बॉलीवुड में बनी OTT प्लेटफार्म की वेब सीरीज पर अप-संस्कृति का मुलम्मा क्यों चढ़ाया जाता है?

1 min


तांडव

*पहले ‘आश्रम’
*अब ‘तांडव’
*विरोध की चिंगारी फेकती हैं कंगना रनौत।

राजनीतिलो साहब, अब ओ.टी.टी प्लेटफार्म के लिए बने वेब सीरीज ‘तांडव’ के विरोध ने भी तूल पकड़ लिया है! सब कुछ वैसा ही हुआ है जैसा ‘सब कुछ’ कुछ समय पहले वेब सीरीज ‘आश्रम’ के लिए हुआ था। तब भी दुहाई धर्म की थी, तब भी दूषित हमारे धार्मिक संस्कार हुए थे ,तब भी ‘अप-संस्कृति’ (बदनामी) का रोना धोना था भारतीय कल्चर को लेकर और अब भी वही किया गया है! विरोध की सारी पटकथा पूर्वगामी है। मजे की बात यह है कि उस समय भी इस विवाद की चिंगारी कंगना रनौत का नाम लेकर उठी थी और इसबार भी विरोध की चिंगारी को सुलगाया कंगना रनौत ने ही है।

इन बवालों की बदौलत दोनों ही सीरीज के निर्माताओं ने अपनी जेबे भर ली

Tandav
Source: Social Media

इतना ही नहीं, उस समय भी ‘आश्रम’ के निर्माता, निर्देशक(प्रकाश झा) और अभिनेता ( बॉबी देओल) पर लीगल केस दर्ज कराया गया था और इसबार भी निर्माता, निर्देशक, लेखक और अभिनेता (सैफ अली खान) पर लीगल केस दर्ज हुआ है। सबसे मजेदार बात यह है कि विरोध के बाद महज तीन दिनों में ही दोनों ही वेब सीरीज के वॉलेट में कमाई का खूब इजाफा हुआ। दोनो ने ही ओपनिंग स्ट्रीमिंग में करोड़ो की कमाई कर ली है! अब तो शायद आप भी इस विवाद का बहुत कुछ सत्य समझ गए होंगे?

बॉलीवुड में पर्दे की चलती- फिरती कहानियों का विरोध किये जाने का यह सिलसिला बहुत पुराना है। पहले फ़ीचर फिल्मों पर विरोध दर्ज करने की रिवायत थी। ‘बॉम्बे’, ‘रोजा’, ‘अलीगढ़’, ‘गोलियों की रासलीला-रामलीला’ और ‘पद्मावत’ जैसी कई फिल्मों के विरोध की बड़ी-बड़ी कहानियां हैं और सबकी भरी हैं तिजोरियां। विरोध की चिंगारी पूरे देश मे तोड़फोड़ की लहर लाइ है, थियेटरों को तोड़ा है, पर्दे जलाए हैं मगर निर्माता के घर मे पार्टियां हुई हैं। हीरो हिट हो गया है। फिर उस तर्ज पर बॉलीवुड के लोगों ने और कई फिल्में बना डाला है। अब वही सब वेब-सीरीज के साथ शुरू हुआ है। ‘आश्रम’ ने कमाई किया है अब ‘तांडव’ कर रही है। बॉबी देओल की डिमांड बढ़ी थी अब चर्चा सैफ अली खान और ज़ीशान अयूब की हो रही है। हां, यह अलग बात है कि अबकी माल विदेशी कम्पनी ऐमज़ॉन प्राइम के खाते में पहुंच रही है। यानी वही कहावत वाली बात – जान जाए मेढ़की की मसाला खाएं बाज़ीगर!

“क्या वो अल्लाह के बारे में ऐसा अनाप शनाप बोल सकते हैं?”

 अब हम उन पाठकों को बता दें- जो वेब सीरीज ‘तांडव’ की कहानी से वाकिफ नही हैं और जो नेट की दुनिया से दूर हैं। ‘तांडव’ सीरीज -जिसको लेकर तलवारें तनी हैं, का यह पहला भाग है जिसकी 9 कड़ियां प्रक्षेपित की गई हैं।कहानी गंदी राजनीति की है।सत्ता के मोह में फसे नेता कैसे मर्डर कराते हैं , औरतों का शारीरिक दोहन करते हैं और छात्रों का आंदोलन कराके शिक्षा संस्थानों का तथा पुलिस का दुरुपयोग करते हैं। कहानी में बेवजह किसान आंदोलन को भी घसीट लिया गया है। शायद बहती हवा का लाभ लेने के लिए। ‘तांडव’ के मुख्य कलाकार हैं- सैफ अली खान, डिम्पल कापड़िया, मोहम्मद ज़ीशान अयूब, तिग्मांशु धुलिया, सुनील ग्रोवर, कृतिका कमरा, कुमुद मिश्रा, राजीव गुप्ता…आदि। इसके निर्माता हैं- हिमांशु किशन मेहरा और अली अब्बास जफर, लेखक हैं-गौरव सोलंकी और निर्देशक हैं- अली अब्बास जफर। यह धारावाहिक OTT प्लेटफार्म पर, अमाज़ोन- प्राइम टाइम द्वारा स्ट्रीम किया गया है।

तांडवइस वेब सीरीज का विरोध कुछ हिन्दू धार्मिक संगठन यह कहकर कर रहे हैं कि इसके द्वारा हिन्दू देवी- देवताओं तथा हिन्दू- संस्कृति का उपहास किया गया है।इन्ही तर्कों पर अभिनेता- सैफ अली खान, निर्देशक और निर्माता तथा लेखक पर कोर्ट में नालिस किया गया है। विरोध में उठने वाले स्वरों में एक आवाज अभिनेत्री कंगना रनौत की भी है। वही कंगना जो अक्सर ऐसे मौकों पर न्यूज़ की सुर्खियां बटोरती हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है सुशांत सिंह राजपूत का केस। आइये, बताते हैं कंगना क्या कहती हैं- “यह न सिर्फ हिन्दुफोबिक है बल्कि हर एंगिल से ऑब्जेक्शनबल है…इनको जेल में डाल दो, न सिर्फ इसलिए कि इनका इंटेंशन क्रिमिनल है बल्कि इसलिए भी की व्यूवर्स को टॉर्चर करने वाला है।” कंगना का दूसरा एक ट्वीट तो और बहुत रिट्वीट हो रहा है, जो कुछ इस प्रकार है: ”क्या वो अल्लाह के बारे में ऐसा अनाप शनाप बोल सकते हैं?” कपिल मिश्रा के ट्वीट पर कंगना कहती हैं-” माफ़ी मांगने केलिए बचेगा कहाँ? ये तो सीधा गला काट देते हैं। लिबरल मीडिया वर्चुअल लिंचिंग कर देते हैं। तुम्हे न सिर्फ जान से मार दिया जाएगा बल्कि उस मौत को भी जस्टिफाई किया जाएगा। बोलो@alizafar है हिम्मत! अल्लाह का मज़ाक उड़ाने की?” बहरहाल अली ज़फर ने ‘तांडव’ की पूरी टीम की तरफ से माफी मांग ली है। सैफ अली खान भी कोर्ट में प्रस्तुत होने के लिए तैयार हैं जहां से भी उनको सम्मन मिलेगा। बतादें कि कुछ ही समय पहले, यह सब वेब सीरीज ‘आश्रम’ की पूरी टीम की तरफ से प्रकाश झा और बॉबी देवल ने भी कहा तथा माफी मांगने का नाटक किया था।और तबतक… दोनो सीरीजों की कलेक्शन- थैलियां भर चुकी थी। सवाल- वहीं का वहीं है- कबतक?

संपादक


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये