इन कारणों से हिट हुई फिल्म ‘बाजीराव मस्तानी’  

1 min


बॉलीवुड में अलग ही फिल्मों के लिए पहचाने जाने वाले फिल्मकार संजय लीला भंसाली एक बार फिर से कुछ ऐसा लेकर आए है जिसका जादू दर्शकों के सिर चढ़कर बोल रहा है। हम बात कर रहे हैं उनकी हालिया रिलीज फिल्म ‘बाजीराव मस्तानी’ की, इस फिल्म की जितनी तारिफ की जाए शायद उतनी कम होगी। इस फिल्म से पहले संजय लीला भंसाली बॉलीवुड में हम दिल दे चुके सनम, देवदास और रामलीला जैसी फिल्में लेकर आ चुके हैं। ‘बाजीराव मस्तानी’ को वो अपना सालों का सपना बताते हैं ये फिल्म मराठा पेशवा बाजीराव की प्रेम कहानी है और इसमें वो सारी चीजें उन दर्शकों को मिलेंगी जो ऐसी फिल्मों के शौकिन है। वहीं हम आपको इस फिल्म से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं, जो इस फिल्म के हिट होने की बड़ी वजह हैं।

bajirao

ऐतिहासिक कहानी

अठारहवीं सदी के मराठा नायक बाजीराव पेशवा और बुंदेला राजा छत्रसाल की बेटी मस्तानी के रिश्तों को आधार बनाकर फिल्म का ताना बाना बुना गया है। बाजीराव जो कि शादी शुदा होते हुए भी मस्तानी के प्रेम में पड़ जाता है और उसे पत्नी का दर्जा देना चाहता है। ये न तो बाजीराव की मां को नागवार गुजरता है न अन्य संबंधियों को। दोनों ही एक दूसरे से बहुत ज्यादा प्यार करने लगते हैं। ऐसा प्यार जिसे अस्वीकार किया नहीं जा सकता और स्वीकार करना बेहद मुश्किल है वहीं काशी इन दोनों को बीच झूलती है। ऐसे ही कई और जज्बाती किनारों को छूती ‘बाजीराव मस्तानी’ पहलुओं को दर्शाती है।

baji rao mastani

कलाकारों का चयन  

बाजीराव के किरदार में रणवीर सिंह ने, मस्तानी के किरदार में दीपिका ने और काशीबाई के किरदार में प्रियंका चोपड़ा ने 100 प्रतिशत देने की कोशिश की है। रणवीर ने पूरी तरह से बाजीराव के किरदार के साथ न्याय किया है वो जिस तरह से भावों को पकड़ते हैं वो भी देखने लायक है। बाजीराव की पत्नी बनी प्रियंका की स्क्रिन टाइमिंग भले ही कम हो, लेकिन कम समय में ही वो प्रभावशाली नजर आयीं। मस्तानी की भूमिका में दीपिका की जहां तक बात की जाए तो उन्होंने एक अभिनेत्री होने पर अपने किरदार पर काफी मेहनत की है जहां एक तरफ वो युद्ध के मैदान में अपनी बहादुरी दिखाती है तो दूसरी तरफ बाजीराव के लिए पूरी तरह समर्पित है।

deewani mastani

भव्य सेट

संजय लीला भसांली की पहचान ही बॉलीवुड में एक ऐसे फिल्मकार के रूप में होती जो हटकर फिल्में बनाते हैं। इस फिल्म में भी उन्होंने उस फैक्टर को बरकरार रखा है। कलाकारों के कास्ट्यूम से लेकर लोकेशंस तक सब कुछ दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा था। इन सब चीजों से उपर संजय लीला के फिल्मांकन ने चार चांद लगा दिए। भंसाली ने जिस तरह से फिल्म में गाने के दृश्यों को सजाया है वो किसी शानदार पेंटिग से कम नहीं है और दृश्कों को वो एक अलग ही दूनिया में ले जाते हैं या यूं कहे की दर्शक अपने आप ही ऐसी चीज़ों की ओर खिंचा चला जाता है।

bajirao peshwa

12 साल की मेहनत  

सालों से इस प्रोजेक्ट में लगे संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म में लिए न जानें कितने ही कलाकारों के नाम पर विचार किया उनमें सलमान खान ऐश्वर्या राय, कैटरीना और अजय देवगन जैसे नाम शामिल है। सालों के उनके इस सपने में आपको जंग, जुनून और मोहब्बत सब एक साथ देखने को मिलेगा। दमदार डायलॉग्स और बेहतरीन अदायगी से सजी ये फिल्म भारतीय सिनेमा की शानदार फिल्मों में से एक है। कई मौकों पर संजय लीला भंसाली इस बात का जिक्र भी कर चुके हैं कि ये फिल्म उनके दिल के बेहद करीब है और वो इस सपने के साथ कई सालो तक जिए हैं। अब जबकि ये फिल्म काफी प्रशंसा बटोर रही है और फिल्म बॉक्स ऑफिस पर काफी अच्छा कलेक्शन भी कर रही है तो हम ये कह सकते हैं कि सहीं मायनों में संजय लीला भसांली का सपना सच हो गया है।

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये