजकुमार की शूटिंग के दौरान हाथी ने उनका पैर तोड़ दिया था। दरअसल, वह हाथी के ऊपर बैठकर शूट कर रहे थे। ऐसे में अचानक ऐसा हादसा हुआ और उनको चोट पहुंची।

लिपस्टिक से भरी गीता बाली की मांग

– 1955 में फिल्म ‘कॉफी हाउस’ के सेट पर वे गीता बाली से मिले और उन्हें अपना दिल दे बैठे| एक रात उन्होंने गीता को फोन कर कहा कि उन्हें शादी करनी है| इसके बाद वे गीता को लेने गए और रात में ही मंदिर में पहुंचे। अगली सुबह 4 बजे जब पंडित जी आए तब शादी हुई | गीता की मांग भरने के लिए शम्मी के पास सिंदूर नहीं था तो ऐसे में गीता ने लिपस्टिक निकालकर दी, फिर शम्मी ने उनकी मांग भरी|

गीता बाली की मौत के बाद अकेले रहे शम्मी कपूर

– 1965 में चेचक की वजह से गीता बाली की मौत के बाद शम्मी कपूर ने खुद पर ध्यान देना छोड़ दिया| इसके बाद घरवालों के दबाव और अपने बच्चों के कारण उन्होंने नीला देवी, जो एक राजशाही परिवार से थीं, उनसे शादी की, लेकिन उनके सामने शर्त रखी कि वे मां नहीं बनेंगी|

200 फिल्मों में किया काम

– शम्मी कपूर ने जानवर, जंगली, प्रोफेसर, दिल दे के देखो, रंगीन रातें, तुमसा नहीं देखा, मुजरिम, उजाला, दिल देके देखो, चाइना टाउन, ब्लफ मास्टर, कश्मीर की कली, राजकुमार, जानवर, तीसरी मंजिल, एन ईवनिंग इन पेरिस, ब्रह्मचारी, तुमसे अच्छा कौन है, प्रिंस, अंदाज़, विधाता जैसी लगभग 200 फ़िल्मों में काम किया|

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

Advertisement

Advertisement

Leave a Reply