दिशा है एक शानदार पतंगबाज

1 min


‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में हमने हमेशा देखा है कि दयाबेन जेठालाल के साथ और अपने पूरे परिवार के साथ बड़े मजे के साथ मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाती है. मगर असल जीवन में हमारी दयाबें यानि दिशा वखानी का इस पर्व के बारे में क्या सोचना है? भई दिशा ने असल ज़िन्दगी में पतंग बने भी है और दूर आसमान में उड़ाई भी है.

Dayaben aka Disha Vakani

इस पर दिशा वखानी का कहना है कि “जी यह बहुत ही प्यारा पर्व है इसकी असल चमक देखनी है तो गुजरात जाइए … अहमदाबाद में इस दिन आसमान में सिर्फ और सिर्फ पतंगे ही दिखाई देती है. लोग सुबह से शाम तक छतों पर रहते है. इस दिन उन्धियों बनता है. जब मैं अहमदाबाद में थी या फिर बचपन में मैंने खुद पतंग भी बनाया है और शानदार तरीके से पतंग उड़ाती थी. अब नहीं उड़ाती हूँ क्योंकि पतंग की डोर से पंची घायल हो जाते है और वो मुझे बिलकुल पसंद नहीं है. पतंग उड़ाते समय मैं हमेशा ध्यान देती थी कि किस तरफ हवा बह रही है अगर सही दिशा में बहती थी तभी मैं पतंग उड़ाती थी. अगर हवा सही नहीं है तो आपकी पतंग उड़ेगी नहीं और हाथ भी दुखने लगेगा.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये