श्रवण, सुरों का सुरीला सहारा पीछे छूट गया

1 min


प्रिय कोविड, मुझे लगता है कि आप मृत्यु से अधिक क्रूर हो गए हैं। आप हमें नष्ट करने में क्यों लगे हैं? आपने अपनी इस अंधकारमयी शक्ति को एक वर्ष से अधिक समय से दिखा रहे है, आप हमें कम से कम अब शांति में क्यों नहीं छोड़ देते है? तुम्हारा ये मौत का थंडव कब तक चलेगा? –अली पीटर जॉन

अब, आपने श्रवण कुमार जैसे सरल और मधुर व्यक्ति के साथ क्या किया है, जिसने अपना जीवन संगीत के लिए समर्पित कर दिया था। वह अपने परिवार के साथ शांति से रह रहे थे और संगीत से प्यार करते थे और संगीत के साथ रहते थे, भले ही वह काम करने और पैसा कमाने में बहुत व्यस्त नहीं थे, लेकिन आपने अपनी सर्वशक्तिमान क्रूरता में उसे अपना शिकार बनाने का फैसला किया और आपने उस पर और उसके परिवार पर कोई दया नहीं की और आप केवल तभी संतुष्ट हुए जब अपने 67 साल की उम्र में उनकी सांस छीन ली। आपको नहीं लगता की उन्हें जीने के लिए थोड़ा और समय दिया जाना चाहिए था।

श्रवण कुमार राठौड़ एक ऐसे परिवार में पैदा हुए थे जहाँ संगीत जीवन और प्रेम का एक तरीका था। वह हिंदी फिल्मों में एक संगीतकार बनने की ख्वाहिश रखते थे और उनका सपना बड़े पैमाने पर तब साकार हुआ जब उनकी मुलाकात संगीत के दूसरे प्रेमी नदीम अख्तर शफी से हुई थी। उन्होंने एक टीम बनाई और खुद को नदीम-श्रवण बताया। उन्होंने म्यूजिक टेन के नाम से कुछ निजी एल्बमों की रचना शुरू की और फिर एक भोजपुरी फिल्म ‘दंगल’ के लिए संगीत दिया। जिसका संगीत बिहार के हर घर में एक हाउसहोल्ड ब्रांड बन गया।

नदीम-श्रवण ने कई छोटी फिल्मों के लिए संगीत तैयार किया। उनके जीवन में एक चमत्कार हुआ।

गुलशन कुमार जिन्होंने अपनी म्यूजिक कंपनी शुरू की थी। सुपर कैसेट्स ने एक संगीत बैंक शुरू किया था जिसमें उन्होंने कई नए कलाकारों के संगीत और गीत संग्रहीत किए और नदीम श्रवण और समीर इसका एक हिस्सा थे। गुलशन कुमार अब फिल्मों का निर्माण करना चाहते थे और महेश भट्ट को उनके लिए एक फिल्म निर्देशित करने की कोशिश करने को कह रहे थे। गुलशन ने अपने दोस्त मुकेश भट्ट को दस गाने दिए और उनसे कहा कि वह महेश को गाने के चारों ओर एक स्क्रिप्ट बुनने के लिए कहें। महेश ने यह किया था और एक फिल्म का निर्देशन करने के लिए उन्हें 10 लाख का भुगतान किया गया था, जो महेश की राशि थी जिसे उस समय का कोई अन्य निर्देशक सपने में भी नहीं सोच सकता था। महेश ने दो नए कलाकारों के साथ ‘आशिकी’ बनाई और फिल्म के गीत समीर द्वारा लिखित और नदीम श्रवण द्वारा कंपोज किये गए थे और इस फिल्म के संगीत ने हर तरफ सनसनी मचा दी थी। और नदीम-श्रवण स्टार बन गए थे।

नदीम श्रवण ने हिंदी फिल्मों में संगीत की दुनिया पर तब तक राज किया, जब तक गुलशन कुमार की गोली मारकर हत्या नहीं कर दी गई और नदीम का नाम गुलशन कुमार की हत्या की साजिश में शामिल कहा जाता था और नदीम देश छोड़कर भाग गए थे और फिर कभी वापस नहीं लौटे थे।

श्रवण जो अकेले रह गए थे और उसे पहले की तरह का काम या मान्यता नहीं मिली थी लेकिन जब भी उसने संगीत बनाया, उसने नदीम श्रवण नाम का इस्तेमाल किया। जीवन फिर से वही नहीं था और नदीम श्रवण की यह टीम आधिकारिक तौर पर 2005 में समाप्त हो गई थी।

श्रवण को अपने बेटे संजीव को खुद संगीतकार के रूप में विकसित होते देखने का संतोष था। श्रवण की अपने बेटे के साथ वापसी करने की उम्मीद थी, लेकिन कोविड और मौत की जुड़वां शक्तियों द्वारा खेले गए गंदे और बुरे खेल को देखें। श्रवण पर मेरे इस लेख को लिखने के समय, उद्योग अभी भी यह विश्वास करने को तैयार नहीं है कि उसके पसंदीदा में से एक ने उन सभी को छोड़ दिया है जो फिर कभी वापस नहीं लौटेंगे।

तुम जहाँ गए हो वहां खुशियाँ ही खुशियाँ हो

हम कयों गम करे आपके जानेका? आप नहीं तो क्या, आपकी धुनें हमारे साथ रहेंगी हमेशा हमेशा के लिए।

अनु- छवि शर्मा

 

SHARE

Mayapuri