400 करोड़ की फिल्म ‘द गुड महाराजा’ में दिखेंगे पटना के ध्रुव वर्मा

1 min


 इंडियन जेम्स बांड के नाम से मशहूर पटना के अभिनेता ध्रुव वर्मा एक बार फिर से अपनी अगली फिल्म को लेकर चर्चा में हैं. जल्द वे फिल्म ‘द गुड महाराजा’  में दिखेंगे. यह फिल्म इस साल क्रिसमस से पहले 17 दिसंबर को यह फिल्म रिलीज होगी. यह जानकारी फिल्म के निर्माता हितेश देसाई ने दी है.  हितेश देसाई ने बताया कि अभिनेता ध्रुव वर्मा को मुख्य भूमिका के लिए 12 करोड़ रुपये की बड़ी रकम के साथ साइन किया गया है. फिल्म द्वितीय विश्व युद्ध पर आधारित है. ध्रुव को इससे पहले फिल्म ‘ नो मीन्स नो ‘ में देखा गया था. इस फिल्म में उन्हें जबरदस्त एक्शन सीन्स दिए और उसके लिए ‘भारतीय जेम्स बॉन्ड’ के नाम से चर्चित भी हुए.

सेकेंड वर्ल्ड वॉर के रशियन स्नाइपर की है कहानी

 
जी 7 फिल्म्स पोलैंड के कार्यकारी निर्माता हितेश देसाई के अनुसार, जब तक ‘द गुड महाराजा’ का फिल्मांकन पूरा नहीं हो जाता, तब तक निर्माता ने ध्रुव से कोई भी अन्य फिल्म साइन न करने का करार किया है. हितेश देसाई ने बताया कि फिल्म द्वितीय विश्व युद्ध के आस-पास घूमती है. नवानगर के शेर-दिल भारतीय महाराजा (अब गुजरात में जामनगर के नाम से मशहूर) दिग्विजय सिंह जी रणजीत सिंह जी जडेजा (उपनाम जाम साहब) युद्ध के समय लगभग 1000 पोलिश बच्चों के लिए एक पिता की तरह थे और उन्हें आश्रय दिया था. उनके बारे में सच्ची कहानी पर आधारित यह दूसरा इंडो-पोलिश सह-प्रोडक्शन प्रयास है.
 
वहीं, पटना के कंकडबाग निवासी अभिनेता ध्रुव ने अपनी फीस का एक बड़ा हिस्सा कोविड-19 के इलाज केंद्रों और वृद्धाश्रमों को बेहतर बनाने के लिए दान करने का संकल्प लिया है. ध्रुव कहते हैं कि यह एक गंभीर वास्तविकता है. मेरे साथी देशवासियों का स्वास्थ्य पैसे से अधिक महत्वपूर्ण है.  ध्रुव ने कहा कि मैं आभारी हूं निर्माता और निर्देशक ने एक बार फिर मुझ पर अपना विश्वास दोहराया है. यह भूमिका मेरी पहली फिल्म से अलग है. तैयारी के लिए उन्होंने स्क्रिप्ट को कई बार पढ़ा. उन्होंने बताया कि मुझे इस चरित्र के ग्राफ का पता है और मुझे अपने निर्देशक के दृष्टिकोण के अनुसार खुद को ढालना होगा. मैं अपने प्रशिक्षक-गुरु हॉलीवुड के प्रसिद्ध स्टार स्टीवन सीगल के मार्गदर्शन में द्वितीय विश्व युद्ध में इस्तेमाल की जाने वाली बंदूकों के साथ रूस में और ज्यादा प्रशिक्षण लेना शुरू करूंगा.   
फिल्म के डायरेक्टर विकाश वर्मा हैं. उन्होंने कहा कि यह फिल्म 400 करोड़ की होगी. इसकी शूटिंग लंदन, रूस, पोलैंड और भारत के गुजरात में होगी. ध्रुव में बिहारी बोल्डनेस की वजह से उन्हें इस नई फिल्म में ऐसे रशियन सोल्डर का रोल मिला है, जिसकी मां हिन्दुस्तानी और पिता रशियन हैं. जी 7 सिक्यूरिटास ग्रुप और जी 7 फिल्म्स के अध्यक्ष निर्देशक विकाश वर्मा ने कहा कि सिनेमा हमारे समाज को आकार देता है और संस्कृति को भी उजागर करता है. मुझे यकीन है कि महाराजा दिग्विजय साहब के परिवार को कोई आपत्ति नहीं होगी. प्रसिद्ध पोलिश फिल्म निर्देशक और ‘द पियानिस्ट’ के लिए ऑस्कर विजेता रोमन पोलांस्की को मार्गदर्शन करने के लिए संपर्क किया जाएगा. वर्मा ने बताया कि वे अब 87 साल के हैं और होलोकॉस्ट के साक्षी के रूप में उनके अनुभव का फायदा फिल्म को मिलेगा. उन्होंने कहा कि इस महामारी का संकट कम होने और टीकाकरण के बाद हम इस फिल्म की शूटिंग पूरी करेंगे. उसके तुरंत बाद नवंबर माह में ‘नो मीन्स नो’ को रिलीज किया जाएगा.
 
ध्रुव के बिजनेस मैनेजर आशीष तिवारी ने  कहा कि भारतीय महाराजा ने पोलैंड के साथ द्विपक्षीय संबंध बनाए थे. उन बच्चों में से एक पोलैंड का प्रधानमंत्री भी बन गया है.
SHARE

Mayapuri