एक्टर बनना और सुहानी का कैरेक्टर करना मेरे भाग्य में था – रानी राजश्री

1 min


‘सुहानी सी एक लड़की’ में टाइटल रोल सुहानी का किरदार निभाने वाली रानी राजश्री आज टीवी की जानी मानी हस्ती हैं। उनके किरदार सुहानी को लोगों ने खुले दिल से पसंद किया था, पर वो कैसे इस किरदार तक पहुंची, उनका किरदार क्या है और वो कैसे एक्टिंग फील्ड में आईं, ये जानने के लिए पढ़िए वरिष्ठ पत्रकार ज्योति वेंकटेश द्वारा लिए गए रानी राजश्री के इंटरव्यू के अंश में

सुहानी सी एक लड़की शो में अपने किरदार के बारे में हमें कुछ बताइए?

रानी राजश्रीसुहानी एक सांवली लड़की की कहानी है, जो बहुत ज़्यादा सुंदर नहीं है. यह शो इलाहाबाद शहर पर बेस्ड है. अपनी सांवली रंगत के कारण बचपन से ही उसे काफ़ी कुछ झेलना पड़ता है. हर कोई उससे यही पूछता रहता था कि उसके जैसी सांवली लड़की से भला कौन शादी करेगा. पर वो बहुत ही ख़ुशमिजाज़ और ज़िंदादिल लड़की है.

रियल लाइफ में आप काफ़ी सुंदर दिखती हैं, ऐसे में इस किरदार के साथ ख़ुद को किस तरह से जोड़ा आपने?

रानी राजश्रीअसल ज़िंदगी में भी मेरा रंग गेहुंआ है, पर सुहानी के लिए मुझे ऐसा मेकअप करना पड़ता था, जिससे मैं और सांवली दिखूं। किरदार के लिए अपनी रंगत से 2 टोन डार्क मेकअप करना पड़ता था मुझे। लेकिन अगर किरदार की बात करें, तो सुहानी का किरदार निभाना मेरे लिए काफ़ी आसान था, क्योंकि रियल लाइफ में मैं भी सुहानी की ही तरह ख़ुशमिजाज़ और ज़िंदादिल हूं. मैं यह कह सकती हूं कि सुहानी और राजश्री एक जैसी हैं, इसलिए इस किरदार को निभाने में मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई.

इसका मतलब आपको ऐक्टिंग करने की ज़रूरत ही नहीं पड़ी?

हंसते हुए, ऐसा हम पूरी तरह से नहीं कह सकते, क्योंकि बोलना जितना आसान होता है, करना उतना नहीं। पर हम कलाकार कोशिश करते हैं कि कैमरे के सामने ऐक्टिंग न करके ज़्यादा से ज़्यादा उस माहौल में सहज बने रहें। पर यह पूरी तरह से टीम वर्क होता है. सुहानी मेरा पहला शो था और मुझे ऐक्टिंग का कोई अनुभव नहीं था.

ओह! क्या यह आपका पहला शो था?

जी हां, यह मेरा पहला शो था और यह पूरा टीम वर्क ही था, क्योंकि प्रोडक्शन और डायरेक्टर्स को मुझ पर काफ़ी मेहनत करनी पड़ी थी. मेरे लिए यह आसान था, पर उतना भी नहीं। आपको काफ़ी मेहनत और लगन के साथ काम करना पड़ता है, क्योंकि कैमरे की तकनीकियों के बारे में आपको कुछ पता नहीं होता। किस तरह व्यवहार करना है, क्या-क्या नहीं करना है आदि. पर मेरे लिए यह थोड़ा आसान था, क्योंकि मैं ऐसा किरदार निभा रही थी, जैसी मैं ख़ुद हूं. इसलिए इस रोल को करने में मुझे काफ़ी मदद मिली।

आपको इस शो में बतौर एक्टर ब्रेक कैसे मिला?

इसकी शुरुआत ऑडिशन से हुई. मुझे याद है, मैं सुहानी की दोस्त सौम्या के किरदार के लिए गई थी. उसके बाद एक महीने तक कोई मैसेज नहीं आया, पर अचानक से एक दिन उसी प्रोडक्शन हाउस से कॉल आया, पर यह सुहानी के किरदार के लिए था. मुझे कई बार रीडिंग और ऑडिशन के लिए बुलाया गया. उसके बाद कई लुक टेस्ट और मॉक टेस्ट हुए, जिसके बाद मैं बनी सुहानी।

इसका मतलब सुहानी का रोल मिलना इतना आसान नहीं था?

रानी राजश्रीहंसते हुए, यह बिल्कुल भी आसान नहीं था. हमारे कास्टिंग डायरेक्टर ने जब मॉक टेस्ट के लिए बुलाया, तो इस तरह से बताया गया कि वो यह मॉक टेस्ट सिर्फ़ मेरे साथ कर रहे हैं, ताकि मेल एक्टर के साथ मेरी केमिस्ट्री चेक की जा सके. इसलिए मुझे विश्वास हो गया था कि यह रोल मुझे मिल गया है. पर मुझे याद है कि जब मैं मॉक टेस्ट के लिए गई, तो वहां एक और लड़की ऑडिशन के लिए आई थी. वो चंडीगढ़ से आयी थी और उन्होंने काफ़ी देर तक उसके साथ ऑडिशन किया. उसे देखकर मैं थोड़ा टेन्स हो गयी थी. मुझे लगा यह रोल मुझे नहीं मिलेगा।

मेरे मॉक टेस्ट में उन्होंने सिर्फ़ एक गाना चलाया था, जिस पर मुझे मेल एक्टर के साथ डांस करना था, जो एक टेक में हो गया था. उन्होंने मुझे समझाया था कि कैसे अलग अलग एक्सप्रेशंस देने हैं और ऊपर से मैं साहिल से पहली बार मिल रही थी. अभी तो मुझे याद भी नहीं है, पर तब मैंने कुछ तो किया और घर आ गई. मुझे हमेशा से ही सेट पर काम और टेंशन छोड़कर जाने की आदत है. प्रोडक्शन वालों का कॉल नहीं आया, यह सब सोचकर मैं स्ट्रेस भी नहीं लेती. अक्सर प्रोडक्शन हाउस से कॉल आने में समय लगता है, पर सुहानी के लिए मुझे अगले दिन ही कॉल आ गया. उन्होंने बताया कि वो मेरे साथ एक पायलट एपिसोड करेंगे. उसके लिए उन्होंने मुझे एक लंबी-चौड़ी लिस्ट दी जो मुझे सीखनी थी, जिसमें स्कूटी सीखना भी शामिल था, क्योंकि सुहानी स्कूटी चलाती है.

तो आख़िरकार उन्होंने बताया कि यह रोल सुहानी के लिए है सौम्या के लिए नहीं?

वो तो उन्होंने तभी बता दिया था, जब दूसरी बार स्क्रिप्ट रीडिंग के लिए बुलाया था.

क्या इसका दूसरा सीज़न आनेवाला है?

नहीं, ऐसा कुछ नहीं है. किसी ने शायद अफ़वाह उड़ाई थी और फैंस और फॉलोवर्स ने भी फेसबुक और इंस्टा पेजेस बना दिए थे, पर ऐसा नहीं है. हम सेकण्ड सीज़न लेकर नहीं आ रहे हैं.

तो यह पहले स्टार पर टेलीकास्ट हुआ था और अब शेमारू टीवी दर्शकों के लिए इसे वापस लेकर आ रहा है?

जी हां, शेमारू टीवी मेरे सभी चाहनेवालों के लिए यह शो दोबारा लेकर आए हैं.

शेमारू टीवी के बारे में आप क्या कहना चाहती हैं?

रानी राजश्रीमुझे अभी तक शेमारू टीवी देखने का मौका नहीं मिला, पर जब मुझे पता चला कि वो सुहानी को रिटेलीकास्ट कर रहे हैं, तो मैं बहुत ख़ुश हुई. सुहानी मेरे दिल के बहुत करीब है और शो भी काफ़ी लंबे समय तक चला था. इसने 1000 एपिसोड्स पूरे किये थे, इसलिए सुहानी, वो सेट और उससे जुड़े लोग मेरे लिए आज भी परिवार की तरह हैं. जब मुझे पात चला कि शेमारू टीवी इसे टेलीकास्ट कर रहा है, तो मेरा इंस्टाग्राम अकाउंट इमेजेस से भर गया और उन्हें देखकर कई सुनहरी यादें ताज़ा हो गईं. कैसे हमने यह सीन शूट किया था, शूट करते वक़्त कितना मज़ा किया था, वो सभी यादें लौट आईं. इसलिए मैं बहुत ख़ुश हूं कि शेमारू टीवी इसे वापस टेलीकास्ट कर रहे हैं और सभी लोग शो को दोबारा एंजॉय कर पाएंगे। इसलिए मैं बहुत ख़ुश और एक्साइटेड हूं कि सुहानी टीवी पर वापस आ रहा है.

तो कुल कितने एपिसोड्स थे?

कुल एपिसोड्स 1000 से भी ज़्यादा थे, हमने लगभग 3 साढ़े 3 साल तक शूटिंग की थी.

किस साल यह शुरू हुआ था?

यह 2014 में शुरू हुआ था और 2017 तक चला.

उसके बाद आपने कितने सीरियल्स किए?

उसके बाद मैंने इक्यावन, जादू है ये जिन का (कैमियो) और फिलहाल मैं नमक इश्क़ का शो कर रही हूं.

बतौर एक्ट्रेस आप अपना करियर किस तरह चुनती हैं?

यह सवाल मुझसे बहुत बार किया गया है और इसके लिए मैं यही कह सकती हूं कि एक्टर बनना मेरे भाग्य में था. इसके पीछे की दास्तान बड़ी लम्बी है, पर शॉर्ट में कहूं, तो यह मेरे भाग्य में था, इसीलिए मैं इस इंडस्ट्री में आई. सुहानी का रोल मेरे लिए काफ़ी लकी रहा, हालांकि इसके पीछे बहुत सारे लोगों की मेहनत शामिल है, जिसके कारण यह हिट हुआ. इसलिए मैं यही कहूंगी कि मेरे भाग्य में एक्टर बनना लिखा था.

आप मीडिया से बहुत कम बातचीत करती हैं?

ऐसा नहीं है. मैं हमेशा मीडिया के टच में रहती हूं. हाल ही में मेरी शादी हुई है. मैं बहुत ज़्यादा सामाजिक व्यक्ति नहीं हूं और न ही पार्टीज़ वगैरह में ज़्यादा जाती हूं. सोशल मीडिया पर भी मैं बहुत ज़्यादा एक्टिव नहीं हूं, पर वो मेरी अपनी पसंद है. पर जब बात मीडिया की हो, तो मैं हमेशा उनसे बातचीत करती रहती हूं. यहां तक कि बॉम्बे टाइम्स ने मेरी पूरी शादी का कवरेज किया था.

आपकी शादी लव है या अरेंज मैरिज?

रानी राजश्रीमैं इसे लव या अरेंज नहीं कह सकती, बल्कि यह उसके बीच का कुछ है. मैंने अपने सह कलाकार (सुहानी सी एक लड़की में देवर का किरदार निभानेवाले) से शादी की है. इसलिए हम तब से बहुत अच्छे दोस्त हैं. इस लॉकडाउन में हमने एक-दूसरे से शादी का फ़ैसला लिया। तो हमारे बीच में कभी लव ऐंगल था ही नहीं, सिर्फ़ दोस्ती थी.

तो एक साथ काम करते-करते आप दोनों को प्यार हो गया?

मैं उसे प्यार नहीं कहूंगी, क्योंकि जब आप प्यार में पड़ते हो, तो आप उससे और ज़्यादा जुड़ जाते हो, पज़ेसिव और केयरिंग हो जाते हो, पर हम हमेशा से ही दोस्तों की ही तरह हैं. यहां तक कि शादी के बाद भी हमें लगता ही नहीं कि हमारी शादी हुई है, हम दोस्तों की तरह ही अभी भी साथ रह रहे हैं.

क्या आप दोनों अभी भी एक साथ काम कर रहे हो?

नहीं, वो स्टार प्लस के शो इमली में काम कर रहे हैं और मैं कलर्स के नमक इश्क़ का में.

नमक इश्क़ का में आपका रोल क्या है?

यह एक फैमिली ड्रामा है, जिसमें मेरे पति हीरोइन से प्यार करते हैं, पर वो इनसे नहीं करती। मैं इस रोल को लेकर काफ़ी पशोपेश में थी, क्योंकि यह किरदार बहुत ही सरल और अच्छा है, पर अंत में उसे बहुत दुःख झेलने पड़ते हैं. लॉकडाउन के बाद यह पहला रोल था, जो मुझे ऑफर हुआ था और सभी को पता है कि लॉकडाउन में कितनी मुश्किल हो गयी थी, इसलिए मैंने यह रोल ले लिया।

क्या आपने फिल्मों में कोशिश की?

सच कहूं तो मैंने कभी कोशिश नहीं की, पर मैं करना चाहूंगी। टीवी में जब आप लंबे समय तक वही रोल करते हैं, तो रियल लाइफ में भी वही किरदार बन जाते हैं. जबकि फिल्मों में हर बार आपको एक नया किरदार मिलता है. इसलिए मुझे नहीं लगता कोई फिल्मों में काम करने से मना करेगा। पर मैंने कभी कोशिश नहीं की.

किस तरह के रोल आप करना चाहती हैं?

किरदार को लेकर मैंने कभी कोई मापदंड नहीं बनाए। मुझे हर किरदार को निभाना पसंद है और ऐसा भी नहीं है कि मुझे मेन लीड ही करना है. मैं ऐसे रोल करना चाहती हूं, जो चैलेंजिंग हों और मुझे ख़ुद को उनमें ढालना पड़े. मैं कोई भी रोल करने के लिए तैयार हूं, बशर्ते वो पहली नज़र में पसंद आना चाहिए।

क्या आप ग्लैमरस रोल्स भी करना चाहेंगी?

सुहानीवो मेरे लिए लास्ट ऑप्शन है, क्योंकि मैं बहुत सी साधारण सी लड़की हूं, इसलिए मुझे लगता है कि वो मेरे लिए काफ़ी चैलेंजिंग होगा. पर हां अगर ऐसा कुछ मिला तो मैं ज़रूर सोचूंगी।

पर क्या आपको ऐसा लगता है कि क्योंकि अब आपकी शादी हो गई है, तो आपकी पसंद भी बदलेगी, आप कम ग्लैमरस रोल्स ही करेंगी?

ऐसा कुछ नहीं है. इस मामले में मेरे पति मुझसे ज़्यादा कूल हैं. उन्होंने कभी किसी चीज़ के लिए मुझे मना नहीं किया, पर मैं ऐसी ही हूं. मैं काम को लेकर बहुत चूज़ी हूं. जब तक मुझे कैरेक्टर समझ में नहीं आएगा, मैं नहीं करूंगी।

आप एक्टिंग को किस तरह देखती हैं और यह आपके लिए कितना मायने रखता है?

सच कहूं तो मैं इसे शब्दों में बयां नहीं कर सकती। लोगों को अक्सर ऐसा लगता है कि वेब सीरीज़ की बजाय डेली शो में काम करना आसान, पर ऐसा है नहीं। यह काम बहुत की मेहनत का है, आपको उतनी ही एनर्जी और मेहनत करनी पड़ती है, जितनी किसी और काम में. मुझे एक्टिंग पसंद है. जब मैं कैमरे के आसपास या सामने होती हूं, तो सबसे ज़्यादा ख़ुश होती हूं.

क्या आपको लगता है कि आप एक्टिंग के लिए ही पैदा हुई थीं?

सुहानीनहीं, मुझे नहीं लगता। मैं यूपी के एक छोटे कस्बे से हूं और वहां एक्टिंग को कोई करियर के तौर पर नहीं देखते। साथ ही मैं ब्राह्मण परिवार से हूं, तो बचपन से ही ऐसा कुछ नहीं था.

क्या आपके पैरेंट्स एक्टिंग के ख़िलाफ़ थे?

ऐसा कुछ नहीं है. मेरे पापा शायर और लेखक रहे हैं, इसलिए ऐसी कोई बंदिश नहीं थी. 3 भाइयों में मैं अकेली बहन हूं, इसलिए बचपन से ही बहुत लाड़-दुलार मिला है. पापा ने कभी कुछ करने के लिए मना नहीं किया। उन्होंने हमेशा यही कहा कि अपने दिल की सुनो। और मेरा परिवार हमेशा मेरे साथ खड़ा रहा है.

आप बहुत लकी हैं, क्योंकि आपके पति भी काफ़ी सपोर्टिव हैं?

जी बिल्कुल, वो भी बहुत सपोर्टिव हैं.

आपके पति का क्या नाम है? आपने शादी के बाद नाम नहीं बदला?

रानी राजश्री सुहानीगौरव मुकेश जैन. नाम बदलने का कहना आसान है, पर नाम बदलने के लिए कितना पेपर वर्क और क़ानूनी बातों का ध्यान रखना पड़ता है. और उसके बाद भी आधार कार्ड से लेकर पैन कार्ड तक सभी जगह चेंज करो. और शादी एक तुरंत बाद मेरा शूट शुरू हो गया और मुझे वक़्त ही नहीं मिला. सच कहूं, तो मुझे नाम बदलवाना भी नहीं है. मेरे पति को भी कोई दिक्कत नहीं है और हमें ज़रूरत भी महसूस नहीं हो रही है.

आपका नाम सुनकर ऐसा लगता है कि आप किसी रजवाड़े की राजकुमारी हैं?

रानी राजश्री सुहानीमैंने आपको बताया मेरे पापा लेखक हैं, इसलिए उनका मानना है कि नाम का व्यक्ति के जीवन पर गहरा असर पड़ता है. इसलिए उन्हें लगता है कि नाम ऐसा हो कि उसका आपके जीवन और करियर पर अच्छा प्रभाव पड़े.

क्या आप भी अपने पापा की तरह शायरी या कविता का शौक रखती हैं?

नहीं, नहीं। मैं नहीं लिखती। पर मैं यह ज़रूर कहना चाहूंगी कि उनके क्रिएटिव माइंड का मेरे ऐक्टिंग करियर पर बहुत अच्छा असर पड़ा है. ये मैंने उनसे पाया है.

बाकी कलाकारों के साथ आपकी केमिस्ट्री कैसी है?

जैसा कि मैंने बताया हमने सेट पर बहुत सारा समय एक साथ बिताया। दिन-रात शूटिंग करने के कारण पूरा सेट ही परिवार बन गया था. सब मुझे कहते थे कि आप जब तक लोगों के साथ काम करते हैं, तभी तक दोस्त रहते हैं, पर मुझे ऐसा नहीं लगता। मैं अभी भी सुहानी के कास्ट से मिलती हूं और हम बहुत अच्छे दोस्त हैं और परिवार की तरह मानते हैं. मुझे हमेशा ही बहुत अच्छे सह कलाकार मिले हैं. फ़िलहाल जो शो मैं कर रही हूं, उसमें भी मुझे कुछ अच्छे दोस्त मिल गए हैं.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये