पर्दे के पीछे: किरण कुमार कोई फर्क नही पड़ा

1 min


मायापुरी अंक, 57, 1975

बेचारा किरन रेखा के साथ संबंध रखने के कारण खबरों में जरूर रहा लेकिन करियर में कोई फर्क नही पड़ा हालांकि उसके सेक्रेट्री ने कई निर्माताओं को इशारा भी किया अगर किरण को लेंगे तो रेखा आ सकती है। मैं नही जानता किसी निर्माता ने दोनों को क्यों नही लिया, शायद रेखा ने इंकार कर दिया होगा, रेखा अपने प्यार और व्यापार को अलग ही रखती है। इसीलिए आज वह कामयाब है, नही तो योगिता बाली की तरह किरण के फ्री लव जैसी बंडल फिल्मों में काम करके रिटायर होने की सोच रही होती या फिर किसी बड़ी उम्र के पैसे वाले इंसान से शादी कर रही होती।

उस दिन रेखा किरन सैन्चूयर होटल में इकट्ठे दिखाई दिये। मुझे एक बात समझ में नही आती। इन दोनों में से जब भी कोई अकेला मिलता है तो मुझे हैलो जरूर कहता है, लेकिन जब दोनों इकट्ठे होते है तो पास से ऐसे निकल जायेंगे जैसे बिल्कुल अजनबी हो, प्यार अंधा तो होता है, लेकिन ऐसे नही।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये