बीच अपार्टमेंट की वो दो सहेलियां – भानुरेखा गणेशन और जया बच्चन

1 min


Amitabh Rekha Jaya beach apartment

70 के दशक की शुरुआत में जुहू धीरे-धीरे नए लोगों का केंद्र बन रहा था, जहा देवानंद, बलराज साहनी, धर्मेंद्र, दारा सिंह, डॉक्टर रामानंद सागर , बी.आर चोपड़ा, मोहन कुमार, राकेश रोशन और जे.ओम प्रकाश जैसे दिग्गजों ने पहले ही अपने घर और अलग-अलग इमारतों में अपार्टमेंट बनाए हुए थे, जो सभी उपनगर में थे, वहा पर समुद्र तट उन घरो का एक मुख्य आकर्षण था! अली पीटर जाॅन

बीच अपार्टमेंट में कुछ खास बात रही होगी क्योंकि इस बिल्डिंग ने कई फिल्मी हस्तियों को अपनी ओर आकर्षित किया था

यह 70 के दशक की शुरुआत में था कि हरेकृष्ण मंदिर के पास एक बिल्डिंग बन गई थी, और इसे बीच अपार्टमेंट कहा जाता था। इन बिल्डिंग में कुछ खास बात रही होगी क्योंकि इस बिल्डिंग ने कई फिल्मी हस्तियों को अपनी ओर आकर्षित किया था और सबसे पहले इन विशाल अपार्टमेंट में से एक को खरीदने वाले एक बहुत लोकप्रिय और सबसे अधिक भुगतान पाने वाले डायलाॅग राइटर, इंदर राज आनंद थे जो अपनी पत्नी शम्स और बेटों टीनू और बिट्टू के साथ उसमे रहते थे। धीरे-धीरे नए लोग जो एफटीआईआई से पास आउट थे और अन्य लोगों थे, जिन्होंने इस इमारत में अपार्टमेंट खरीदे थे। और उनमें से दक्षिण भारतीय अभिनेत्री भी थीं जो खुद को हिंदी फिल्मों में लोकप्रिय बना रही थीं जिसका नाम रेखा था जो पहले ‘अजंता होटल’ नामक एक लोकप्रिय होटल में रह रही थीं। वह एक स्टार के रूप आगे बढ़ने में अपने पहले कुछ कदम उठा रही थी और फिर इस बिल्डिंग में शिफ्ट हो गई थी और तीसरी मंजिल पर उनका खुद का एक फ्लैट था। उसी समय, एफटीआईआई से पास आउट हुई जया भादुड़ी फिल्मों में आई थी, जिन्होंने अपनी पहली हिंदी फिल्म, ‘गुड्डी’ के साथ खुद को स्थापित किया था!

Amitabh Rekha Jaya Beach apartment

रेखा और जया धीरे-धीरे आपस में सबसे अच्छी दोस्त बन गए थे और अपने करियर के बारे में नोट्स एक्सचेंज किया करते थे। उनका एक कॉमन फ्रेंड था जिसे असरानी कहा जाता था। वे एक साथ शूटिंग पर जाती थी। उनकी दोस्ती मजबूत बनी रही और रेखा और जया के बीच कि यह दोस्ती इंडस्ट्री और मीडिया के बिच एक गॉसिप का विषय थी!

Amitabh Rekha Jaya

जया का अमिताभ बच्चन नामक एक संघर्षरत व्यक्ति सबसे अच्छा दोस्त था और वह उनसे मिलने आती रहती थी और वह उन्हें उन अलग-अलग शूटिंग में ले जाती थी जहाँ वह एक स्टार थी। अमिताभ को अभी अपना एक मुकाम बनाना था और उन्होंने बीच अपार्टमेंट में रहने वाले अपने करीबी दोस्तों से समर्थन की मांग की थी। उन्होंने उन दिनों रेखा से मुलाकात नहीं की और जया और अमिताभ की दोस्ती एक प्रेम कहानी में बदल गई और आखिरकार दोनों ने साथ में पांच से अधिक फिल्मों में काम भी किया जो दुर्भाग्य से अमिताभ के करियर को आगे बढ़ाने में काम नहीं आई लेकिन अमिताभ की असफलता ने उनके आपसी रिश्ते को प्रभावित नहीं किया था!

अमिताभ और जया के बीच विवाह के बाद और जया स्वाभाविक रूप से बीच अपार्टमेंट से अमिताभ के बंगले में शिफ्ट हो गईं

Amitabh Rekha Jaya

नियति ने फिर एक अजीब खेल खेला और अमिताभ ने अपनी 11 फ्लॉप फिल्में देने के बाद ‘जंजीर’ फिल्म के साथ स्टारडम पाया, जिसके लिए जया ने सिफारिश और उनका समर्थन किया था। जो इस फिल्म की नायिका भी थीं और ‘जंजीर’ ने अमिताभ बच्चन नामक संघर्षशील अभिनेता की कहानी के सिलसिले को बदल दिया था। अमिताभ और जया के बीच विवाह के बाद और जया स्वाभाविक रूप से बीच अपार्टमेंट से अमिताभ के बंगले में शिफ्ट हो गईं और रेखा इतनी सफल रहीं कि उन्होंने बांद्रा में समुद्र के सामने अपना खुद बंगला खरीदा। उनका समय आया जब जया-अमिताभ के साथ तीन या चार फिल्में कर रही थीं, और उसी समय अमिताभ ने रेखा के साथ एक बहुत लोकप्रिय और सफल टीम बनाई थी। जया ने अपनी शादी के बाद फिल्मों से किनारा कर लिया था और इस बीच अमिताभ और रेखा करीब आए और इससे बीच अपार्टमेंट कि दो दोस्तों की दोस्ती में एक दरार पैदा हुई और अमिताभ और रेखा का रिश्ता देश के हर नुक्कड़ और यहां तक कि विदेशों में चर्चा का सबसे गर्म विषय बन गया था!

वे सोच रहे होंगे कि उनके प्यारे पड़ोसी कैसे यहाँ से चले गए और दुनिया को अपने तरीके से जीत लिया

Amitabh Rekha Jaya

यह बीच अपार्टमेंट के दो सबसे अच्छे दोस्तों के बीच एक युद्ध की तरह था और आज पैंतीस से अधिक वर्षों के बाद भी यह युद्ध जारी है। कुछ विशेषज्ञों का दावा है कि अमिताभ और रेखा अब भी एक दुसरे से बहुत प्यार करते हैं जबकि जया संसद की सदस्य हैं जो कंगना रनौत और अन्य द्वारा दिए जा रहे बयानों का जवाब देने के लिए संसद में हाल ही में लड़ी गई लड़ाई जैसे मुद्दों पर लड़ने में व्यस्त हैं!

बीच अपार्टमेंट के दूसरे दोस्त असरानी और शेखर कपूर अभी भी बीच अपार्टमेंट्स में रह रहे हैं जो अब एफटीआईआई के प्रमुख और इंदर राज आनंद के परिवार का हिस्सा हैं और वे सोच रहे होंगे कि उनके प्यारे पड़ोसी कैसे यहाँ से चले गए और दुनिया को अपने तरीके से जीत लिया!

अनु-छवि शर्मा

Mayapuri