टीवी सीरियल्स हफ्तों के सातों दिन…… दर्शकों के लिए एंटरटेनमेंट या बोरिंग?

1 min


naagin-jamai-raja-ye-hai-mohabbatain.gif?fit=650%2C450&ssl=1

टीवी सीरियल्स कुछ समय पहले हफ्तें में पांच दिन टेलिकास्ट हुआ करते थे। लेकिन अब वही टीवी सीरियल्स हफ्तें में सातों दिन प्रसारित हो रहे है। दर्शकों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए पेशकश में विविधीकरण को महसूस किया गया व हिन्दी जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (जीईसी) ने टीवी सीरियल्स को प्राइमटाइम, शाम के प्राइमटाइम, सप्ताहांत प्राइमटाइम व रविवार की सुबह के सूची में दिखाया जाता था। चैनलों पर प्रोग्रामिंग बनाया गया जिससे कि दर्शक अलग अलग समय पर विभिन्न शोज़ (सास-बहू) का आनंद उठा सके। जैसे की शाम के प्राइम टाइम महिला दर्शक के लिए तय किया गया था। तो वहीं वीकेन्ड्स में पुरुषों के लिए  नॉन-फिक्शन व क्राइम-रिलेटेड शोज़ तय किया गया था।

लेकिन अब टीवी सीरियल्स हफ्तें में सातों दिन आने लगे है। जिसमें स्टार प्लस के शोज़- ‘सिया के राम’, ‘साथ निभाना साथिया’, ‘मेरे अंगने में’, ‘सुहानी सी एक लड़की’, ‘ये है मोहब्बतें’, ‘दहलीज़’, ‘प्यार का सिलसिला’,’ दीया और बाती हम’, ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ व ‘तमन्ना’ है। कलर्स चैनल के तीन शोज़ ‘ससुराल सिमर का’,‘थपकी प्यार की’, ‘इश्क का रंग सफेद’ भी जल्द ही हफ्तें में सातों दिन दिखाया जायेंगा।  तो वहीं जीटीवी के शो की बात करें तो उसमें  ‘सतरंगी ससुराल’, ‘काला टीका’, ‘क़ुबूल है’,’ जमाई राजा’, ‘सरोजिनी’ व ‘टशन-ए-इश्क’ सीरियल्स भी शनिवार को दिखाने की तैयारी में हैं। दर्शकों के लिए यह सब अब शायद उबाऊ होता जा रहा है व दर्शकों को यह रास नहीं आ रहा। दर्शक पहले वीकेंड्स पर नॉन-फिक्शन सीरियल्स देखा करते थे। लेकिन वहीं टीवी सीरियल्स पांच दिन की जगह हफ्तें में सातों दिन दिखाया जा रहा है व अन्य सीरियल्स भी हफ्तें के सातों दिन शोज़ दिखाने की तैयारी कर रहे है। जो कि दर्शकों के लिए बोरिंग होता जा रहा है।

 

 

 

 

 

 

 

   


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये