“रंगीला गर्ल” उर्मिला का आज जन्मदिन है

1 min


उर्मिला मातोंडकर 80 और 90 के दशक की सर्वाधिक लोकप्रिय और बिंदास अभिनेत्रियों में शुमार थी। एक दौर था, जब उर्मिला बॉलीवुड के उन चंद चेहरों में शामिल थीं, जिन्हें देख दर्शकों के चेहरे खिल जाते थे। भूमिका किसी सीधी-साधी युवती की हो, या किसी आधुनिक बिंदास बाला की उर्मिला हर किरदार में रच बस जाती हैं। आज उनके जन्मदिन पर हम आपको ऐसी ही एक यात्रा पर ले चलते हैं जिसमें हम उर्मिला जी के उन दिनों की यादों को ताज़ा करेंगे।

उर्मिला का जन्म मुंबई के एक सामान्य मराठी परिवार में चार फरवरी, 1974 को हुआ। उन्होंने अभिनय के क्षेत्र में कदम बचपन में ही रख दिया था और 1980 में आई फिल्म ‘कलयुग’ में बाल कलाकार के रूप में नजर आई थीं और फिर शेखर कपूर की 1983 में आई फिल्म ‘मासूम’ में वह अभिनेता नसीरुद्दीन शाह की बेटी पिंकी की भूमिका में भी दिखीं थीं।

uday3

उर्मिला ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरूआत सबसे पहले छोटे परदे से की। उर्मिला ने टीवी धारावाहिक ‘कथा सागर’ (1986) और ‘जिंदगी’ (1987) में भी काम किया। फिल्म अभिनेत्री के रूप में पहली बार वह 1991 में फिल्म ‘नरसिम्हा’ में नजर आई, लेकिन बॉलीवुड में असल पहचान उन्हें 1995 में रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘रंगीला’ से मिली जिसमें उन्हें देख कर सब लोग जैसे उनके दीवाने ही हो गए।  रंगीला फिल्म का टाइटल सॉन्ग “याई रे याई रे जोर लगा के नाचे रे….. बन जा रंगीला” से इन्हें एक नई पहचान मिली। इसके बाद उन्होंने वर्मा की ‘मस्त’, ‘दौड़’, ‘जंगल’, ‘भूत’ और ‘एक हसीना थी’ में काम किया। वर्ष 1997 में फिल्म ‘जुदाई’ और 1998 में ‘सत्या’ में उनके अभिनय को काफी सराहना मिली और फिल्मफेयर पुरस्कारों में नामांकन भी मिला। फिल्म ‘प्यार तूने क्या किया’ में नकारात्मक भूमिका के लिए भी उन्हें फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए नामित किया गया था।

इसके अलावा इन्होंने अपनी पर्सनेलिटी से बिल्कुल उलट फिल्म्स जैसे ‘पिंजर’, ‘तहजीब’, ‘मैंने गांधी को नहीं मारा’ और ‘बस एक पल’ जैसी गंभीर फिल्मों में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। निर्देशक सतीश कौशिक जब फिल्म ‘कर्ज’ बना रहे थे, तो खलनायिका की भूमिका के लिए कई अभिनेत्रियों के नाम पर विचार किया गया था। लेकिन कौशिक ऐसी खलनायिका चाहते थे, जो खूबसूरत होने के साथ-साथ प्रतिभाशाली भी हो और जिसके लिए उर्मिला उन्हें बिल्कुल ठीक लगी।

urmila-matondkar-wallpapers

बहुत कम लोग जानते हैं कि वह एक गायिका भी हैं। प्रतिष्ठित गायिका आशा भोंसले के संगीत एलबम के लिए उन्होंने गाना भी रिकॉर्ड किया था। अभिनय और गायन के अलावा उर्मिला मॉडलिंग के क्षेत्र में भी सक्रिय रह चुकी हैं। वह एक कुशल नृत्यांगना भी हैं।

हालांकि, अब उर्मिला पूरी तरह से लाइम लाइट से दूर हैं। 2005 से 2008 तक उन्होंने कई फिल्मों में छोटे-मोटे किरदार किए। 2008 में उनकी मुख्य भूमिका वाली फिल्म ‘कर्ज’ रिलीज हुई। इसे उर्मिला का कमबैक कहा गया, लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर असफल रही। 2015 में उनकी एक और फिल्म EMI आई। ये फिल्म भी फ्लॉप रही और इसी के साथ उर्मिला सिल्वर स्क्रीन से दूर होती चली गईं।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये