Taapsee Pannu On Nepotism : बॉलीवुड में बिना गॉडफादर के सर्वाइव करना मुश्किल, ‘फिल्मी परिवार में पैदा होने वाले …’

1 min


Taapsee Pannu On Nepotism

Taapsee Pannu On Nepotism : फिल्म इंडस्ट्री में बिना गॉडफादर के सर्वाइव मुश्किल, ‘मेरी कई फिल्में हाथ से निकल स्टार किड्स …’

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद से ही सोशल मीडिया और फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिजम की बहस तेज हो गई है। कई बॉलीवुड कलाकारों जैसे कंगना रनौत और शेखर सुमन और शेखर कपूर जैसे बड़े डायरेक्टर ने इस बारे में खुलकर बयान भी दिए हैं। सुशांत के फैंस का भी मानना है कि बॉलीवुड के कुछ खास लोगों का समूह उनकी मौत का जिम्मेदार है। इस बीच इस मामले पर बॉलीवुड की टैलेंटेड और बेबाक एक्ट्रेस तापसी पन्नू का भी रिस्पॉन्स (Taapsee Pannu On Nepotism) आ गया है।

नेपोटिजम पर तापसी पन्नू का बयान(Taapsee Pannu On Nepotism)

‘पिंकविला’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक हालिया इंटरव्यू में तापसी ने सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या और बॉलीवुड में नेपोटिजम पर बात करते हुए कहा कि फिल्म इंडस्ट्री में एक आउटसाइडर होने के नाते बिना गॉडफादर या कॉन्टैक्ट्स के सर्वाइव करना काफी मुश्किल होता है। फिल्म इंडस्ट्री में संपर्क बनाने में काफी टाइम लगता है और तब तक आपको काम नहीं मिल पाता है।

मेरी कई फिल्में हाथ से निकल स्टार किड्स के पास पहुंचीं


तापसी पन्नू ने आगे कहा कि जो परेशानी एक आउटसाइडर को उठानी होती है वह इंडस्ट्री के भीतर के आदमी को नहीं उठानी पड़ती। फिल्मी परिवार में पैदा होने वाले लोगों को आसानी से काम मिल जाता है। जब तापसी से बॉलीवुड में नेपोटिजम और कथित तौर पर इसको बढ़ावा देने वालों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने भी इसे स्वीकार किया। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि नेपोटिजम के कारण बहुत सी फिल्में उनके हाथ से निकल गईं और किसी स्टार किड के हाथ में चली गईं।

नेपोटिजम के लिए पब्लिक भी है जिम्मेदार

तापसी ने बॉलीवुड में बढ़ते नेपोटिजम के लिए पब्लिक को भी जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि नेपोटिजम को बढ़ावा देने के लिए लोग भी जिम्मेदार हैं क्योंकि यह महत्वपूर्ण है कि वह टिकट बुक कराकर किसी आउटसाइडर की फिल्म देखेंगे या किसी स्टारकिड की लॉन्च मूवी? तापसी का कहना है कि अगर पब्लिक खुद चाहे तो बॉलीवुड में परिस्थितियां बदल सकती हैं। इसलिए फिल्म इंडस्ट्री के कुछ लोगों पर आरोप लगाने से बेहतर पब्लिक को खुद इस बारे में सोचना चाहिए।

ये भी पढ़ें– OTT प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली पहली मलयालम फिल्म बनी सुफियुम सुजातायम


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये