‘शोले’ बस शोर ही शोर वास्तविकता कुछ और

1 min


मायापुरी अंक, 55, 1975

रमेश सिप्पी की फिल्म शोले’ की प्रेस वालों ने खूब तारीफ की बड़े हंगामें के साथ फिल्म मुंबई में रिलीज़ हुई। लेकिन हंगामा सिर्फ एक हफ्ता ही रहा। कम से कम जनता में वह शोर अब नही है। इतने बड़े बड़े स्टार होते हुए भी लोगों को फिल्म इतनी पसंद नही आई है कई लोग जिन्होंने ‘शोले’ देखी है, उनका कहना है कि सब कुछ होते हुए भी कुछ कमी है। इसलिए जितनी बड़ी हिट होने का अंदाजा था, वह गलत साबित होगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये