सही मायने में यह शो दर्शकों के लिये किसी रोमांचक सफर से कम नहीं, लेकिन हम हमेशा ही कॉमेडी और मिस्‍ट्री के तड़के को बैलेंस करने की कोशिश करते हैं: शुभाशीष झा का

1 min


कदम-कदम पर एक-दूसरे का साथ हो या ऑन-स्‍क्रीन और ऑफ-स्‍क्रीन कमाल का तालमेल हो, ये बातें इन दो मशहूर एक्‍टर्स को बखूबी बयां करती है। दरसअल ये एक्‍टर्स सोनी सब के ‘जीजाजी छत पर कोई है’ में सीपी (हिबा नवाब ) और जीजाजी ( शुभाशीष झा) की भूमिका निभाते नज़र आ रहे हैं। अनूप उपाध्‍याय, सोमा राठौर और राशि बावा इस शो और इसकी दिलचस्‍प कहानी में पहले की तरह ही नये-नये आयाम जोड़ रहे हैं, वहीं सुचेता खन्‍ना, जीतू शिवहरे और विपिन हीरो के जुड़ने से शो में चार-चांद लग गया है।

सीपी और जीजाजी की धमाकेदार केमेस्‍ट्री की चर्चाएं हो रही है। वहीं जिंदल और शर्मा परिवार की जिंदगी में परेशानियों का पहाड़ खड़ा करने में साया कोई कसर नहीं छोड़ रही।

जीजाजी छत पर कोई हैकी कौन-सी बात उसे अलग बनाती है, इस पर हिबा नवाब कहती हैं, ‘जीजाजी छत पर कोई है’ पूरी तरह एक नई कहानी है। दो अलग-अलग जोनर को मिलाकर बने इस शो ने टेलीविजन पर तगड़ी वापसी की है। जिस तरह से इस शो की कहानी बुनी गयी है उसे पूरे देश में लोग काफी पसंद कर रहे हैं। इस जोनर में यह टेलीविजन का पहला ऐसा शो माना जा रहा है। जब से मैंने इस शो की शूटिंग शुरू की है मेरी टाइमिंग में काफी सुधार आया है। मेरा जो मौजूदा रोल है उसमें मुझे उस भूतिया साया और सीपी का किरदार निभाना है। सीपी आज के जमाने की लड़की है। मुझे सोनी सब का हिस्‍सा बनना बेहद पसंद है। इस मामले में हम काफी खुशकिस्‍मत हैं कि हमें इतने अच्‍छे डायरेक्‍टर्स और मेकर्स मिले हैं। वे हमें बहुत सपोर्ट करते हैं और मेरी दोनों ही भूमिकाओं को निभाने के बीच बैलेंस बनाने में मदद करते हैं। सेट पर जाना और बार-बार अपने किरदारों को निभाना हमें कभी भी उबाऊ नहीं लगता। हम सब भी यह जानने के लिये उत्‍सुक रहते हैं कि आखिर आगे क्‍या होने वाला है? ‘जीजाजी छत पर कोई है’ मेरे फेवरेट शोज़ में से एक है और मैं इस शो के सीक्‍वल के लिये मना नहीं कर पायी।’

शुभाशीष झा ने पहली बार कॉमेडी करने के अनुभव के बारे में बताया, ‘इस शो में जितेंद्र जामवत जिंदल की भूमिका ने मेरी एक्टिंग स्किल्‍स को बेहतर बनाने में मेरी मदद की है। साथ ही अपनी बारीकियों पर ध्‍यान देने और फैन्‍स तथा दर्शकों के सामने सबसे बेहतर प्रस्‍तुत करने में भी मदद मिली है। मुझे यह बात हमेशा से पता थी कि कॉमेडी करना बच्‍चों का खेल नहीं है, लेकिन जिस तरह से मैं अपने किरदार में ढल गया हूं, मैं खुद को खुशकिस्‍मत मानता हूं। यह शो सही मायने में दर्शकों के लिये किसी रोमांचक सफर से कम नहीं, लेकिन हम हमेशा ही कॉमेडी और मिस्‍ट्री के तड़के के बीच बैलेंस बनाने की कोशिश करते हैं। हमारी कोशिश होती है कि दर्शकों को देखने में ज्‍यादा से ज्‍यादा मजा आये। यह ऐसा वक्‍त है जहां सभी लोग हर बात को लेकर बेचैन हो जाते हैं, लेकिन सोशल मीडिया पर फैन्‍स हमारे किरदारों पर खूब प्‍यार लुटाते हैं। मुझे नहीं लगता कि ह्यूमर को बरकरार रखने और दर्शकों का मनोरंजन करने का इससे बेहतर तरीका कोई और हो सकता है। इस शो का नयापन कुछ अलग था, जिसकी वजह से मैं इसकी तरफ खींचा चला आया; हर दिन सेट पर बतौर कलाकार हम कुछ नया सीखते और जानते हैं। चाहे ऑफ-स्‍क्रीन या ऑन-स्‍क्रीन हम सबको कॉमेडी करना पसंद है, वह भी उसमें मिस्‍ट्री और थ्रिलर के तड़के के साथ।’

शुभाशीष झा आगे कहते हैं, ‘एक्टिंग से पहले मेरी जिंदगी काफी अलग थी। चूंकि मैं इंजीनिरिंग की पढ़ाई कर रहा था, तो मुझे महसूस हुआ कि एक्टिंग में वो बात है जिसमें मुझे कोशिश करनी चाहिये। मैंने अपना 9 से 5  वाला जॉब छोड़ा, उसके बाद मैं मॉडलिंग में आ गया और फिर मुंबई पहुंचा। इस जगह ने हमेशा ही बांहें फैलाकर मेरा स्‍वागत किया है और अपने पहले ही शो से मुझे पसंद किया गया। इससे मुझे परफॉर्म करने, अनुभव लेने और परिपक्‍व होने का मौका मिला। मेरा आज भी यह मानना है कि मैं सीख रहा हूं। मैं अपने काम के लिये पूरी तरह तैयार और फोकस रहने की कोशिश करता हूं। साथ ही अच्‍छा करने का प्रयास करता हूं ताकि दर्शकों का मनोरंजन कर सकूं, जिन्‍होंने टीवी इंडस्‍ट्री में कदम रखने के बाद से ही मुझे हमेशा ही ढेर सारा प्‍यार और सपोर्ट दिया है।’

डबल रोल निभाने के अपने अनुभवों के बारे में हिबा नवाब कहती हैं, ‘मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं भूतनी का किरदार निभाऊंगी, लेकिन साया की भूमिका निभाते हुए मुझे इसकी हरेक चीज अच्‍छी लग रही है। उसके लुक की बात करें तो इससे मुझे एक अलग रूप और छवि दिखाने का मौका मिला। इस शो के मेकर्स ने इस अलग तरह के लुक को तैयार करने में वाकई काफी मेहनत की है। जहां मैं भले ही डरावनी नहीं लग रही हूं लेकिन अपने एक्‍सप्रेशन से लोगों को डरा रही हूं। इसके लिये मैं कई सारे वर्कशॉप में भी शामिल हुई और मेरा मानना है कि इससे मुझे दो अलग-अलग किरदारों को परदे पर बिलकुल अलग तरीके से निभाने में मदद मिली। मन में किसी तरह की कोई उलझन नहीं रह गयी थी। इन दो अलग-अलग किरदारों को निभाते हुए मुझे कुछ बातों का ध्‍यान रखना होता है, क्‍योंकि सिर्फ उनका लुक ही एक जैसा है, बाकी विजुअल रूप में दोनों बिलकुल अलग हैं। दोनों दो अलग दौर से ताल्‍लुक रखते हैं और परेशानियों को हल करने का उनका अपना-अपना तरीका है। इसलिये, खुद को दो अलग-अलग किरदारों को निभाते हुए देखना मेरे लिये चुनौतीपूर्ण है लेकिन उतना ही दिलचस्‍प भी। इन दोनों किरदारों में जमीन-आसमान का फर्क है और मुझे वाकई काफी मजा आ रहा है। ऐसा कोई भी दिन नहीं होता जब मैं अपना शो ना देखूं, भले ही यह कहानी है लेकिन इससे मुझे सीखने और अगली बार के लिये अपने हुनर को निखारने में मदद मिलती है।’

देखते रहिये, हिबा नवाब और शुभाशीष झा को सोनी सब के जीजाजी छत पर कोई हैमें, हर सोमवार-शुक्रवार, रात 10.30 बजे

SHARE

Mayapuri