सुनील दर्शन की फिल्म ‘एक हसीना थी एक दिवाना था’ का संगीत हुआ रिवील

1 min


सुनील दर्शन की ‘एक हसीना थी एक दिवाना था’ (EHTEDT) के फिल्ममेकर्स के सामने यह चुनौती थी, की, इस रोमांटिक रहस्य शैली की फिल्म का संगीत भी बिलकुल फिल्म की थीम के अनुसार बिलकुल उचित हो।

फिल्म निर्माता सुनील दर्शन को फिल्म के गानों को अंतिम रूप देने के लिए लगभग पांच महीने लगें। संगीतकार नदीम (नदीम-श्रवण फेम) ने उन्हें एक से बढकर एक गाने कम्पोज करके दियें हैं।

सुनील दर्शन बतातें हैं, “जब मैंने EHTEDT बनाने का फैसला किया और इस फिल्म पर संगीतकार नदीम का साथ पक्का हुआ। उसके बाद प्री-प्रोडक्शन में जाने से पहले ही मैंने फिल्म के संगीत और गाने लॉक करना तय किया। नदिम को स्क्रिप्ट भेजने के बाद, मैं दुबई में नदीम को मिलने गया। और जब मैं वहाँ पहुंचा तब नदीम ने पहले से ही हर सिच्युएशन पर अलग अलग रचनाएँ बनाके रखी थी। उन्होंने वह गीत मुझे सुनायें और उसमें जो मुझे पसंद आये, वह मैंने सिलेक्ट कियें।”

“जैसे ही संगीत और गाने तैयार हो गयें, हम 5 गानों के साथ लौट आयें। फिर हमनें म्यूजिक अरेंजर्स के साथ मिलकर धुनें तयार की । नदीम के संगीत की बुनियाद कायम रखतें हुए हमने यह धुनों को सजाया। 2017 में प्रदर्शित होनेवाली फिल्म का संगीत समकालीन होना चाहिये था। और बेहतरीन संगीत के साथ अब यह फिल्म तैयार हो गयीं हैं।”

‘एक रिश्ता: दि बॉन्ड ऑफ लव’, ‘हाँ मैने भी प्यार किया’, ‘अंदाज’, ‘बरसात’, ‘दोस्ती’, ‘मेरे जीवन साथी’, और ‘एक हसीना थी एक दिवाना था’, इन फिल्मों की वजह से सुनील दर्शन और नदीम का रिश्ता काफी मजबूत बनता चला गया हैं। EHTEDT इन दोनों ने एक साथ की हुई सातवी फिल्म हैं। “फिल्म के शीर्षक गीत का प्रभाव मुझ पर इतना था। की, शूटिंग समाप्त होने के बाद भी वह संगीत मेरे दिमाग में घूम रहा था। और मैंने उस पर वापस संस्करण करते हुए उसका और एक वर्जन बनाया। जो यह गाना हमने कोक स्टूडियो तरह के संगीत में तब्दील किया हुआ हैं।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये