शो मस्ट गो ऑन, मगर……

1 min


Coronavirus in India

कोरोना वायरस की महामारी ने पूरे विश्व को हिला कर रख दिया है। कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत होते ही 17 मार्च से फिल्म टीवी सीरियल और वेब सीरीज की शूटिंग, पोस्ट प्रोडक्शन आदि का काम बंद होते ही पूरा बॉलीवुड ठप हो गया था। 25 मार्च से पूरे देश में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने लाॅकडाउन लागू कर दिया था। पूरे 3 माह तक सब कुछ बंद रहा। इस बीच बालीवुड से जुड़े तमाम वर्कर, जूनियर डांसर ,जूनियर आर्टिस्ट, तकनीशियन और छोटे कलाकारों के सामने आर्थिक समस्या के साथ-साथ दो वक्त की रोटी का संकट भी पैदा हो गया। मगर इनकी दुर्दशा की तरफ किसी का ध्यान नहीं गया।

उधर लॉकडाउन होते ही सभी सैटेलाइट चैनलों पर सीरियलों के नए एपीसोड प्रसारित नहीं हुए, तो उनके दर्शकों की संख्या के साथ-साथ विज्ञापनों की संख्या में भी तेजी से गिरावट आती गई। जबकि इसी दौरान 28 मार्च से दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर रामायण, महाभारत, चाणक्य जैसे 30 वर्ष पुराने लोकप्रिय टीवी सीरियलों का प्रसारण शुरू हो गया। सभी दर्शक दूरदर्शन की तरफ मुड़ गए। दूरदर्शन के विज्ञापन भी बढ़ गए। इससे सैटेलाइट चैनल यानि कि ब्रॉडकास्टरों के बीच ऐसा हड़कंप मचा कि मई माह के दूसरे सप्ताह से ब्रॉडकास्टर ने टीवी सीरियल के निर्माताओं को साथ में लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जी के पास दस्तक दी। महाराष्ट्र सरकार के सांस्कृतिक विभाग ने 31 मई को आनन-फानन में कुछ दिशा निर्देशों के साथ फिल्म, टीवी सीरियल और वेब सीरीज की शूटिंग शुरू करने की इजाजत दे दी। मगर कोरोना के डर ने सुरक्षा उपायों को मजबूती प्रदान करने के लिए बॉलीवुड के संगठनों ने जोर लगाया। अंततः महाराष्ट्र सरकार की तरफ से 23 जून को नए दिशा निर्देश जारी किए गए। 25 जून से धीरे-धीरे सुरक्षा उपायों के साथ टीवी सीरियल की शूटिंग शुरू हुई। सीरियल के कलाकारों ने भी ‘कोरोना महामारी’ के डर के बावजूद शूटिंग करनी शुरू कर दी। कलाकारों व वर्करों ने अपनी तरफ से मास्क, सैनिटाइजर आदि का उपयोग करते हुए काम करना शुरू किया। सभी मानते हैं, कि काम तो करना ही पड़ेगा और हर किसी ने राज कपूर जी के कथन को दोहराया ‘शो मस्ट गो ऑन’।

हम भी चाहते हैं कि ‘शो मस्ट गो ऑन’ क्योंकि यदि फिल्म व टीवी इंडस्ट्री में काम नहीं हुआ, तो बेचारे वर्कर और उनके परिवार के सामने भूखे मरने के अलावा कोई राह नहीं रह जाएगी। मगर अभी जो ‘शो मस्ट गो ऑन’ की तर्ज पर टीवी सीरियलों की शूटिंग शुरू हुई है, उसके पीछे ब्रॉडकास्टरों की अपनी स्वार्थ परिता ज्यादा है! किसी को भी बॉलीवुड के वर्करों की फिक्र नहीं है! यह एक कटु सत्य है। अन्यथा हर ब्रॉडकास्टर और सीरियल निर्माता शूटिंग के दौरान फूंक-फूंक कर कदम बढ़ाता! उसी हिसाब से सुरक्षा के कड़क मानदंड अपनाता। यदि ऐसा होता तो सीरियल की शूटिंग के दौरान कलाकारों या क्रू मेंबर कोरोना संक्रमित ना होता। मगर कहीं ना कहीं कुछ लापरवाही तो हो रही है, तभी तो सीरियल ‘मेरे साईं’ का एक कलाकार कोरोना संक्रमित हुआ और एक सप्ताह तक शूटिंग बंद रही। वही सीरियल ‘कसौटी जिंदगी के’ में अनुराग का किरदार निभा रहे अभिनेता पार्थ समथान को कोरोना हो गया ।

कुछ दिन शूटिंग बंद रही, उसके बाद शूटिंग शुरू हो गई। अब खबर है कि निर्माता ने अनुराग के किरदार के लिए पार्थ समथान की जगह अन्य कलाकार की तलाश तेज कर दी है। हमने यहां यह सिर्फ दो उदाहरण ही दिए हैं, जबकि इस तरह के हादसे करीबन दर्जन भर टीवी सीरियलों के सेट पर हो चुके हैं। हमें भी पता है कि बॉलीवुड मुंबई में है। टीवी सीरियल की शूटिंग मुंबई में हो रही है । और मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण तेजी से फैला हुआ है। ऐसे में टीवी सीरियल निर्माता के साथ-साथ ब्रॉडकास्टरों की भी जिम्मेदारी बनती है कि वह इस तरह से काम करें, जिससे इंसानी जिंदगी को कम से कम खतरा हो। देखिए, हम भी चाहते हैं कि काम होता रहे। वर्कर और कलाकार की जेब में कुछ पैसे आए। मगर इनकी सुरक्षा के दायित्व को भी हमें ही समझना होगा। अतः हर सेट पर सुरक्षा के कुछ और अधिक उपाय करने की भी जरूरत है। कोरोना होने पर कलाकार या टेक्नीशियन या वर्कर की अदला बदली करना समस्या का समाधान नहीं हो सकता। सीरियल निर्माता व ब्रॉडकास्टरों को यह नहीं भूलना चाहिए कि इस तरह कलाकार या वर्कर की बदली कर वह पूरे बॉलीवुड व समाज तक गलत संदेश पहुंचा रहे हैं। इस कदम से ब्रॉडकास्टरों की अदूरदर्शिता और व्यावसायिकता ही उजागर हो रही है।

व्यवसायिक दृष्टिकोण से ही हर चीज को देखने की वजह से अमेजॉन प्राइम वीडियो ने मयंक शर्मा निर्देशित वेब सीरीज ‘ब्रीथ इन टू द शैडोज’ को 10 जुलाई से स्ट्रीम करने का निर्णय लिया। जबकि इसकी डबिंग पूरी नहीं हुई थी। इस वेब सीरीज के कलाकार अभिषेक बच्चन ने घर से निकलकर डबिंग स्टूडियो जाकर इस वेब सीरीज की डबिंग की और 12 जुलाई से अभिषेक बच्चन, उनके पिता अमिताभ बच्चन, पत्नी ऐश्वर्य राय बच्चन और बेटी आराध्या कोरोना संक्रमित होने के चलते मुंबई के नानावटी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। ऐसा नहीं है कि अभिषेक बच्चन या वेब सीरीज के निर्माता की तरफ से कोरोना से बचाव के सुरक्षा उपाय नहीं किए गए होंगे। मगर कहीं ना कहीं लापरवाही जरूर हुई, तभी तो कोरोना संक्रमण फैला। वास्तव में टीवी सीरियल निर्माता, ब्रॉडकास्टर और फिल्म निर्माता को अपने व्यवसायिक हितों के बारे में सोचते हुए यह याद रखना होगा कि सीरियल या फिल्म की शूटिंग के दौरान चेहरे पर मास्क लगाए रखना, 2 गज की दूरी बनाए रखने जैसा उपाय संभव नहीं हैं। कैमरे के सामने कलाकार मास्क लगाकर शूटिंग नहीं करता। दूसरी बात फिल्म या सीरियल की शूटिंग के काम की तुलना दूध, मेडिसिन, राशन आदि दुकानों के खुलने के काम के साथ भी नहीं की जा सकती। इसलिए शूटिंग के दौरान कोरोना महामारी से बचने के उपायों पर सैनिटाइजिंग आदि पर खास जोर देना होगा।

