INTERVIEW!! ऐसा मेरे साथ पहली बार नहीं हुआ- रणवीर सिंह

1 min


‘बाजीराव मस्तानी’ संजय लीला भंसाली का सपना था जो बारह वर्ष बाद जाकर सच हुआ। फिल्म में उन्होंने अपने पंसदीदा कलाकार प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण तथा रणवीर सिंह को लिया। रणवीर इस भूमिका को पाकर क्या सोचते हैं। बता रहे हैं इस मुलाकात।

कम समय में स्टारडम पा लेना, इसका क्रेडिट किसे देना चाहेगें?

मेरे यहां तक पहुंचने में कड़ी मेहनत, काम के प्रति जुनून, तथा किस्मत। मुझे लगता कि मेरी मौजूदा स्थिति के लिये यह सारी बातें जिम्मेदार हैं।

ranveer-singh_625x300_41414832443

बाजीराव को जीने के लिये क्या कुछ किया ?

मैं दूसरे कलाकारों से शायद इसलिये भी अलग हूं क्योंकि मैं जो भी भूमिका करता हूं,  तो पहले उसमें घुसने के लिये खूब मेहनत करता हूं। जैसे वो कौन हैं कहां रहता है या रहता था उसकी समाज में क्या स्थिति है। उसकी बोलचाल खाना पीना सब कुछ बारीकी से देखने के बाद ही उस भूमिका के प्रति न्याय कर पाता हूं। बाजीराव तो मेरे लिये बहुत बड़ा चैलेंज था। सबसे बड़ी बात की बारह साल पहले देखे गये सपने को साकार करने के लिये संजय सर ने मुझ पर भरोसा किया था। इसलिये इस किरदार के लिये जहां भी जैसे भी,   संबधित किताबें पढ़ी, तीन सौ साल पुराना इतिहास खंगाला। इसके अलावा संजय सर द्वारा तैनात कोच ने भी बहुत मदद की। तब कहीं जाकर मैं बाजीराव के रूप में अपने आपको ढाल पाया ।

2a5elfm

क्या रोल के लिये कोई वर्कशॉप भी रखी गई थी ?

चूंकि यह एक ऐतिहासिक किरदार था इसलिये इसके लिये घुड़सवारी, तलवार बाजी सीखने के अलावा किरदार की ऐतिहासिक भारी भरकम पौशाक पहने की आदत भी डालनी थी। बाई गॉड वह बहुत ही मेहनत का काम साबित हुआ। आप इसे एक तरह से वर्कशॅाप भी कह सकते हैं । दूसरे मेरे पास यह सब सीखने के लिये बहुत कम समय था लेकिन कम वक्त में ही मैं किरदार में इतनी गहराई तक घुस चुका था कि शूटिंग के वक्त सजंय सर को किसी भी सीन में से मुझे बाहर निकालने में बहुत मशक्कत करनी पड़ती थी वंहा उनसे कई बार डांट भी खानी पड़ती थी लेकिन मैने कभी इस बात की परवाह नहीं की क्योंकि मुझे उस दिन खुशी हुई, अंत में जब संजय लीला सर ने मेरी पीठ थपथपाई तो समझ लीजिये कि उस दिन मेरी मेहनत सफल हो गई

आपने भूमिका के लिये न सिर्फ अपना सिर मुंडवा लिया, बल्कि अपना कंधा तुड़वा बैठे ?

ऐसा मेरे साथ पहली नहीं हुआ, मेरी हर फिल्म में मुझे चोटें लगती रही हैं । इसकी सबसे बड़ी वजह काम के प्रति मेरा जूनून हो सकता है। लेकिन इस फिल्म की शूटिंग के दौरान राजस्थान में एक एक्शन सीक्वेंस के समय मेरे कंधे के टूट जाने के बाद करीब एक महीने से ज्यादा मैने बहुत दर्द सहा है। डॉक्टर ने इसे एक गंभीर चोट बताते हुये कंधे का ऑपरेशन करने के लिये कहा तो उस समय मैं थोड़ा निराश हुआ लेकिन जल्द ही मैने हमेशा की तरह इस समस्या से भी निपटने के लिये अपने आपको तैयार कर लिया। सिर मुंडवाने की बात की जाये तो वह लुक के लिये जरूरी था ।

Ranveer Singh, Deepika Padukone
Ranveer Singh, Deepika Padukone

बाजीराव के गैटअप को छिपाने की क्या जरूरत रही, क्योंकि उन्हें तो सभी पहचानते हैं ?

मुझे ऐसा करने के लिये संजय लीला सर ने कहा था कि अभी अपने लुक को जितना हो सके छिपा कर रखो। इसलिये मैने अपने सिर को छिपाने के लिये हैट पहनना शुरू कर दिया। फिल्म के पहले ट्रेलर के बाद मुझ पर यह प्रतिबंध नहीं रहा।

पिछले दिनों काशी बाई और मस्तानी के एक साथ एक गाने में नाचने को लेकर काफी विवाद हुआ ?

देखिये यह सारे किरदार तीन सौ साल पुराने हैं। लिहाजा स्क्रीप्ट में हर चीज रिसर्च, पढ़ी गई बातों और सुनी गई बातों को भी शामिल किया गया है। इसलिये इस तरह की चीजों को लेकर कभी विवाद हो जाता है।

SHARE

Mayapuri