कुछ कल कि बातें, कुछ आज कि बातें – शेख मुजीबुर रेहमान

1 min


वर्ष 1971 में, दो नाम थे जिन्होंने एक सनसनी पैदा की थी जिसके कारण एक नए देश का निर्माण हुआ था। वे श्रीमती इंदिरा गाँधी और शेख मुजीबुर रेहमान (फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ के अलावा) थे। श्रीमती गाँधी एक महान लीजेंड बन गई और मुजीबुर्रहमान बंग्लादेश के पहले प्रधानमंत्री थे और देश पर तब तक राज़ किया, जब तक कि उनके परिवार के साथ और उनके ही घर में उनकी बेरहमी से हत्या नहीं कर दी गई थी। वह बंगलादेश और उनके लोगों के पहले मान्यता प्राप्त नायक थे और उन्हें “बंगा बंधु” के रूप में जाना जाता था।

मुजीबुर्रहमान सौ साल के होते अगर वह इस समय जिंदा होते, जब उनकी खुद की बेटी, शेख हसीना बंग्लादेश की रूलिंग प्राइम मिनिस्टर हैं और देश में एक व्यापक बदलाव ला रही है, जिसके लिए उन्होंने अपना सारा जीवन समर्पित कर दिया हैं।

मैं उस ऐतिहासिक अतीत में क्यों जा रहा हूँ? मेरे पास इसका एक बहुत मजबूत कारण है। मुजीबुर्रहमान का जीवन और समय अब उनकी शताब्दी के साथ मेल करने के लिए दो बड़ी फिल्मों में परिवर्तित हो रहा है, जो एक राष्ट्रीय स्तर पर और दूसरा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बनाई जाएगी। पहली फिल्म को भारत के एक 80 वर्षीय निर्देशक द्वारा निर्देशित किया जाएगा जिसने पिछले पचास वर्षों के दौरान कुछ क्लासिक्स बनाई हैं। मैं आपको अभी उनका नाम नहीं बता सकता हूं क्योंकि मेने उनसे नाम न बताने का वादा किया है, लेकिन मैं आपसे वादा करता हूं की उनका नाम आपको बताने वाला मैं पहला शक्स होंगा।

महान निर्देशक द्वारा बनाई जा रही इस फिल्म की शूटिंग पहले ही मुंबई में शुरू हो चुकी है और फिल्म निर्माता जल्द उस अभिनेता के नाम का खुलासा करगे जो अगले दो सप्ताह के भीतर मुजीबुर्रहमान की भूमिका निभाएगा।

इस तरह की ओर अधिक और अन्य प्रकार की कहानियों को जानने के लिए इस कॉलम से जुड़े रहें।

अनु- छवि शर्मा

 

SHARE

Mayapuri