देखिए, ‘शो मस्ट गो ऑन मगर……’ ब्रॉडकास्टर और निर्माताओं को जागरूक रहते हुए सुरक्षा उपायों पर अमल करना पड़ेगा। मसलन हाल ही में ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन’ ने बताया है कि बंद कमरे के अन्दर कोरोना वायरस लंबे समय तक प्रभावशाली रहता है। हमारे यहां सीरियल या फिल्म की शूटिंग के दौरान स्टूडियो फ्लोर बंद रहते हैं। तो इस दिशा में सोचकर उपाय करना होगा। सलमान खान की फिल्म ‘राधे’ की शूटिंग अगस्त माह में मुंबई के महबूब स्टूडियो में होनी थी। लेकिन जैसे ही ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन’ ने कोरोना वायरस के संबंध में नई जानकारी दी, वैसे ही सलमान खान ने फिल्म के निर्माता अतुल अग्निहोत्री, सोहेल खान और निखिल नितिन से बात करके अगस्त माह से शूटिंग शुरू न करने का ऐलान कर दिया। क्योंकि बंद स्टूडियो के अन्दर कोरोना संक्रमण के फैलने के आसार ज्यादा हैं। अब ‘राधे’ की शूटिंग 15 अक्टूबर के बाद की जाएगी।

हर फिल्म निर्माता के सामने अपनी फिल्म को पूरा करने का दबाव है। फिल्म की शूटिंग शुरू होगी तो ही वर्कर को भी पैसा मिलेगा, मगर कुछ लोग सिर्फ व्यवसायी की तरह नहीं बल्कि मानवीय धरातल पर सोचते हुए निर्णय ले रहे हैं। निर्माता रतन जैन और निर्देशक प्रियदर्शन की फिल्म ‘हंगामा 2’ की अपनी समस्या है। इस फिल्म में शिल्पा शेट्टी ,परेश रावल, मीजान जाफरी, प्रणिता सुभाष के साथ ही 8 से 11 साल की उम्र के 5 बच्चे अभिनय कर रहे हैं। इस फिल्म की 17 दिन की शूटिंग मार्च में ऊटी में हो चुकी है। पिछले 4 माह से शूटिंग बंद हैं, पर 8 वर्ष से 11 वर्ष की उम्र के बच्चे बड़े हो रहे हैं, उनकी शारीरिक और चेहरे की बनावट में भी अन्तर आ रहा है। ऐसे में प्रियदर्शन के सामने इन बच्चों के साथ शूटिंग करना कंटिन्यूटी का संकट है। तो रतन जैन और प्रियदर्शन 15 सितंबर से हिमाचल प्रदेश के कुल्लू और मनाली में शूटिंग करने की योजना बना रहे हैं। हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण कम हैं। वहां की सरकार कोरोना से बचाव के उपाय करने का वादा भी कर रही है।

जी हां! हम भी चाहते हैं, कि ‘शो मस्ट गो ऑन’ फिल्म इंडस्ट्री में शूटिंग का सिलसिला जारी रहे, मगर कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से बचाव के लिए उचित रास्ते तलाशने के साथ ही सुरक्षा के समुचित उपाय भी अमल में लाने होंगे ,जिससे किसी भी इंसान की जिंदगी पर खतरा ना पैदा हो।

-संपादक


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये