हिंदी फिल्म बिरादरी को अक्षय कुमार का आभारी होना चाहिए!

1 min


बेलबॉटम’ दर्शकों, थिएटर मालिकों और प्रदर्शकों के लिए नई उमंग और आशा का दीप जला रही है।

फिल्म ‘बेलबॉटम’ के रिलीज के बाद कुछ दिनों के मार्केट ऑब्जरवेशन  को मद्दे नजर रखते हुए ट्रेडर्स एक्सपर्ट्स का कहना है कि पूजा एंटरटेनमेंट के ‘बेलबॉटम’ ने विस्तारित लॉकडाउन के बाद सिनेमाघरों में आशा और खुशखबरी का संचार जरूर किया है, चाहे अफवाहें कुछ भी उड़ाए।

पूजा एंटरटेनमेंट की जासूसी फिल्म ‘बेलबॉटम’, 19 अगस्त 2021 को उन क्षेत्रों में रिलीज़ हुई थी जहां थिएटर खुल गए हैं। महाराष्ट्र में प्रमुख राजस्व अर्जक की अनुपस्थिति और केवल 50 प्रतिशत क्षमता पर सिनेमाघरों के खुलने के बावजूद, यह फिल्म उत्सुक दर्शकों को आकर्षित कर रही है । पीवीआर लिमिटेड के सीईओ और चीफ बिजनेस प्लानिंग एंड स्ट्रैटेजी कमल ज्ञानचंदानी ने फिल्म उद्योग की भावना को व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, “#बेलबॉटम ने @_PVRCinemas (और देश भर के सिनेमाघरों) को खुश होने की वजह दी है क्योंकि यह अपने दूसरे सप्ताह में भी मजबूत बनी रही। इस फिल्म के लिए दर्शकों द्वारा की गई डिमांड  इसकी आपूर्ति से ज्यादा हो गई है। हमने सप्ताहांत  में भारी संख्या में हाउसफुल शो रिकॉर्ड किए हैं।” @akshaykumar @jackkybhagnani @honeybhagnani  सरोज स्क्रीन्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अक्षय राठी ने इस विचार का समर्थन करते हुए कहा, “बेलबॉटम’ के दूसरे सप्ताहांत के आंकड़े इंगित करते हैं कि लोगों की सिनेमाघरों में वापस जाने की भूख पुनर्जीवित हो गई है। हिंदी फिल्म बिरादरी को अक्षय कुमार का आभारी होना चाहिए, और वाशु भगनानी तथा वितरकों, जयंतीलाल गड़ा और संजय चतर को भी बधाई देनी चाहिए कोरोना काल में ऐसा साहस दिखाने और एक ऐसी फिल्म को रिलीज करने के लिए जिसने आशा के पहियों को गति  दे दिया है। हालांकि कुछ लोग बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की अपेक्षाकृत धीमी शुरुआत पर उंगली उठा सकते हैं, लेकिन अधिकांश लोगों में व्यावहारिकता है यह महसूस करने के लिए कि ‘बेलबॉटम’ ने पूरे देश में सैकड़ों सिनेमा हॉल्स को फिर से खोलकर एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है! अगर यह एक बड़ी जीत नहीं है, तो मुझे नहीं पता की बड़ी जीत क्या है?

उन्होंने यह भी कहा कि आज की हालातों  में, पूर्व-महामारी के पैमाने के साथ सफलता और विफलता को मापना गलत है क्योंकि महाराष्ट्र सहित कई राज्यों ने अभी तक थिएटर नहीं खोले हैं, हर जगह नाइट शो नहीं हो रहे हैं और थिएटर आधी क्षमता से खुल रहे हैं। अक्षय ने कहा, “यह उल्लेखनीय है कि एक्सटेंडेड लॉकडाउन अवधि, भारी नुकसान और लंबे समय तक निराशा के बाद भी, ‘बेलबॉटम’ ने दर्शकों को सिनेमाघरों में वापस ला दिया है। इससे प्रदर्शकों के मनोबल पर फर्क पड़ता है।”

निर्माता जैकी भगनानी ने एक स्टेटमेंट में कहा, “पूजा एंटरटेनमेंट के लिए, प्रदर्शकों के साथ एकजुटता दिखाना जरूरी था। सिनेमाघरों में ‘बेलबॉटम’ को रिलीज़ करना न केवल एक व्यावसायिक निर्णय था, बल्कि एक भावनात्मक निर्णय भी था क्योंकि हम सिनेमाघरों को खोलना चाहते थे, अपने फ्रेटर्निटी के इस क्षेत्र को पुनर्जीवित करना और उद्योग की भावना को ऊपर उठाना चाहते थे।”

ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा ने अपने ट्वीट में कहा, “वाशु भगनानी की ‘बेलबॉटम’ ने लद्दाख के सुदूर इलाकों में भी सिनेमाघरों के खुलने का संकेत दिया है! यह 11,562 की ऊंचाई पर, मोबाइल डिजिटल मूवी थियेटर में प्रदर्शित होने वाली पहली फिल्म है। हम इस ऐतिहासिक क्षण को कैसे माप सकते हैं? सबसे अविश्वसनीय बात यह है कि इस क्षेत्र में सिनेमा देखने के अनुभव को लाने के लिए, पिक्चर टाइम डिजीप्लेक्स द्वारा लद्दाख के पलदान क्षेत्र में एक मोबाइल सिनेमा की शुरुआत की गई और हाल ही में यहां ‘बेलबॉटम’ की स्क्रीनिंग की गई। न केवल दर्शकों के लिए बल्कि सेना के लिए भी।”

उन्होंने आगे कहा, “29 अगस्त को फिल्म का कलेक्शन लगभग उतना ही था, जितना पिछले हफ्ते रविवार को हुआ था। दूसरे शब्दों में कहें तो पहले रविवार और दूसरे हफ्ते के रविवार को फिल्म का कलेक्शन लगभग एक जैसा रहा है। कुछ सिनेमाघरों में , दूसरा रविवार और भी बेहतर था। उदाहरण के लिए, सिनेपोलिस डब्ल्यूटीपी, जयपुर में पहले रविवार को लगभग 62,898 रुपये और दूसरे रविवार को फिल्म ने 83,872 रुपये की कमाई की। इसी तरह, राज मंदिर सिनेमा में दूसरे सप्ताहांत का संग्रह, जयपुर (3,74,719 रुपये) पहले वीकेंड (शुक्रवार-रविवार, 3,43,490 रुपये) से बेहतर रहा।’

कार्निवल सिनेमाज के सीओओ कुणाल साहनी ने यह भी नोट किया है कि कैसे यह फिल्म वरिष्ठ नागरिकों और बच्चों सहित लोगों को सिनेमाघरों में वापस लाने में सफल रही है। उन्होंने ट्वीट किया, “#BellBottom # लोगों को #सिनेमा में वापस लाने में सफल रहा है, यह देखने के लिए कि #SeniorCitizens #बच्चों को #CarnivalCin #housefull पर दूसरे सप्ताह @akshaykumar #Bollywood पर #BellBottom का आनंद लेते हुए देखा जा सकता है।”

निर्माता और फिल्म व्यवसाय विश्लेषक गिरीश जौहर ने कहा, “‘बेलबॉटम’ जैसी बड़ी फिल्म के थिअटर रिलीज़ होने से उद्योग को हर स्तर पर खुद को पुनर्जीवित करने में मदद मिली है। अभी भी हमारी फ़िल्म इंडस्ट्री , महाराष्ट्र और कुछ अन्य राज्यों में बंद सिनेमाघरों का सामना कर रही है और एक्सहिबिटर्स तथा  निर्माताओं के लिए पहले की तरह सामान्य स्थिति पर वापस जाना आसान नहीं है। ऐसे में, ‘बेलबॉटम’ के निर्माताओं के लिए फिल्म को रिलीज करना बहुत जोखिम भरा था, लेकिन उन्होंने सभी बाधाओं के खिलाफ ऐसा किया। जिसके लिए, वाशु को बहुत बहुत बधाई। भगनानी और उनकी टीम को यह निर्णय लेने और इंडस्ट्री का इंजन शुरू करने के लिए धन्यवाद।”

सिनेमा हॉल्स के कोरोना महामारी के कारण बंद होने के बाद, भारत में बड़े पर्दे पर हिट होने वाली ‘बेलबॉटम’ पहली बड़ी हिंदी फिल्म थी। इस बकवास के बावजूद कि फिल्म “उम्मीद से नीचे” प्रदर्शन कर रही है, व्यापार विशेषज्ञों का कहना है कि अगर इस बारे में पता करना हो  कि फिल्म कैसा प्रदर्शन कर रही है तो निर्माताओं और एक्सहिबिटर्स से पूछो, जिन्होंने इसके प्रदर्शन पर खुशी व्यक्त की है। इस फ़िल्म को रिलीज करने का उद्देश्य सिनेमाघरों को अनलॉक करना था और इसने ठीक वैसा ही किया है।”

फ़िल्म इंडस्ट्री को यह उम्मीद है कि त्योहारी सीजन शुरू होने के साथ नवंबर के आसपास चीजें बेहतर हो जाएंगी।

फ़िल्म की निर्माता दीपशिखा देशमुख ने कहा, “हमने सभी बाधाओं के खिलाफ महामारी के दौरान ‘बेलबॉटम’ को शूट किया और उसे पूरी भी की, उसके बाद अन्य बहुत सारी फिल्मों ने इसका अनुसरण  किया और फिर, अब हमने इसे ऐसे समय में रिलीज़ किया जब कई लोगों ने सोचा कि ऐसा करना नासमझी है। दूसरे वीकेंड में भी, देश भर में इतने सारे शो हाउसफुल होने के बारे में बताने वाले हमारे सभी एक्सहिबिटर्स से कॉल प्राप्त करना हमारे लिए सबसे अच्छी खबर थी। ‘बेलबॉटम’ ने जो हासिल किया है उसे संख्याओं के संदर्भ में निर्धारित नहीं किया जा सकता है। एक प्रोडक्शन हाउस के तौर पर यह हमारे लिए बहुत मायने रखता है।”


Mayapuri