मिस्टर दत्त के जीवन से जुड़ी औरतें 

0

अली पीटर जॉन

अगर आप मुझसे पूछेंगे( और मेरे जीवन में कई बार मुझसे यह पूछा भी गया है)तो मैं यह मानता हूं कि अगर किसी को कॉन्ट्रोवर्सी का टाइटल मिलना चाहिए तो  वो इंसान है संजय दत्त इसमें कोई शक नहीं है. उनका जन्म ही कॉन्ट्रोवर्सी के लिए हुआ है. वो कॉन्ट्रोवर्सी के साथ रहे हैं. उनका जीवन कॉन्ट्रोवर्सी की एक लंबी लिस्ट से भरा पड़ा है. यह कंट्रोवर्सीज उनके प्यार,कानून, करियर  इन सब से जुड़ी होती थी. वो चाहे तो इस लिस्ट को आगे बढ़ा सकते हैं और अगर चाहे तो रोक भी सकते है.

एक चीज जिसने उनको कभी नहीं छोड़ा ,चाहे उनके जीवन में कैसी भी परिस्थिति क्यों ना हो तो वो है महिलाओं के प्रति उनका प्यार.

संजय दत्त अपने माता- पिता के इकलौते बेटे थे और उनको बड़ी लार प्यार के साथ पाला गया था. उनके पिता अपने काम में बहुत व्यस्त रहते थे और उनकी शुरुआती देखभाल उनकी मां ने ही की है. उनकी मां को संजय के ड्रग्स के लत के बारे में पहले पता चल गया था पर उन्होंने यह बात अपने पति से छुपाई और जब संजय की लत बहुत ज्यादा बढ़ गई तो नरगिस हमेशा इस अफसोस में रहती थी कि उनको संजय दत्त के ड्रग्स के बारे में सुनील दत्त को पहले बता देना चाहिए था. नरगिस अपने बेटे से अपने मन अंतिम क्षण तक बहुत प्यार करती थी और बस यही चाहती थी कि उनका बेटा ड्रग्स की लत से बाहर निकल जाए.

संजय अपने दोनों बहन अमृता और प्रिया के प्यारे भाई थे. उनके लिए वो कुछ भी कर सकते थे पर अपने ड्रग्स और शराब की लत को नहीं छोड़ सकते थे.

संजू बाबा का स्कूल के समय से ही बहुत सी महिला मित्रों पर दिल आ चुका था पर वो पहली बार प्यार में पड़े अपनी पहली फिल्म रॉकी की हीरोइन टीना मुनीम के साथ. यह प्यार रॉकी फिल्म की शूटिंग खत्म होने तक ही चला और उसके बाद टीना सुपरस्टार राजेश खन्ना के प्यार में पड़ गई जो पहले से शादीशुदा थे और दोनों वर्सोवा लिंक रोड के एक घर में शिफ्ट हो गये जो बाद में अनिल अंबानी की छुट्टी मनाने की जगह हो गया. अनिल अंबानी वही इंसान है जिनसे टीना की शादी हुई और वो शादी के बाद उनसे प्यार में पड़ी. टीना ने शादी कर इस सुपरस्टार को सदमे में डाल दिया जिस सदमे से वो कभी बाहर निकल ही नहीं पाए. जबकि उनके जीवन में और भी बहुत सी औरतें थी  जो उनको संभालना चाहती थी पर फिर भी वो गम में डूबते ही चले गए.

उनके पिता उनको लेकर बहुत चिंतित रहते थे और उन्होंने ऐसा सोचा कि संजू बाबा की शादी कर देने से शायद उनके बेटे के जीवन में कुछ अच्छा हो और उन्होंने संजू बाबा की शादी रिचा शर्मा से करा दी जो उनके पारिवारिक मित्र की बेटी थी. शादी अमेरिका में हुई. उस वक्त तक रिचा शर्मा ने भी फिल्मों में अपना कदम रख लिया था . उनकी कुछ फिल्में थी देवानंद की ‘स्वामी दादा’ और दूसरी ‘अनुभव’ जिसमें शेखर सुमन और पद्मिनी कोल्हापुरी  भी थी. रिचा नई फिल्में छोड़ दी और अमेरिका वापस चली गई.वहाँ उनकी एक बच्ची हुई जिसका नाम रखा गया त्रिशाला. जीवन हमेशा से संजू बाबा के लिए क्रूर रही है. रिचा के कैंसर का पता चला और उनकी मृत्यु हो गई. संजू बाबा अपनी छोटी पुत्री के साथ अकेले हो गए.

संजू बाबा का दिल एक जगह कभी नहीं थमता था और वो जल्द ही दूसरे हीरोइनों के प्यार में पड़ जाते थे. जैसे इस बार रती अग्निहोत्री के साथ प्यार में पड़ गये .दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे पर रत्ती के पिता इस शादी के बिलकुल खिलाफ थे. रति इस शादी के लिए अड़ गयी पर पर उनके पिता ने अपनी एक योजना बनाई इस अफेयर को खत्म करने की जिसका उन्हें कोई भविष्य नहीं दिख रहा था. जब उन्हें कोई रास्ता नहीं दिखा रति को संजू बाबा से अलग करने का तो उन्होंने संजय बाबा के पीछे जासूस लगा दिया जिन्होंने उनके ड्रग्स और शराब पीने की चुपके से तस्वीर लेकर रति को दिखाई पर फिर भी रति  संजू बाबा से शादी करने की बात पर अड़ी रही. पर नसीब में कुछ और ही लिखा था. रति के पिता की हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया. रति की शादी जल्दी-जल्दी में एक बिजनेसमैन से हो गई और रति को फिल्में छोड़नी पड़ी.

उस वक्त ऐसी खबरें जोर-शोर से थी कि संजू बाबा का पद्मिनी कोल्हापुरी के साथ अफेयर चल रहा है और इस अफेयर का दुखद अंत तब हुआ जब संजू सी रॉक होटल जो फाइव स्टार होटल था वहां पद्मिनी का पीछा करते-करते पहुंच गए और उनके पिता ने अगले ही सुबह उन्हें अमेरिका या जर्मनी के रिहैबिलिटेशन सेंटर भेज दिया.

अपनी ट्रीटमेंट के दौरान संजू बाबा ने अपने जीवन के बहुत ही बेहतरीन साल और बहुत ही बेहतरीन फिल्में खो दी.

उस वक्त वो माधुरी दीक्षित के साथ प्यार में थे जिन्होंने संजय के साथ खलनायक फिल्म की थी और  राजीव कपूर की जनता फिल्म करने वाली थी पर बाद में पता चला कि यह सबसे पब्लिसिटी पाने के लिए था क्योंकि माधुरी के बिजनेस मैनेजर माधुरी के कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए कुछ भी कर सकते थे.

संजू की जीवन का सबसे बड़ा कॉन्ट्रोवर्सी तब हुआ जब वो आतंकवाद के आरोप में फंसे. संजय जेल से पैरोल पर निकले थे जब उनकी मुलाकात मान्यता से हुई थी. मान्यता उस वक्त शादीशुदा थी और  अपने पति से अलग हो चुकी थी. दोनों मिले, प्यार हुआ और दोनों ने की शादी कर ली.  दोनों के जुड़वा बच्चे हैं , बेटे का नाम शाहरान है और बेटी का नाम है इकरा. संजू बाबा कहते हैं कि वह इतने खुश  कभी नहीं थे जितना वो मान्यता से शादी करने के बाद है.

जिस इंसान की किसी भी प्रेम कहानी का सुखद अंत  नहीं हुआ हो वो अब एक सफल प्रेम कहानी जी रहे है और इससे बढ़िया अंत क्या हो सकता है. आज भी उनके मिलियन फैंस, उनका परिवार, उनकी बहनें उनके लिए  दुआएं मांगते हैं.

और मैं यही कहूंगा, कि ये सारी दुआएं संजू बाबा के लिए सच हो.

और मैं यही कहूंगा कि इन सभी लोगों की दुआएं संजय बाबा के लिए सच हो.

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

Leave a Reply