सोनाक्षी सिन्हा मुक्त पंछी की तरह पंख पसार चुकी है

1 min


सोनाक्षी सिन्हा जब से मालदीव से कुछ दिनों की छुट्टियाँ मना कर लौटी है तब से उनमें कुछ अलग सी चंचलता भर गई है, वह एक मुक्त पंछी की तरह पंख पसारने लगी है, वह अब उड़ना चाहती है, वैसे भी वह हमेशा से ही ट्रैवल करना, घूमना, फिरना पसंद करती रही है। मालदीव से जब वह लौटी तो अपने साथ वहाँ खिंचे गये अलग अलग रमणीय स्थलों और बीचेस की चार सौ तस्वीरें भी साथ लाई।
20-sonakshi-sinha

अब वह अलग अलग नये नये लोकेशन में जाकर वहाँ की संस्कृति और रहन सहन के बारे में जानना चाहती है, वह कहती है कि देश विदेश की सैर से उसे विकसित होने और एक अच्छी एक्ट्रेस बनने में मदद मिलती है। जब उनसे पूछा गया कि दुनिया में कौन सी जगह उन्हें सब से अच्छी लगती है? तो वह कहती है, ‘‘गोवा, केरला, बाली (इंडोनेशिया) मोरक्को, टोक्यो (जापान), वेनिस, रोम (इटली), वेटिकान सिटी तथा बाहामास’’ सोनाक्षी को समुन्द्र पसंद है, समुद्री खेल पसन्द है, समुन्द्र के किनारे किनारे रेत में चलते रहना पसंद है। सोनाक्षी वाकई एक मुक्त पंछी है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये