फिल्मी दुनिया का भविष्य क्या और कैसा होगा ?

1 min


इस वक्त कोरोनावायरस की चपेट में पूरी दुनिया है। भारत में लॉकडाऊन है और इसके चलते फिल्म इंडस्ट्री पूरी तरह से ठप पड़ी है। ऐसे में कोरोना का क्या असर और कितना असर बॉलीवुड की फिल्मी दुनिया पर होने वाला है। ये जानिए फिल्म इंडस्ट्री से पिछले 50 सालों से जुड़े खास शख्स राजू कारीया की इस रिपोर्ट में –

कोरोनावायरस एक ऐसी भयंकर महामारी लेकर आया है जिससे समस्त विश्व की व्यापार स्थिति नीचे से लेकर ऊपर तक बुरी तरह से लड़खड़ा गई है। इस महासंकट से विश्व अब कब उबरेगा किसी को पता भी नही है? 2020 में पूरी दुनिया इस बीमारी के आगे झुकती नजर आ रही है किसी को भी नहीं पता कि इस महामारी में आगे की परिस्थिति का अंजाम क्या होगा?

कुछ जानकारों का कहना हैं कि हिंदुस्तान की ही नहीं बल्कि विश्व भी आर्थिक मंदी के महा दौर में है कुछ भी पता नहीं कि इससे उबरने का कैसे रास्ता निकाला जाए.

लॉकडाउन की वजह से सभी के सभी व्यवसायों पर पिछले कुछ समय से अनिश्चित समय के लिये ताले लग गये हैं. शहर के समस्त मज़दूर वर्ग भुखमरी और आर्थिक अनिश्चितता के कारण महानगर का त्याग करके फिर से शहरों में ना रुकने की कसम खाकर अपने अपने गाँव की तरफ बड़ी बेरुखी से होकर वापस लौट रहे हैं।

मैं बॉलीवुड में पिछले 50 साल से अपने कार्यक्षेत्र में सक्रिय हूँ मैंने भी फिल्मी दुनिया में कई उतार चढ़ाव देखे हैं. पिछले 15 सालों में जिस रफ्तार और तेजी से तरक्की की थी. लगता है फिल्मी दुनिया की ये रफ्तार अब एक इतिहास बनकर ही ना रह जाये.

क्या अब किसी को ऐसा लगता है कि जो फिल्म एक साथ समस्त विश्व में 5 हजार सिनेमा हॉल में रिलीज होती थी, वैसी अब हो पायेगी ? हर स्टार और फिल्म सौ करोड़ के क्लब में शामिल होने की रेस में लगी होती थी। क्या भविष्य में अब ऐसा होना मुमकिन नजर रहा है?

  • क्या अब भविष्य मे फिर से हिंदुस्तान में कोई फिल्म निर्माता 200-300 करोड़ की फिल्म बनाने की हिम्मत जुटा पायेगा ?
  • क्या अब भी भविष्य में विदेशों की कॉर्पोरेट कंपनियां हिंदुस्तानी फिल्म कंपनियों के साथ साझेदारी करेगी ?
  • क्या अब कोई हिंदुस्तानी हीरो खुद की जेब से 200-300 करोड़ इनवेस्ट करेगा?
  • अगर कोई हिम्मत करके फिल्म बना भी लेता है तो क्या उसे, उस फिल्म की फिलहाल रिकवरी होते हुए नजर आती है क्या?

लगता है कि 60 और 70वें दशक का जमाना एक बार फिर से लौट आयेगा.

फिर से 2 या 3  करोड की फिल्म बनेंगी.

लैब लैटर का दौर फिर से लौट आयेगा.

टी.वी सीरियल के हीरो और न्युकमर आर्टिस्ट अब बड़े पर्दे पर एक साथ एक्टिंग करते नजर आयेंगे.

ऐसा सपना मैंने कल रात को सुबह-सुबह देखा. कहते हैं कि सुबह का देखा सपना अक्सर सच होता है .


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये