शम्मी कपूर जिन्होंने हीरो का रंग ही बदल दिया

1 min


उनके पिता पृथ्वीराज कपूर कपूर फैमिली में पहले बागी थे। बेसेश्वरनाथ कपूर प्री-पार्टीशन पेशावर (अब पाकिस्तान में हैं) में एक लीडिंग बिजनेस हाउस के हेड थे। पृथ्वीराज उनका सबसे बड़ा बेटा था। वह लंबे, चौड़े कंधे, वाला एक गोरे रंग का हैण्डसम नौजवान था। “वह इतने अच्छे लगते थे कि हर लड़की उनसे प्यार करने लगती थी और हर लड़की के मां बाप यह चाहते थे कि वह उनकी बेटी से शादी कर ले“।

शम्मी कपूर को याद है की, पृथ्वीराज को फैमिली बिज़नस में रूचि नहीं थी। वह ज्यादा पढ़े लिखे नहीं थे, लेकिन उन्हें उर्दू नाटक पढना पसंद था, जिससे उन्हें विभिन्न नाटकों के किरदार को निभाने की दिलचस्पी जागी थी। उनके पिता ने उन्हें अभिनेता बनने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था और साथ ही उन्हें आश्चर्य हुआ था कि उनके बेटे के दिमाग में इस ’शैतानी विचार’ को किसने रखा और उन्होंने कहा “अगर उन्होंने अभिनेता बनने का फैसला किया तो वह उन्हें नहीं देख पाएगे, मेरे परिवार और कपूर जनरेशन भूखी हैं और उनके सिर पर छत तक नहीं है।”

हालांकि पृथ्वीराज घर से भाग गए और भारत आ गए थे। वह कुछ छोटे थिएटर ग्रुप में काम खोजने में भाग्यशाली रहे, फिर आईपीटीए में शामिल हो गए और आखिर में अपनी खुद की कंपनी बनाई और इसे पृथ्वी थिएटर नाम दिया, एक ऐसा मंच जहां से हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच और आम आदमी द्वारा सामना की जाने वाली कई तरह की रोज की समस्याओं के बारे में भारत और पाकिस्तान के बीच शत्रुता के बारे में संदेश भेजे जाते थे। ‘पृथ्वी थिएटर’ में दर्शकों से कोई फीस नहीं ली जाती थी, लेकिन प्रत्येक शो के अंत में पृथ्वीराज स्वयं और कलाकार के साथ थियेटर के बाहर खड़े हो जाते थे और लोग उनके बैग में पैसे डाल दिया करते थे और यह ही उनके हर शो का कलेक्शन होता था। पृथ्वीराज जो मट्टुंगा में रहते थे, जहां थिएटर और फिल्मों के उनके कई दोस्तों और उनके तीन बेटे, राज, शम्मी और शशि रहते थे। वे सभी स्कूल से ड्रॉपआउट थे और केवल अपने पिता के कदमों पर चलने में रुचि रखते थे। राज पृथ्वी थिएटर में शामिल होने वाले उनके पहले बेटे थे और जहां उन्हें सामान्य स्पॉट बॉय की तरह नौकरी करनी पड़ती थीं और अपने पिता के नाटकों में भी थोड़ी सी भूमिका निभाने के लिए वह फर्श को भी साफ करने लगते थे। राज ने अपने पिता की सभी कंडीशनस को स्वीकार कर लिया था और इसी तरह शम्मी ने भी जब अपने पिता को यह कहते हुए सरप्राइज किया कि वह एक अभिनेता बनना चाहते हैं, चाहे जो हो जाए। शम्मी ने पृथ्वी द्वारा आयोजित कुछ नाटकों में काम किया और आखिरकार अपने पिता से कहा कि वह इस दुनिया से बाहर जाना चाहते हैं और खुद के लिए एक जगह तलाशना चाहते हैं। उनके पिता सहमत हुए लेकिन उन्होंने दृढ़ता से कहा कि यदि वह हारे हुए व्यक्ति के रूप में वापस आए तो वह किसी भी तरह से उनकी मदद नहीं करेंगे। shammi-kappoor rang badal diya

शम्मी स्टूडियो में चले गए बिना किसी को यह बताते हुए कि वह पृथ्वीराज कपूर के पुत्र थे। अंततः उन्हें ’रेल का डिब्बा’ नामक एक फिल्म में लीडिंग रोल मिला क्योंकि कोई और अभिनेता फिल्म में काम नहीं करना चाहता था। शम्मी ने अपनी जिंदगी उस फिल्म पर रख दी थी लेकिन जब फिल्म रिलीज हुई, तो उसने पहली बार देखा कि निर्माता उसे बिना कोई फीस दिए गायब हो गया था, और शम्मी को अकेले छोड़ दिया गया था, जैसे कि ट्रेन (रेल का डिब्बा) में खाली डिब्बे की तरह।

शम्मी के पास छोड़ने और अपने पिता के पास वापस जाने के कई रीज़नस थे और वह जा के यह कह सकते थे कि, “मैं हार गया, मुझे माफ़ कर दो.” लेकिन उन्होंने अभिनेता बनने की वह आग थी जिसने उन्हें ऐसा कुछ भी नहीं करने दिया।

इंडस्ट्री को धीरे-धीरे पता चला कि वह पृथ्वीराज कपूर के बेटे और राज कपूर के भाई थे, जिन्होंने पहले से ही एक अभिनेता और निर्देशक के रूप में इंडस्ट्री में अपना नाम बना लिया था। और ऐसे कई लोग थे जो मानते थे कि इस जवान आदमी में कुछ खास बात है, और उन्होंने उनको कुछ छोटी फिल्मों के लिए साइन किए जो फ्लॉप हो गई थी।

यह उनके दुर्बल और बेरोजगार दिनों के दौरान था कि उन्होंने अपने आइडियाज में से एक को आजमाने का सोचा जिसे वह महसूस कर सकते थे कि यह काम जरुर करेगा। उन्होंने एल्विस प्रेस्ली और क्लिफ रिचर्ड्स के सभी नृत्य और गीतों को देखने का फैसला किया, उन्हें बहुत बारीकी से उनके नृत्य रंगीन कपड़ो को देखा जो उन्होंने पहने हुए थे, और उनके बालों के जैसे स्टाइल को रखने के लिए अपनी पूरी कोशिश की। और लोगों को संभालने के उनके तरीके को देखा जिन्होंने उन स्थानों को बढ़ाया जहां उन्होंने प्रदर्शन किया था। उनके कोशिशों ने काम किया और उन्हें एक नए शम्मी कपूर में बदल दिया गया, जिसे पहली बार नासिर हुसैन (आमिर खान के चाचा) ने खोजा था जो उनकी पर्सनालिटी से इम्प्रेस्ड थे उन्होंने फिल्मालय स्टूडियो के मालिक, (काजोल के दादा) निर्माता एस मुख़र्जी से उन्हें आजमाने के लिए कहा था। जब तक उनके निर्देशक शम्मी पर विश्वास रखते थे तब तक मुखर्जी को उनसे कोई आपत्ति नहीं थी। उन्होंने अमिता नामक एक नई अभिनेत्री के साथ ’तुमसा नहीं देखा’ नामक एक फिल्म की थी। फिल्म में कुछ बहुत ही अच्छे संगीत थे, जिसमें शम्मी ने ऐसे डांस किया था जैसे कि उनका जीवन ही उस डांस पर निर्भर था। फिल्म काफी हिट साबित हुई थी और बन्नी रुबेन ने नए शम्मी का वर्णन करने के लिए कुछ लफ्ज़ तैयार किये। उन्होंने उन्हें एक टाइटल दिया, ’द रेबेल स्टार’ मतलब एक बागी अभिनेता। क्योंकि वह उन तीन लीजेंड दिलीप कुमार, देव आनंद और राज कपूर में से एक थे जो उन दिनों के दौरान सितारों के रूप में इंडस्ट्री पर राज कर रहे थे।shashi-kapoor-shammi-kapoor together

शम्मी को किसी बात की चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि उनके पास सिमिलर रोल्स के कई ऑफर्स थे। उन्होंने ’चाइनाटाउन’, ’सिंगापुर’, ’ब्लफमास्टर’ और ’दिल देके देखो’ जैसी फिल्में की थीं, जो कि उनकी और ब्लैक एण्ड वाइट फिल्मों की तुलना में एक बड़ी हिट थीं, जिन फिल्मों ने उस तरह के प्रभाव को बनाया जो दर्शकों को बड़ी संख्या में लाया था। हालांकि शम्मी एक ऊंचाई तक पहुंच गये थे जब उन्हें सुबोध मुख़र्जी की फिल्म ‘जंगली’ के लिए चुना गया था, फिल्म में वह एक खूबसूरत लड़की सायरा बानो के साथ काम कर रहे थे जो विदेश से लौटी थी। फिल्म के जिस सीन में वह कश्मीर की ढलानों पर कूद कर ’याहू’ गा रहे थे वह 60 के दशक का सबसे बड़ा मनोरंजन करने वाला सीन था जो अगले बीस वर्षों तक राज कर रहा था।

वह शायद दुनिया के एकमात्र ऐसे अभिनेता थे जिन्होंने ’जंगली’, ’बदतमीज़’, ’जानवर’ और ’पगला कहीं का’ जैसी नेगेटिव टाइटल वाली फिल्मों में काम कर उन्हें चमक डाली थी। हालांकि वह ’प्रोफेसर’, ’प्रिंस’ ’राज कुमार’, ’प्रीतम’ और ’सच्चाई’ जैसी फिल्मों में कुछ शानदार प्रदर्शन के साथ नजर आए थे। विजय आनंद की ’तीसरी मंजिल’ में हीरो की भूमिका को निभाने के बाद शम्मी कपूर सबसे ऊंचे चोटी पर पहुंच गए थे। फिल्म में उनके डांस, आरडी बर्मन के संगीत और फिल्म की कहानी ने फिल्म को एक कल्ट फिल्म बना दिया था।

यह वही समय था जब उन्हें खुद को अभिनेता के रूप में साबित करने का मौका मिला था। वह भप्पी सोनी की फिल्म ’ब्रह्मचारी’ के हीरो थे, जिसमें वह एक कुंवारे थे जो कई अनाथों की देखभाल करते थे। उनकी फिल्म में, राजश्री और मुमताज दो नायिकाएं थीं। इस फिल्म से शम्मी को खूब प्रशंसा मिली और फिल्म में उन्हें उनके प्रदर्शन के लिए पहली बार फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला। यह फिल्म, ’मिस्टर इंडिया’ के लिए भी एक प्रेरणा का स्रोत थी, जिसे कई साल बाद अनिल कपूर के साथ बनाया गया था।

शम्मी को निर्देशक शक्ति सामंत के साथ सात अलग-अलग फिल्मों जैसे, ‘चाइना टाउन’, ‘सिंगापुर’, ‘कश्मीर की कली’, ‘एन इवनिंग इन पेरिस’, ‘जानवर’, ‘पगला कहीं का’ और ‘जवान मोहब्बत’ में काम करने का गौरव प्राप्त है। वह एक ऐसे अभिनेता भी थे, जिन्हें उन लड़कियों के साथ काम करने में कोई समस्या नहीं थी, जो उनके साथ फिल्मों में डेब्यू कर रही थी जैसे अमीता फिल्म “तुमसा नहीं देखा”, कल्पना फिल्म “प्रोफेसर”, आशा पारेख फिल्म “दिल देके देखो”, शर्मीला टैगोर फिल्म “कश्मीर की कली” और सायरा बानू फिल्म “जंगल”।

जब उनकी अभिनेत्री-पत्नी गीता बाली की असामयिक मौत हो गई थी तो उन्होंने जीवन और अपने करियर की ओर रुचि को खो दिया था वह पत्नी की मौत के बाद से अन्दर से टूट गए थे। जिसके बाद वह पहाड़ों में शांति पाने चले गए थे। फिर जब वह पांच साल बाद वापस आए तो वह शम्मी कपूर का एक अलग रूप था। उनका हद से ज्यादा वजन बढ़ गया था और लगभग उनके सिर के सभी बाल ख़त्म हो गए थे और उन्होंने गले में सभी रंगों के मोतियों की मालाये पहनी हुई थी। उन्हें सामान्य रूप से वापस आने और अभिनेता के रूप में काम पर लौटने में काफी समय लगा था। उन्हें कई भूमिकाओं को निभाने के लिए अच्छा दाम देने का ऑफर दिया गया था लेकिन उन्होंने केवल कुछ ही स्वीकार किए थे। उन्होंने अपने निभाए गए सभी किरदारों में से उन्हें सबसे ज्यादा फिल्म ’विधाता’ में अपनी भूमिका याद थी क्योंकि इस फिल्म में उन्होंने महान दिलीप कुमार के साथ काम करने का मौका मिला था जिनके साथ उन्होंने हमेशा काम करने का सपना देखा था। वह जिस चरित्र को निभाना पसंद करते थे वह ’प्रेम रोग’ में था, जिसका निर्देशन उनके भाई राज कपूर ने किया था, जिसके साथ वह एक समय में एक लीडिंग मैन के रूप में काम करना चाहते थे लेकिन वह इतना भाग्यशाली नहीं थे। उन्हें ’आहिस्ता आहिस्ता’ नामक एक फिल्म भी याद थी, अपने किरदार की वजह से नहीं बल्कि फिल्म की शूटिंग के दौरान हुई एक घटना के कारण उन्हें यह फिल्म याद थी। प्रिंस चार्ल्स अपनी पहली यात्रा पर भारत आए थे और वह एक फिल्म स्टूडियो देखना चाहते थे जिसके लिए उन्हें राजकमल स्टूडियो में ले जाया गया था। स्टूडियो के मालिक डॉ वी शांताराम ने सभी कलाकारों को प्रिंस से इन्ट्रोड्यूज कराया था, लेकिन जब वह शम्मी की तरफ आए तो वह रुक गए और प्रिंस भी उनके साथ रुक गए। डॉ शांताराम ने कहा, “यह शम्मी कपूर है, जो भारत के सबसे महान डांसिंग स्टार में से एक है, कई लोग इनकी नकल करने की कोशिश करते हैं, लेकिन उनमें से कोई भी सफल नहीं होता।” शम्मी का कहना है कि डॉ शांताराम के वह शब्द मेरे लिए सभी पुरस्कारों की तुलना में कहीं अधिक कीमती थे जो किसी भी अभिनेता को जीत सकते थे।

  शम्मी एक बहुत ही स्मार्ट बिज़नसमैन भी थे। वह एफसी मेहरा जैसे लीडिंग फिल्म निर्माता के साथ साझेदारी में शामिल हुए और साथ में वे मुंबई के मिनर्वा टॉकीज और दिल्ली के गोलचा में स्वामित्व थे। उन्होंने फिल्मों को निर्देशित करने में अपना हाथ आजमाया और राजेश खन्ना के साथ ’बंडलबाज़’ और हॉलीवुड हिट ’इर्मा ला डौस’ पर बेस्ड फिल्म ’मनोरंजन’ बनाई, लेकिन दोनों फिल्में फ्लॉप हो गई और उन्होंने फैसला किया कि वह अब कभी भी फिल्म को निर्देशित नहीं करेंगे। वह वही शम्मी थे जिन्होंने एक बार शक्ति सामंत, भप्पी सोनी और रमेश सिप्पी (जो “शोले” बना रहे थे) जैसे निर्देशकों का मार्गदर्शन किया था। उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी के रूप में भावनगर की राजकुमारी नीला देवी से विवाह किया था। उनकी बेटी कंचन का विवाह उनके सबसे अच्छे दोस्त स्वर्गीय मनमोहन देसाई के बेटे केतन देसाई से हुआ है, और उनके बेटे आदित्य ने 50 साल की उम्र में अभिनय करना शुरू कर दिया था, शम्मी कहते हैं, “यह बेहतर है और मुझे आशा है कि वह कपूर परंपरा को बनाए रखे क्योंकि यह एक बहुत ही मूल्यवान विरासत है जो सभी कपूरों को विरासत में मिला है।”

  शम्मी को कुछ बुरे समय का सामना करना पड़ा जब उनकी दोनों किडनी फ़ेल हो गई थी और उन्हें सप्ताह में चार बार डायलिसिस से गुजरना पड़ा लेकिन जीवन के लिए उनका उत्साह तब भी वही बना रहा था। वह तब भी अपनी नई मर्सिडीज को अपने आप चला सकते थे और उन्होंने एक बार अपने भतीजे रणबीर कपूर से कहा, “आपको मरते दम तक जीना होगा, जीवित रहने के दौरान भी मरने का क्या फायदा है? जिसके कुछ हफ्ते बाद उनकी मृत्यु हो गई और यह खबर पूरे शहर के लिए फ्रंट पेज न्यूज़ बन गई।

कुछ खास शम्मी कपूर के बारे में

उनके पिता नहीं चाहते थे कि उन्हें शम्मी नाम दिया जाए क्योंकि उन्हें लगता था कि यह एक ऐसा नाम था जो केवल महिलाओं के योग्य था।

शम्मी एक बहुत ही शांत लड़का था, लेकिन वह टीनऐज में आते आते बागी हो रहा था और जब वह 20 वर्ष का हुआ तब वह पूरी तरह से बागी बन गया।

वह अपने सभी भाईयों की तरह थे जिन्हें पढ़ाई में दिलचस्पी नहीं थी, लेकिन उन्हें सारी बेस्ट बुक्स को पढ़ने में बहुत दिलचस्पी थी, ’क्योंकि किताबें आपकी पत्नी की तुलना में आपका बेहतर साथी हो सकती हैं।’

शम्मी और उनके डांसिंग स्टाइल ने कुछ बेहतरीन डांस डायरेक्टर को एक बड़ा कॉम्प्लेक्स दिया और जब वह डांस करते थे तो उन्हें डांस डायरेक्टर की भी आवश्यकता नहीं होती थी। उन्होंने अपने खुद के एक डांस स्टाइल को इंवेंट किया था।

शम्मी और उनकी लोकप्रिय अभिनेत्री पत्नी गीता बाली के पास भी वही सेक्रेटरी थी जो बोनी कपूर, अनिल कपूर और संजय कपूर के पिता श्री सुरिंदर कपूर के पास थी। श्री कपूर ने अक्सर कहा, “मैं और मेरी फैमिली कुछ नहीं कर पाती अगर श्रीमान और श्रीमती शम्मी कपूर ने हमारी मदद ना की होती वह मेरे लिए भगवान की तरह हैं।”

एक समय था जब उनकी और मुमताज की शादी करने के बारे में बात हो रही थी और दोनों एक दूसरे के प्यार में थे, लेकिन पूरा कपूर परिवार इस शादी के खिलाफ था।

एक अभिनेता जिसने शम्मी को एक कॉम्प्लेक्स दिया था वह कॉमेडियन महमूद थे जिनके साथ उन्होंने लिमिटेड फिल्में की थीं क्योंकि वह ज्यादातर अन्य हीरोज को पसंद करते थे वह जानते थे कि कैसे महमूद ने उनसे उनका हर दृश्य चुरा लिया था।geeta bali

शम्मी के पास प्राण को विलेन के रूप में अपनी 25 से ज्यादा फिल्मों में रखने का रिकॉर्ड है, लेकिन असल में वे दोनों रियल लाइफ में सबसे अच्छे दोस्त थे।

शम्मी हमेशा मनमोहन देसाई के सबसे अच्छे दोस्त रहे थे जो हमेशा से कपूरों के बहुत करीब थे। उनकी दोस्ती समाप्त हो गई जब शम्मी की बेटी कंचन ने मनमोहन के बेटे केतन से शादी कर ली थी।

उन्होंने आखिरकार ’पटियाला हाउस’ नामक एक फिल्म में अभिनय किया। उनके डॉक्टरों ने उन्हें दिल्ली से फ्लाइट लेने के लिए भी मना किया था लेकिन वह शूटिंग में भाग लेने के लिए दृढ़ थे क्योंकि ऐसी कोई गारंटी नहीं थी कि इस तरह का एक और मौका मिलेगा।

शम्मी को बाहर शूटिंग के समय हुई परेशानी के दौरान अपनी नायिकाओं की रक्षा के लिए जाना जाता है। उन्होंने उन लोगों को भी पीटा है जिन्होंने उनकी हीरोइंस को परेशान करने की कोशिश की है।

उन्हें राजकुमार की तरह व्यवहार करना पसंद था और जब भी वह भारत से बाहर जाते थे तो वह मेसेज भेज कर कहा करते थे कि, “भारत का राजकुमार दौरा कर रहा हैं.” और उनके साथ राजाओं, रानियों, राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्री के तरह का व्यवाहर किया जाता था।

वह बॉम्बे में लोगों को यह बताने वाले पहले व्यक्ति थे कि, कंप्यूटर हमारे जीवन के लिए कितना महत्वपूर्ण हिस्सा बनने वाला है। वह अपने कंप्यूटर पर कई घंटे बिताते थे और उन्हें कंप्यूटर की दुनिया में नवीनतम विकास के बारे में सब पता था।

उन्हें सबसे ज्यादा अफसोस इस बात का था कि वह अपने भाई राज कपूर के डायरेक्शन में काम नहीं कर पाए, और उनका यह सपना तब पूरा हुआ जब राज ने उन्हें फिल्म ’प्रेम रोग’ में लिया।

उनकी मृत्यु से कुछ समय पहले, उन्होंने जया बच्चन से कहा था कि वह अब इस दर्दनाक जीवन को जीते-जीते थक गए है और अब इसे खत्म करना चाहते हैं, लेकिन उसी समय में उन्होंने कहा, “आप माने या न माने लेकिन मैंने ऐसा जीवन जिया हैं जो अस्सी हजार से अधिक वर्षों के लायक हैं।”

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये