नही साबित होता की सलमान खान के पास हथियार थे

1 min


आर्म्स एक्ट मामले के आरोपी फिल्म अभिनेता सलमान खान के मामले में  मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में अंतिम बहस शुरू हुई।  अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने अंतिम बहस शुरू करते हुए अपना पक्ष रखा कि गवाहों के बयान से ये साबित नहीं होता है कि 1 व 2 अक्टूबर 1998 को शिकार के दौरान सलमान के कब्जे में कोई हथियार थे या उनका उपयोग शिकार करने में किया गया है।

vlcsnap-2012-05-30-04h01m53s157
वन विभाग की ओर से दर्ज एफआईआर घटना के कई दिन बाद 8 अक्टूबर 1998 को न्यायालय में पेश किया गया, जबकि एफआईआर दर्ज होने के 24 घंटे में न्यायालय में भेजना आवश्यक है।
इससे प्रतीत होता है कि एफआईआर बैक डेट में दर्ज की गई। साथ ही एफआईआर में जिन चश्मदीद गवाहों के हस्ताक्षर करवाएं गए, उन्हें इस  पेश ही नहीं किया  21 को हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने 29 को अंतिम बहस शुरू करने का अंतिम मौका दिया .


Like it? Share with your friends!

Pankaj Namdev

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये