‘जी टीवी के शो डीआई डी में जज बनने के अवसर पर बताया गोविंदा ने ‘‘मेरा लकी नंबर है चौदह’’

1 min


गोविंदा ने अपनी दूसरी पारी हालांकि फिल्मों से शुरू की। लेकिन अब उन्हें टीवी पर काम करने से भी कोई एतराज नहीं। शायद इसीलिये रियलिटीज शोज के लिये हमेशा ना, नुकर करने वाले गाविंदा को इस बार जीटीवी ने अपने पॉपुलर रियेलिटी शो डांस इंडिया डांस में तीसरा जज बनने के लिये राजी कर ही लिया । जल्द ही शुरू होने जा रहे इस शो के बारे में गोविंदा अब काफी कुछ जानते हैं ।

govina, karan vahi, geeta kapur
चीची आखिर क्यूँ इस तरह के शोज नकार दिया करते थे। पता चला कि उन दिनों वे एक ऐसे दौर से गुजर रहे थे जो हर कामयाब स्टार के जीवन में आता है। कि उस पर हीरो का चौला उतार  कुछ दूसरे रोल्स करने का दबाव होता है लेकिन ये सब आसानी से नहीं हो पता। इसी उंहापोह में गोविंदा ने करीब पांच वर्ष ऐसे ही गुजार दिये। इन पांच सालों के दौरान न तो उनकी कोई फिल्म रिलीज हुई न ही कोई टीवी शो। आखिरकार उन्हें हीरो के अलावा दूसरी भूमिकायें करने का हाैंसला उनकी बीवी सुनीता ने दिया  तो उन्होंने इस फिल्ड में एक बार फिर उतरने का फैसला कर लिया।  जैसे ही ये खबर बॉलीवुड में पहुंची तो एक बार फिर उनके पास ऑफर्स आने लगे। पिछले दिनों उन्होंने यशराज बैनर की फिल्म में निगेटिव किरदार निभाने के अलावा कुछ अन्य फिल्मों भी अलग अलग किरदार निभाये और अब आगे भी निभाने जा रहे हैं। इसी दौरान जीटीवी ने इस डांसिंग स्टार को अपने रियलिटी डीआईडी के बारे में बारीकी से बताते हुये जज बनने का ऑफर दिया तो इस बार उन्होंने ये ऑफर कुबूल कर लिया। पहले इस शो में मिथुन चक्रवर्ती हुआ करते थे लेकिन इस बार उन्हें रिप्लेक्स कर उनकी जगह गोविंदा को लाया गया। इस शो में उनके अलावा गीता कपूर और टेनेंस लूईस अन्य जज है तथा शो के होस्ट जय भानूशाली की जगह टीवी एक्टर करन वाही को लाया गया ।

govinda
जब गोविदां से इस शो के बारे में पूछा गया तो उन्होंने अपनी चिरपरिचित हंसने वाले अंदाज में बताया कि इस बार ये उन सुपर मांओं को लेकर शो है जो अपनी ग्रहस्थी चलाने के अलावा आज भी बेहतरीन डांस करती हैं। ऑडिशन के वक्त मैंने देखा कि कितनी ही मॉम्स आज भी इतनी बेहतरीन डांसर्स हैं कि उन्हें डांस करते देख हैरानी होती है। चीची का कहना है कि जी टीवी ने इस शो के तहत मांओं का परिचय भी अलग ढंग से दिया है जैसे वे कहते हैं शायद ही ऐसा कोई काम होगा जो आपकी मॉम ने आपके लिये न किया हो। उन्होंने बचपन में आपकी हमदर्द बनकर आपके आंसू पोंछे। जब भी आपने शरारत की उन्होंने आपको पापा की डांट से बचाया… उन्होंने शेफ बनकर आपको आपका पंसदीदा खाना बनाकर खिलाया होगा और आपकी गुरू बनकर आपको हर उस काम के लिये प्रोत्साहित किया होगा जो आप करना चाहते हैं। यही नहीं मां ही आपके पिता की मदद  करने के लिये, घर के अलावा कंधे से कंधा मिलाकर आफिसों में काम करके उनका बोझ कम करती हैं। इसलिये उनके इस समर्पण के लिये उनके पैर नहीं छूने चाहिये क्या ? मांये जब इतनी जिम्मेदारियां उठाते हुये भी इस फन में यानि डांस करने में इतनी माहिर है तो इससे उनकी ताकत का एहसास नहीं होता। अगर नहीं होता तो डीआइडी जैसा शो देख कर हो जायेगा। जहां तक प्रत्योगियों को जज करने की बात है तो गोविंदा का कहना है टेक्निकली जजमेंन्ट गीता कपूर और टेरेंस का होगा। मुझे  सिर्फ प्रत्योगियों के भाव जज करने हैं ।geeta kapur, govinda
गोविंदा कहते हैं अभी तक मैने कभी ध्यान नहीं दिया था कि चौदह नंबर का मेरे जीवन में विशेष महत्व है। जैसे चौदह साल की उम्र से मैंने हीरो बनने का सोचना शुरू कर दिया था। बाद में चौदह मई को मैंने दोपहर को अपनी पहली फिल्म ‘तनबदन’ साइन की उसी दिन कुछ घंटों बाद ‘लव 86’ साइन की। चौदह तारीख को ही में लोकसभा मेंबर चुना गया था। इसके बाद पांच साल तक मेरी कोई फिल्म नहीं आई लेकिन दो हजार चौदह को एक बार फिर मेरी फिल्में बड़े परदे पर लगी। चौदह साल पहले मैंने टीवी पर एक शो किया था‘ छप्पर फाड़ के’ और चौदह साल बाद एक बार फिर जीटीवी पर ये शो करने जा रहा हूं ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये