INTERVIEW: पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जासूसी करना चाहूंगी – तापसी पन्नू

1 min


लिपिका वर्मा

तापसी पन्नू इन दिनों अपनी रिलीज के लिए तैयार फिल्म ‘नाम शबाना’ के प्रमोशन में जुटी हुई  हैं। तापसी ने बहुत ही कम समय में बॉलीवुड में अपना नाम और पैर भी जमा लिया है। लिपिक वर्मा से ढेर सारी बातें भी की और अपने आप को एक बायोपिक में देखना चाहेंगी।…केवल एक महिला की जिंदगी के इर्द गिर्द भी रहेना चाहती  तापसी 70 के ढक में जिंदा होती तो ?? अब यह बायॉपिक किस की है? तो सुनिये तापसी की जुबानी  कि वह किस महिला की बायोपिक करने  में दिलचस्पी रखती है-पर्दे पर अपने आप को किस की बायोपिक कर पेश करना चाहेंगी?

यदि कोई बायोपिक किसी व्यक्ति विशेष हो तो कौन सी करना चाहेगी?

मैं परदे पर इंदिरा गांधी बनना चाहती हूं। पूर्व प्रधानमन्त्री इंदिरा गांधी की बायॉपिक यदि कभी बने तो मैं इंदिरा गांधी का किरदार निभाना चाहूँगी। और कौन नहीं चाहेगा इंदिरा गांधी का किरदार निभाना? मुझे लगता है कि-इंदिरा गांधी के जीवन पर एक नहीं बल्कि फिल्मों की एक पूरी सीरीज बनानी होगी । इंदिरा जी की लाइफ के प्रत्येक पहलू को अच्छी तरह जानने और समझने के लिए एक फिल्म से काम नहीं चलेगा। उनकी लाइफ पर जो भी फिल्म लिखेगा उसे भी बहुत मुश्किल होगी क्योंकि बहुत सारी जानकारियों एक साथ देनी होगी उसे। उनके जीवन की शुरआती दौर से  एमर्जेंसी तक का सफर और फिर उनके मर जाने तक की कहानी अत्यंत रुचिपूर्ण है।taapsee_interview

 नाम शबाना’ में आपकी भूमिका क्या है और यदि किसी की जासूसी करना चाहो तो वह कौन व्यक्ति विशेष होगा या होगी?

एक तेज-तर्रार महिला जासूस के किरदार में नजर आउंगी मैं। रियल लाइफ में -मैं  किसी की जासूसी नहीं कर पाती  हूँ। शायद इसलिए की मुझे किसी के बारे में जानने के लिए समय बर्बाद नहीं करना है। और में कुछ परफेक्ट स्पाई भी नहीं हूँ। लेकिन हां, अगर मुझे रियल लाइफ में किसी की जासूसी करने को कहा जाए और मैं यदि 70 के दशक में जिंदा होती तो-मैं अपने देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जासूसी करना चाहूंगी। इंदिरा गांधीकी जिंदगी में इतने उतार-चढ़ाव रहे हैं कि मैं उनके बारे में सब कुछ जानना चाहूंगी। मैं इंदिरा गांधी के आसपास घूमती रहती। इतिहास में जितना ज्यादा इंदिरा गांधी के बारे में जानना चाहूंगी उतना किसी और के बारे में नहीं। इंदिरा हर एक दो साल में एक नए रूप में उभर कर आती रही है, फिर चाहे उनका राजनीति में आना हो, राजनीति में आकर शासन करना हो, आपातकाल हो या फिर उनकी शादी शुदा जिंदगी हो, उनकी जिंदगी बहुत सी रोचक प्रसंगों से जुड़ी रही है।tappsee

 किरदार के लिए क्या कुछ तैयारी करनी पड़ी आपको?

फिल्म ‘नाम शबाना’ के लिए उन्होंने महिला जासूस की बॉडी लैंग्वेज सीखी। फिल्म ‘बेबी’ के साथ जो ट्रेनिंग शुरू हुई वह इस फिल्म के साथ भी जारी रही। इस फिल्म के लिए मार्शल आर्ट्स भी सिखा है मैंने। एक ही समय पर कई काम करना महिला जासूस की खूबी होती है। उनका सिक्स सेंस बहुत अच्छा होता है। इन सभी चीजों पर ध्यान दिया। वही फिल्म में एक्शन रियल होगा जिन्हें शूट करते वक्त कई बार चोट भी लगी।

तापसी पन्नू  लड़कियों से क्या  कहना चाहेगी ?

अब वह समय चला गया है कि लड़कियां यह किसी से उम्मीद करें कि उसे मेरी मदद करनी चाहिए थी। उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था। मैंने शिकायत की पर कुछ नहीं हुआ। इंसाफ नही मिला। अब यह सब करके हमने देख लिया है और अब हम थक गए है। मैं यही सलाह देना चाहूँगी  सब लड़कियों को-आप अपने आप खुद ही हीरो बनो-बी योर ओन हीरो,, किसी से उम्मीद करना की कोई आ कर तुम्हारी मदद करेगा इसकी उम्मीद रखने की कोई जरूरत नहीं  है। अब अपनी सुरक्षा अपने हाथों में ही है।taapsee_naam shabana azmi

 अक्षय के साथ जो कोनी मार वीडियो आप ने शेयर किया है उस बारे में प्रकाश डाले ?

अक्षय कुमार और मैंने जो भी बात की है। वह इसी बात की पुष्ठि करता है-हम कमजोर नहीं है। अगर एक सही किक सही जगह पर मारी जाए, तो परिस्थिति को बदला जा सकता है। लेकिन मैं समझ सकती हूं-कि उस वक्त दिमाग काम नहीं करता की मेरे साथ क्या हो गया। दिमाग सून पैनिक, मोड़ में जाकर फ्रीज हो जाता है। रिएक्शन नहीं हो पाने के कारण ही लोग फायदा उठा लेते है। हमें अपनी प्रतिक्रिया और समय को बेहतर बनाना चाहिए। ताकि विप्पत्ति में परिस्थिति को तुरंत संभाला जा सकें।

फिल्म ‘नाम शबाना’ में महिला जासूस का किरदार निभा रही है फिल्म अभिनेत्री तापसी पन्नू। फिल्म ‘नाम शबाना’ फिल्म ‘बेबी’ का प्रीक्वल है। इस फिल्म का निर्देशन भी नीरज पांडे ने किया है।   फिल्म ‘नाम शबाना’ 31 मार्च को रिलीज हो रही है।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये