नही रहा बॉलीवुड का मुस्कुराता चेहरा विनोद खन्ना

1 min


विनोद खन्ना बॉलीवुड के हैंडसम स्टाइलिश एक्टर विनोद खन्ना का लम्बी बीमारी के चलते निधन हो गया है। वे 70 साल के थे। गुरुवार सुबह विनोद खन्ना ने गिरगांव के एचएन रिलायंस फाउंडेशन एंड रिसर्च सेंटर में आखिरी सांस ली। विनोद खन्ना लंबे समय से ब्लैडर कैंसर (मूत्राशय कैंसर) से पीड़ित थे।

विनोद खन्ना का जन्म एक बिजनेस फैमिली में 6 अक्टूबर,1946 को पेशावर (अब पाकिस्तान) में हुआ था उनके माता-पिता का नाम कमला और किशनचंद खन्ना था। विनोद खन्ना ने मुंबई में सेंट मैरी स्कूल और दिल्ली में सेंट जेवियर्स हाई स्कूल तथा दिल्ली पब्लिक स्कूल में पढ़ाई की. इसके बाद उन्होंने नासिक के बार्नेस स्कूल में अपनी पढाई पूरी की. उन्होंने मुंबई के सिद्धेहम कॉलेज से बीकॉम में किया।

विनोद खन्ना ने अपने करियर की शुरूआत 1968 में आई फिल्म मन का मीत से की थी। उन्होंने ‘मेरे अपने’, ‘कुर्बानी’, ‘पूरब और पश्चिम’, अमर अकबर एंथोनी, द वर्निंग ट्रेन, दयावान, ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘इम्तिहान’, ‘इनकार’, ‘रेशमा और शेरा’, ‘हाथ की सफाई’, ‘हेरा फेरी’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’ जैसी कई शानदार फिल्में की हैं। विनोद खन्ना का नाम ऐसे एक्टर्स में शुमार था जिन्होंने शुरुआत तो विलेन के किरदार से की थी लेकिन बाद में हीरो बन गए। विनोद खन्ना जब वह अपनी लोकप्रियता के चरम पर थे, उस दौर में उन्होंने अभिनय छोड़कर पुणे में आचार्य रजनीश (ओशो) के आश्रम में जाकर आध्यात्मिक जीवन शुरू कर दिया। वह साल 1982 था। हालांकि अस्सी के दशक के आखिर में वह फिर सिनेमा की ओर लौटे और ‘इंसाफ’ तथा ‘सत्यमेव जयते’ जैसी फिल्मों से सफलता हासिल की। विनोद खन्ना आखिरी बार शाहरुख खान के साथ फिल्म दिलवाले में नजर आए थे। 47 साल के करियर में विनोद ने 141 फिल्मों अपने अभिनय का लोहा दुनिया को मनवाया।

विनोद खन्ना अभिनेता होने के साथ-साथ राजनीति में सक्रिय रहे वर्ष 1997 और 1999 में वे दो बार पंजाब के गुरदासपुर क्षेत्र से भाजपा की ओर से सांसद चुने गए। 2002 में वे संस्कृति और पर्यटन के केन्द्रिय मंत्री भी रहे। सिर्फ 6 माह पश्चात् ही उनको अति महत्वपूर्ण विदेश मामलों के मंत्रालय में राज्य मंत्री बना दिया गया।

विनोद की पहली शादी 1971 में गीतांजली से हुई थी. पहली शादी से दो बेटे राहुल खन्ना और अक्षय खन्ना हैं. ओशो के अनुनायी बनने के बाद परिवार से दूरी बन गई और उनकी पहली शादी टूट गई. फिर दोबारा फिल्मी करियर शुरू करने के बाद विनोद ने 1990 में कविता से शादी की. दूसरी शादी से उनके एक बेटा साक्षी और एक बेटी श्रद्धा हैं। मायापुरी परिवार विनोद खन्ना के निधन पर भावभीनी श्रदांजलि अर्पित करता है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये