सोनम कहती है कि रिश्ते जब बोझ बन जाये तो उन्हें छोड़ना अच्छा

1 min


Sonam-kapoor1.gif?fit=650%2C450&ssl=1

अभी कुछ समय पहले, सोनम जब इंटरव्यू के दौरान चंद प्रश्नों के जवाब दे रही थीं तो बातों बातों में व्यक्तिगत एहसासों की बात भी उठी और सोनम ने अपना अनुभव बताते हुए कहा कि किस तरह लोग अपने रिलेशनशिप में हर बार अपने साथी को प्रसन्न करने की कोशिश में खुद का व्यक्तित्व खोते रहने के स्ट्रेस में जीते हैं, वे बोली, “जिंदगी में एक वो वक्त भी आया जब मैं सामने वाले को हैप्पी देखने के लिये अपनी इच्छाओं और खुशियों को ताक पर रखकर उनकी इच्छाओं पर जी रही थी, लेकिन कब तक मैं अपना व्यक्तित्व छोड़कर सामने वाले का व्यक्तित्व ओढ़कर जीती ? मैंने उससे सम्बन्ध तोड़ लिया, मैं समझ गयी कि मैं किसी का साथ पाने के लिये अपने को पूरी तरह बदल नहीं सकती और ना ही मुझे बदलना चाहिये।” यानी किसी के प्रति  प्यार और ममता के खातिर उनकी उम्मीदों और गुजरिशों को पूरा करते हैं तो संबंधों में मजबूती आती है लेकिन गुज़ारिशें जब डिमांड्स बनकर आपके एथिक्स और वैल्यूज पर हावी हो जाये तो सावधान होकर उस रिश्ते को त्यागना ही समझदारी है।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये