INTERVIEW!! मुझे बाहर के बैनर में काम नहीं मिलता – सनी देओल

1 min


लिपिका की नज़र से

सनी देओल लगभग 25 सालों के बाद, “घायल वन्स अगेन” के साथ बतौर निर्देशक और अभिनेता आ रहे हैं। धर्मेंद्र, सनी देओल और बॉबी देओल की फिल्म, “यमला पगला दिवाना” में तीनों ने एक साथ काम किया है। सनी अपनी फिल्म, “घायल वन्स अगेन” को लेकर बहुत उत्सुक हैं।

लिपिका वर्मा के साथ बातचीत में उन्होंने ढ़ेर सारे सवालों के जवाब दिये –

1990 की सुपर हिट फिल्म, “घायल” को परदे पर दोबारा लाने में अपने 25 साल क्यों लगा दिए?

दरअसल इस कहानी को मुझे खुद ही विस्तार से लिखना था और उस फिल्म से आगे क्या हो सकता है यह भी मुझे सोचना था। २५ साल पहले वाला किरदार इस किरदार से कितना अलग हो सकता है यह सब सोच समझ कर ही आगे की कहानी बढ़ानी थी। मुझे निर्माता भी नहीं मिल रहे थे, जो कोई भी आता वह कुछ दिनों बाद भाग जाता सो इस वजह से भी काफी देर हो गयी। खैर देर आये  दुरुस्त आये। आज के बच्चों के हिसाब से यह कहानी लिखी है।

31dan-bradley3

मीनाक्षी शेषाद्री के बदले सोहा को क्यों लिया है आपने ?

आप सभी को मालूम है कि मैंने मिनाक्षी को अप्रोच किया था किन्तु उन्होंने काम करने से मना कर दिया।

सोहा प्रोमोशन्स में भी नजर नहीं आ रही हैं कोई खास वजह?

ऐसी कोई ख़ास वजह नहीं है बस वह कहीं व्यस्त होंगी सो आ नहीं पाई होंगी।

आप बहुत कम काम कर रहे हैं ऐसा क्यों ?

हंस कर सनी ने कहा, “यदि आप कोई चटपटी हैडलाइन चाह रहे हैं तो यह हैडलाइन आपके लिए सही होगी, “मुझे बाहर के बैनर में काम नहीं मिलता!!”

sunnydeol7591

आज की जनता इस फिल्म से क्या ले पाएगी ?

आज की दुनिया का चित्रलेखन है यह फिल्म। आज की आवाम ख़ासा संबंध देख  पायेगी। जहां हमने २५ साल पहले छोड़ी थी तो किस तरह उसे आगे बढ़ाया है हमने वही देखने योग्य है।

आपने हॉलीवुड एक्शन डायरेक्टर डान ब्रेडले को क्यों चुना ?

एक्शन सीन्स को और तीव्रता मिले इसलिए हमने उन्हें बतौर एक्शन डायरेक्टर चुना।

बॉलीवुड में एक्शन सीन्स किस तरह बदले हैं कुछ बताएं?

आज एक्शन सीन्स करने बहुत सेफ हो गए हैं। आज टेक्निकली इन सीन्स को आसानी से शूट किया जा सकता है।

600x400xSunny-Deol-at-the-set-of-Ghayal-Once-Again.jpg.pagespeed.ic.eIqF2UBZzc

आपने सब नए चेहरे ही क्यों लिए हैं, “घायल वन्स अगेन” में?

मुझे नए चहरे इसलिए लेने पड़े क्योंकि मुझे हू ब हू चरित्र चित्रण करना था। इन सब बच्चों का ऑडिशन लिया गया और वह फिल्म के चरित्र से ख़ासा मिलते जुलते हैं। फिल्म शुरू होने से पहले हमने वर्कशॉप भी किया सो यह सब बच्चे  बहुत आसानी से और बेहतरीन काम कर पाएं। मेरी तरफ से माहौल पॉजीटिव ही रखा गया ताकि हम अच्छी फिल्म बना पाये।

इस फिल्म को भी अवॉर्ड मिलेगा? क्या विचार रखते हैं इस बारे में?

मैं भी अपने पिताजी की तरह यही सोचता हूं कि लोगों का प्यार हमे मिले, वही  हमारे लिए अवॉर्ड है।

“घायल वन्स अगेन” 5 फरवरी को रिलीज़ होने वाली है उम्मीद है बॉक्स ऑफिस पर अपना झंडा जरूर गाढ़ पायेगी।

 


Mayapuri