खुदा भी चैंक गए और उनको जरा सा खौफ भी हुआ, जब उन्होंने रफी साहब को सुना

1 min


muhammad rafi

भगवान ने मोहम्मद रफी नाम का एक व्यक्ति बनाया था, मोहम्मद रफी को उन्होंने धरती पर भेज दिया और उन्हें लगभग भूल चुके थे आखिर उनकी कितनी रचनाएँ उन्हें याद रह सकती थी। क्या उन्हें अपनी सभी रचनाओं के बारे में सोचने के लिए कोई अन्य समस्या थी जिसे उन्होंने अपने सारे प्यार और देखभाल के साथ बनाया था?  अली पीटर जॉन

muhammad rafiकई सालों बाद, उन्होंने भारत में अपनी रचनाओं में से एक के बारे में कहानियां सुनीं जिसका नाम मोहम्मद रफी था, वह उन लोगों से रफी के बारे में कहानियां सुनते रहे, जिन्होंने उन्हें सुना था और जिसने उन्हें मुहम्मद रफी के बारे में बताया था, वह अपनी लाखों क्रिएशन पर काम कर रहे थे और उन्हें ‘पृथ्वी पर भगवान का भेजा आदमी’ कहा जाता था। स्वर्ग में पहुंचने वाला हर आदमी या औरत चमत्कारी रफी के बारे में भगवान को बताता रहा और भगवान ने एक बहुत ही अच्छा ईश्वर से डरने वाला, विनम्र और ईमानदार आदमी पैदा करना जारी रखा था। भगवान ने उन कहानियों को नहीं लिया जो उन्होंने बार-बार सुनीं, लेकिन एक दिन उन्होंने यह पता लगाने का फैसला किया कि उनकी यह रचना, मोहम्मद रफी वास्तव में क्या कर रहे थे। जिससे उनके बारे में इतनी सारी बातें हो रही थी, सभी पवित्र पुरुषों, संतों और स्वामियों से ज्यादा, भगवान ने अपने पी.ऐ को बहुत से लंबित कार्यों को पूरा करने के लिए कहा और उन्हें बताया कि वह पृथ्वी पर एक विशेष और आश्चर्यजनक यात्रा पर जा रहे है, भगवान ने अपने पी.ऐ को पृथ्वी पर उनकी अप्रत्याशित यात्रा के उद्देश्य के बारे में नहीं बताया जो उन्होंने लाखों सालों से नहीं किया था!

मुहम्मद रफी मंच पर आए और उसके बाद चारो तरफ प्रकाश छा गया

भगवान भारत नामक देश में उतरे और इस दुर्लभ रचना, मुहम्मद रफी की तलाश शुरू की और उन्हें आखिरकार पता चला कि मुहम्मद रफी मुंबई के शंमुखानंद सभागार में गा रहे थे, वह एक टैक्सी चालक द्वारा गेट पर पहुंचे, जो उन्हें कोलीवाड़ा के आसपास ले गया और अंत में उन्हें सभागार में छोड़ दिया। कुछ लुंगी-कुर्ते पहने हुए पुरुषों ने भगवान को बताया कि शो ‘सोल्ड आउट’ हो गया था, भगवान को रफी की लोकप्रियता जानने के लिए उनका पहला संकेत मिला था, उन्होंने टिकटों के एक काले बाजार से एक ब्लैक टिकट खरीदा और जब सभागार के पीछे की लास्ट लाइन में जब बैठे तो वह दुखी थे, उन्होंने तय किया था कि, वह अपनी पहचान गुप्त रखेंगे और उन्होंने जो योजनाएँ बनाई थीं, उनका पालन करना जारी रखा!
वह एक आदमी के साथ बैठे थे, जो उन्हें ऐसे देख रहा था जैसे कि उसने किसी विदेशी को देखा हो, मुहम्मद रफी मंच पर आए और उसके बाद चारो तरफ प्रकाश छा गया और रफी साहब का चेहरा और मुस्कान देखकर भगवान अपनी सीट से उठ गए, उन्हें लग रहा था कि, उन्होंने रफी को कहीं उन्होंने मन में चैक किया, तो उन्हें अपने आश्चर्य का एहसास हुआ कि वह वही आदमी है जिसमे उन्होंने गलती से खुद की छवि बना दी थी, और इस आदमी (मोहम्मद रफी) को बनाने से खुद को रोक दिया था जो धीरे-धीरे भगवान की छवि में आगे बढ़ रहा था, उन्होंने अपनी रचनात्मकता को रोक दिया था और यह देखने के लिए कुछ बदलाव किए कि यह रचना (मोहम्मद रफी) लगभग उनकी (भगवान) तरह थी!

स्वर्ग या पृथ्वी से कोई भी उन्हें सफलता के आकाश तक पहुंचने से नहीं रोक सकता था

भगवान ने यह देखा कि रफी का जन्म भारत के उत्तर में किसी एक साधारण परिवार में हुआ था। उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि वह लड़का मोहम्मद रफी उच्च शिक्षित नहीं था और उन्हें पढ़ाई के लिए एक साधारण स्कूल मिला था। युवा रफी जो संगीत के तानों और धुनों से मुग्ध थे, ने एक दिन एक फकीर को गाते हुए देखा और उसका पीछा किया जैसे कि वह किसी और दुनिया में खोया हुआ लड़का है। वह उस फकीर को सुनते रहे और उसकी आवाज से इतना प्रेरित हुए कि वह उस फकीर की तरह गाते रहे और उन्हें अपने कठोर पिता की फटकार का सामना करना पड़ा जो अपने बेटे के म्यूजिक में कुछ करने में दिलचस्पी लेने के खिलाफ थे। हालांकि, रफी ने गायक बनने के लिए अपना मन बदलने से इनकार कर दिया और तब से उनके जीवन में सिर्फ संगीत, संगीत और संगीत ही था। फिर वह केवल अपने जुनून, भक्ति और प्रतिभा के साथ अपने करीबी दोस्तों के पास मुंबई आए थे और फिर एक चमत्कार हुआ और कई चमत्कार रफी द्वारा होने की प्रतीक्षा कर रहे थे और वर्षों के भीतर, मोहम्मद रफी इस धरती पर भगवान की आवाज बन गए थे। स्वर्ग या पृथ्वी से कोई भी उन्हें सफलता के आकाश तक पहुंचने से नहीं रोक सकता था। मोहम्मद रफी को वास्तविक प्रमाण के रूप में स्वीकार किया गया था कि वह एक ईश्वर थे या स्वयं एक ईश्वर के चुने हुए मोहम्मद रफी थे!

भगवान अभी भी सभागार की लास्ट लाइन में उस सीट पर बैठे थे और वे विश्वास नहीं कर सकते थे कि एक इंसान सिर्फ अपनी आवाज से ऐसे चमत्कार कर सकता है। भगवान ने रफी को प्यार, शांति, माँ, देश, दुनिया और हर मानवीय भावना के बारे में गाने गाते देखा और जब रफी ने गाना गाया, ‘ओ दुनीया के रखवाले……’ तो भगवान को नहीं पता था कि उनकी आँखों में आँसू क्यों थे। उन्होंने इस भजन को किसी आदमी की आवाज में उनके द्वारा मदद के लिए पुकारते हुए सुना था लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि उनके दिल में समाने वाली आवाज उसी व्यक्ति की दिव्य मुस्कान के साथ थी जो गा रहा था!

मोहम्मद रफी की अचानक दिल के दौरे से मृत्यु हो गई और समुद्र इस आदमी के दुःख में रोते हुए सड़कों पर बह आया

भगवान पूरे शो के माध्यम से बैठे और जाने से पहले वह एक खुश, भ्रमित और चिंतित भगवान थे। इतने चिंतित कि वह सोचते है कि क्या उन्होंने एक और भगवान की रचना की है जब वह क्रिएटिविटी की एक परम और दिव्य स्थिति में थे। वह मोहम्मद रफी के जादू से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने अपने इस सुपर मॉडल को वापस ले जाने के लिए अपने पी.ऐ को धरती पर भेजने का सोचा, लेकिन इससे पहले कि वह वहा से रवाना होते, उन्होंने महसूस किया कि उन्हें इस मोहम्मद रफी के बारे में थोड़ा और जानना चाहिए जिसे अगर वह अपने रास्ते में आने की अनुमति देते है, तो वह ईश्वर में विकसित हो जाएगे, उन्होंने मिस्टर मनोहर अय्यर को फोन किया, जो संगीत की दुनिया के एक गुरु हैं और उनसे रफी के बारे में कुछ और बताने के लिए कहा और जब मिस्टर अय्यर ने रफी के करियर के बारे में तथ्यों और आंकड़ों को दोहराया और रफी के ‘ईश्वरीय स्वभाव’ के बारे में भगवान को बताया, भगवान ने असहज महसूस किया और अपने जेट प्लेन के पायलट को जल्द से जल्द स्वर्ग जाने के लिए कहा!

muhammad rafiकुछ हफ्ते बाद, पृथ्वी के देवता, मोहम्मद रफी की अचानक दिल के दौरे से मृत्यु हो गई और समुद्र इस आदमी के दुःख में रोते हुए सड़कों पर बह आया, जिसने न केवल इंसानों के जीवन में, बल्कि प्रकृति, पक्षियों और जानवरों, आकाश और सितारों और यहां तक कि समुद्र को भी जीवन की एक लेहर दी थी। वह वास्तव में एक ऐसा आदमी था जो जटिलता का सामना आसानी से कर सकता था और भगवान के लिए एक प्रतियोगिता हो सकता है या यहां तक कि एक ‘वैकल्पिक भगवान’ भी हो सकता था।

रफी की असामयिक मृत्यु के कुछ दिनों बाद, स्वर्ग और पृथ्वी दोनों तरफ की मीडिया ने अजीबोगरीब किस्से सुनाए, हालाँकि मेरा अपना स्पष्टीकरण था, ईश्वर या तो अपनी इस रचना से ईष्र्या करता था या वह चाहते थे कि उनकी रचना स्वर्ग में आनंद ले जहाँ अच्छे गायक की कमी थी।muhammad rafi

अनु-छवि शर्मा

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये