टेलीविजन की दुनिया के यह 8 एवरग्रीन धारावाहिक

1 min


भारतीय टेलीविजन अपने शुरुआती दौर से ही ऐतिहासिक, पारंपरिक, रोचक और हास्यात्मक कार्यक्रमों को अपनी श्रेणी में शामिल करता रहा है। दूरदर्शन पर एक समय में महाभारत और चंद्रकांता जैसे टीवी सीरियल लोकप्रियता के चरम पर थे। वही शक्तिमान और कैप्टन व्योम जैसे सीरियल भी रहे जिन्होंने बच्चों को अपनी ओर आकर्षित किया। 80 और 90 के दशक के बहुत सारे टी.वी धारावाहिक ऐसे थे जिनके बारे में आज भी अगर सोचते हैं तो बचपन की यादें ताजा हो जाती है। छुट्टी के दिन पूरा परिवार इन धारावाहिकों को एक साथ बैठकर देखता था और बड़ा आनंद लेता था। चलिए नजर ड़ालते है ऐसे ही धारावाहिकों पर जिसकी यादें आज भी हमारे जहन में ताजा हैं।

15mahabharat

महाभारत

ये ऐतिहासिक धारावाहिक उस समय के सुप्रसिद्ध धारावाहिकों में से एक था। जिसे पूरा परिवार एक साथ बैठकर देखता था। महाभारत सीरियल ने जमकर धूम मचाई। इस सीरियल का सबसे खास हिस्सा ‘मैं समय हूं’ था। ये कार्यक्रम लोगों के दिल-ओ-दिमाग पर गहरी छाप छोड़ने में कामयाब हुआ। बता दें कि महाभारत बी आर चोपड़ा द्वारा निर्मित और उनके पुत्र रवि चोपड़ा द्वारा निर्देशित था।

sddefault

चन्द्रकान्ता

ये सीरियल देखने के लिए बड़ी बेसब्री से रविवार की सुबह का इंतज़ार किया जाता था। देवकी नंदन खत्री के उपन्यास से निकला यह सीरियल अपने आप में बेहद लोकप्रिय रहा। चन्द्रकान्ता को एक प्रेम कथा कहा जा सकता है जिसमें राजकुमारी चंद्रकांता और राजकुमार विरेन्द्र विक्रम की प्रमुख कथा के साथ साथ ऐयार तेजसिंह तथा ऐयारा चपला की प्रेम कहानी भी चलती रहती है। इस सीरियल के किरदार क्रूर सिंह को लोगों ने काफी सराहा। क्रूर सिंह के अलावा जादुई अय्यार, पंडित जगन्नाथ, ऐसे चरित्र थे जो हर किसी की जुबान पर थे।

shaktimaan

शक्तिमान

शक्तिमान का नाम सुनकर आज भी वो सभी यादें ताजा हो जाती है जिनका अनुभव हमने बचपन के दिनों में किया। अपनी अद्भुत शक्तियों के चमत्कार से जिस तरह से वो बच्चों का मनोरंजन करते थे वो वाकई तारिफ के काबिल है। शक्तिमान के अवतार ने खासकर बच्चों को दीवाना बनाया। अभिनेता मुकेश खन्ना के जीवंत अभिनय ने इस किरदार को अमर कर दिया। सीरियल ने 400 एपिसोड सफलतापूर्वक पूरे किए और टीवी की दुनिया में छा गया। सम्राट किलविश के किरदार को भी बच्चे नहीं भूला पाए हैं।

09-malgudidays

मालगुडी डेज

ता ना ना ना न न ना की धुन से शुरू होने वाला ये कार्यक्रम 90 के दशक के बच्चों का पसंदीदा कार्यक्रम रहा इसमें दिखाई जाने वाली कहानियां यकिनन गहरा प्रभाव छोड़ती थी। लघु कहानियों पर आधारित लोकप्रिय धारावाहिक ‘मालगुडी डेज’ के रचयिता आर.के. नारायण थे। धारावाहिक में स्वामी एंड फ्रेंड्स तथा वेंडर आफ स्वीट्स जैसी लघु कथाएँ व उपन्यास शामिल थे। दूरदर्शन के धारावाहिक मालगुडी डेज की लोकप्रियता बच्चों के बीच सबसे ज्यादा थी।

vikram-betal

विक्रम और बेताल

विक्रम  और बेताल  में 25 कहानियां दिखाई गई जो कि शिक्षा प्रद होती थी वो बच्चों को दिमाग पर गहरा प्रभाव ड़ालती थी। राजा विक्रमादित्य के रोल में अरूण गोविल और बेताल के किरदार में सज्जन कुमार ने ऐसा समा बांधा कि दर्शकों के दिलों में आज भी इसकी स्मृतियां ताजा हैं।

hqdefault

राजा रेंचो

जासूसी की कहानियां आपने बहुत सुनी होगी लेकिन ऐसी नहीं कि एक जासूस अपने साथ एक अक्लमंद बंदर को रखे जो खुद भी बेहद चालाक हो वाकई इस धारावाहिक के बारे में आज भी सोचकर एक अलग ही एहसास होता है। डीडी मेट्रो पर प्रसारित होने वाले इस सीरियल में मोहन भंडारी ने राजा का किरदार अदा किया था। उस दौरान इस सीरियल को बच्चे बड़े ही चाव से देखते थे।

ti_725_2851.8807105241

श्रीमान श्रीमती

ये एक कॉमेडी सिटकॉम था जिसे पूरा परिवार एक साथ बैठकर देखता और ठहाके लगाता था। इस सीरियल में राकेश बेदी, रीमा लागू, जतिन कनाकिया और अर्चना पूरन सिंह ने मुख्या भूमिकायें निभाई थी | इस धारावाहिक में पति पत्नी की नोंक झोंक को दिखाया जाता था।

maxresdefault (3)

कैप्टन व्योम

विज्ञान की नई तकनीकों को दर्शाता ये धारावाहिक उस समय के युवाओं और बच्चों के बीच खासा लोकप्रिय रहा। 23वीं सदी की संकल्पना पर आधारित इस शो को लोगों ने, खासकर युवाओं ने खूब सराहा। ब्रह्मांड के जेल से भागे हुए सबसे खतरनाक 12 अपराधियों से लड़ने की जिम्मेदारी कैप्टन व्योम पर थी। जिसके साथ अद्भुत शक्तियों वाले योद्धाओं की एक बेमिसाल टीम थी। इस धारावाहिक में कैप्टन व्योम का किरदार मीलिंद सोमन ने अदा किया था।

 


Like it? Share with your friends!

Pankaj Namdev

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये