दीपा आनंद ने लाॅकडाउन में घर में बनाया 36 वीडियो एल्बम, जानिए कैसे ?

1 min


जब कोरोना के चलते लॉकडाउन में पूरा फिल्म उद्योग  यह सोच बनाकर चल रहा था की जब तक कोरोना है कुछ नहीं होने वाला , तब एक गायिका ऐसी भी थी जिसने खाली समय का उपयोग किया। उन्होंने कुछ गाने लिखे, उनकी धुन तैयार की, फिर ट्यून के साथ रिहर्सल की, और सीमित उपकरणो की सहायता से  धुन को कम्पोज किया।

शरद राय

इनके एल्बम  इन दिनों यू-ट्यूब पर धमाल मचाये हुए हैं

deepa anand

जब सब कुछ हो गया तो उसने अपनी आवाज में बेहद सुरीले गीत रिकॉर्ड  कर लिए। इस तरह से उसने एक नहीं 36 एल्बम बना डाले हैं ! जानना चाहेंगे यह मोहतरमा कौन हैं? यह हैं दीपा आनंद ! इनके एल्बम  इन दिनों यू-ट्यूब पर धमाल मचाये हुए हैं।

दीपा आनंद फिल्म इंडस्ट्री के लिए नई नहीं हैं।  कभी मशहूर संगीतकार आनंद राज आनंद के साथ इनका नाम जुड़ा था। वह कहती हैं -“यह सही है कि मैं आनंद जी की डाईहार्ड फैन रही हूँ। उनसे प्रेरणा लेकर बहुत कुछ सीखा है लेकिन इस कोरोना के संक्रमण काल में जीवन ने बहुत कठोर पाठ पढ़ाया है।

मैंने घर में रहकर काम करना सीख लिया है। चूँकि अच्छा गाती हूँ ऐसा लोग कहते हैं, लिखती भी हूँ, और मुझे कम्पोजिशन का शौक भी रहा है, सो मैंने सोचा क्यों न म्यूजिक पर ही काम करूँ।  और, मैंने तैयार कर दिए 36 एल्बम घर में बैठकर।

“ पहला एल्बम जो मैंने किया था कोरोना को लेकर  ’कोविड से जीतेंगे ’  जिसका वीडियो भी मैंने घर में ही बना लिया था। इसको यू-ट्यूब पर डाला था, खूब पसंद किया गया। फिर तो हौसला बढ़ गया, गाने बनाती गयी मोबाइल फोन पर ही रिकॉर्डिंग, एडिटिंग, शूटिंग सब किया।

वनमैन शो ज़रूर था लेकिन मेरे ही लोग देख सुन कर दंग हैं। उसके बाद ’बर्थ डे’ एल्बम किया। फिर लगातार ’माँ काली’, ’माँ लक्ष्मी’ ’माँ शेरावाली’ ,’दुर्गा माँ जागो’, ’गणेश भजन’ ,’विजय दशमी स्पेशल’, ’दीपावली स्पेशल’, फिर देश भक्ति के सीरीज बनाये जैसे ’देश भक्ति के गीत’और कई फिल्मों का कवर वर्ज़न किया जैसे ’मेरे रसके कदम, ’श्रीदेवी की फिल्मों के गीतों का ट्रिब्यूट’ वगैरह वगैरह।

आनंदराज आनंद की सलाह तो लिया ही होगा ?

जी नहीं, मैं पुरानी किसी भी चर्चा में नहीं पड़ना चाहती। ये सब विशुद्ध रूप से दीपा आनंद के एल्बम हैं। जो लॉकडाउन की बेकारी के दिनों में बने हैं और जिनको पसंद करने वालों की संख्या लाखों में है। “ दीपा बताती हैं कि वह आनंदराज आनंद के गीत संगीत को बहुत पसंद करती हैं – “मैं ’मासूम’ के गीत ’छोटा बच्चा जान के हमको..’ के दिनों से उनको पसंद करती आई हूँ। आनंद के गीत ’दिल दे दिया है’ ,’ इश्क समंदर’, ’जलेबी बाई’ जैसे गानों  को  गाना  चाहती हूँ।“


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये