यह कारण है कि मकर संक्रांति उत्कर्षा नाईक के लिए और भी खास बन जाती है

1 min


Utkarsha Naik
मकर संक्रांति का त्योहार आ गया है, यह भारत के बड़े पैमाने पर मनाए जाने वाले हिंदू त्योहारों में से एक है। यह त्योहार में
उत्तम मिठाईयां खाई जाती है, रंग-बिरंगी पतंग उड़ाई जाती है। इस आयोजन को पूरे भारत में विविध परंपराओं द्वारा चिह्नित किया जाता है।
ज्योति वेंकटेश

“तिल और गुड़ से बने लड्डू हर घर में बनाते हैं, जो इस ठंड के मौसम में आयरन और कैल्शियम देता है” उत्कर्षा नाईक

Utkarsha Naik
काली साड़ी पहनने की एक पारंपरिक प्रथा है क्योंकि यह देखा जाता है कि इस दिन सूर्य की स्थिति ऐसी होती है कि अधिकतम किरणें काले रंग की ओर आकर्षित होती हैं और आपको विटामिन डी मिलता है।
उत्कर्षा नाईक जो वर्तमान में दंगल टीवी के प्रेम बंधन में देखी देती हैं, हमें बताती है के यह त्योहार क्यों उन्हें प्रिय है।
अपनी कहानी बताते हुए उत्कर्षा कहती हैं, “भारत में, हम सब मानते है कि उत्तरायण की शुरुआत होती है और भाग्यवश से यह त्योहार के दौरान मेरा जन्मदिन होता है इसलिए मुझे अधिक आनंद मिलता है।
यह एकमात्र दिन है जो अंग्रेजी कैलेंडर के साथ मेल खाता है और ज्यादातर यह 14 जनवरी को पड़ता है जबकि कभी-कभी यह त्योहार 13 जनवरी को पड़ता है।
महाराष्ट्र में, हम तिल और गुड़ से बने लड्डू हर घर में बनाते हैं, जो इस ठंड के मौसम में आयरन और कैल्शियम देता है।
हम मानते हैं कि जब त्योहार शुरू होता है, तो स्वर्ग के द्वार खुलते हैं। मैं हमेशा अपने भाई-बहनों को यह कहते हुए चिढ़ाती थी कि मेरे जन्मदिन पर स्वर्ग के द्वार खुले हैं और धरती पर एक अप्सरा (स्वयं) आई है जो मुझे बहुत ही खास बनाती है (हंसते हुए)।”
बेशक उत्कर्षा नाईक एक प्रतिभाशाली और खूबसूरत अभिनेत्री हैं। और हम उन्हें जन्मदिन और मकर संक्रांति की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ देते हैं।
प्रेम बंधन एक स्वतंत्र लड़की की कहानी है जो अपने परिवार की जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेती है और कैसे वह एक रहस्यमय अतीत होनेवाले एक व्यापारी से शादी कर लेती है।
शो एक अनूठी कहानी का वादा करता है जो दर्शकों को उत्साहित करेगा। देखिये प्रेम बंधन सोमवार से शनिवार शाम 7.30 बजे दंगल टीवी पर ।

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये